केरल सीपीएम ने तोड़ी चुप्पी, पेशेवर कॉलेजों में युवाओं को आतंकवाद की तरफ ढकेलने की कोशिश

केरल सीपीएम का कहना है कि पेशेवर कॉलेजों में युवाओं को आतंकवाद की तरफ ढकेलने की कोशिश हो रही है। सीपीएम के इस बयान पर विपक्ष हमलावर हो गया है।

kerala, proffisional college, kerala cpm, terrorism, bjp
केरल सीपीएम ने तोड़ी चुप्पी, पेशेवर कॉलेजों में युवाओं को आतंकवाद की तरफ ढकेलने की कोशिश 
मुख्य बातें
  • केरल सीपीएम के नोट में जिक्र, पेशेवर कॉलेजों में युवाओं को आतंकवाद की तरफ ढकेलने की कोशिश
  • केरल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष ने इस तरह के नोट को गंभीर बताया
  • 'केरल सरकार इस मुद्दे पर अपनी राय जनता के सामने रखे'

सीपीएम ने आखिरकार चुप्पी तोड़ी और एक नोट के माध्यम से एक चौंकाने वाला खुलासा किया है कि राज्य में पेशेवर कॉलेजों में युवाओं को आतंकवाद के रास्ते पर ढकेलने की कोशिश की जा रहा है। पार्टी द्वारा विभिन्न पार्टी सम्मेलनों में उद्घाटन भाषण के संबंध में पार्टी द्वारा अपने नेताओं के लिए तैयार किए गए नोट में उप-शीर्षक 'अल्पसंख्यक सांप्रदायिकता' के तहत टिप्पणी की गई है। 

पेशेवर कॉलेज के युवाओं को बरगलाने की कोशिश
नोट में कहा गया है कि पेशेवर कॉलेजों में शिक्षित युवतियों को उग्रवाद की ओर आकर्षित करने के लिए एक सचेत प्रयास किया जा रहा है। नोट में मांग की गई है कि पार्टी के सदस्य इस मामले पर विशेष ध्यान दें। संघ परिवार की गतिविधियों ने अल्पसंख्यकों में असुरक्षा पैदा कर दी है। चरमपंथी सभी मुस्लिम संगठनों में घुसपैठ करने और समस्याएं पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं।

केरल सीपीएम ने तोड़ी चुप्पी
इस्लामिक स्टेट के लिए काम करने वाली जमात-ए-इस्लामी भी युवाओं को लुभाने का प्रयास कर रही है। जब मुस्लिम समुदाय और आम जनता में अपनी वैचारिक जड़ें फैलाने की बात आती हैय़  नोट में यह भी कहा गया है कि ईसाई समुदाय का एक छोटा वर्ग जो आम तौर पर सांप्रदायिक विचारधाराओं के अधीन नहीं है। इस तरह की गतिविधियों में भी शामिल है और ईसाई समुदाय को मुस्लिम समुदाय के खिलाफ करने के लिए सचेत प्रयास कर रहे हैं।

नेता प्रतिपक्ष ने पूछे सवाल
केरल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष वीडी सतीशन ने कहा कि सीपीएम के नोट में जो बात कही गई है बहुत ही गंभीर बयान है. इस समय राज्य में सीपीएम की सरकार है, मैं अभी इस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता। मुझे यह जानने की जरूरत है कि उन्होंने यह किस आधार पर कहा है। क्या उनके पास इसका समर्थन करने के लिए पर्याप्त सबूत और आंकड़े हैं? क्या इसके आधार पर कोई मामला दर्ज किया गया है। ये सब, सीपीएम नेताओं को समझाना चाहिए।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर