क्या इस तरह हाईकमान पर दबाव बना रहे हैं कर्नाटक CM? संतों ने कहा- येदियुरप्पा को हटाया तो BJP खत्म हो जाएगी

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुप्पा को संतों का समर्थन मिल रहा है। उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री के पद से हटाया गया तो कर्नाटक में भाजपा को राजनीतिक दुष्परिणाम भुगतने पड़ेंगे।

BS Yediyurappa
येदियुरप्पा को विभिन्न मठों के संतों का समर्थन मिला  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • विभिन्न समुदायों के संतों के प्रतिनिधिमंडल ने येदियुरप्पा ने मुलाकात की
  • मुझे पार्टी आलाकमान के निर्णय का पालन करना ही होगा: येदियुरप्पा
  • दिंगालेश्वर स्वामी ने कहा- बदलाव की जरूरत ही क्या है?

नई दिल्ली: कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों के बीच मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को लिंगायत समुदाय के वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं और राज्य के विभिन्न मठों के संतों का समर्थन मिला है। पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता एम बी पाटिल ने कहा कि लिंगायत समुदाय भाजपा के केंद्रीय नेताओं से नाराज होगा यदि वे अपने मजबूत नेता येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद से हटाते हैं। लिंगायत समुदाय से ताल्लुक रखने वाले पाटिल ने कहा, 'यह मेरा व्यक्तिगत विचार है कि भाजपा को येदियुरप्पा की उम्र और राज्य में योगदान को देखते हुए गरिमा और सम्मान के साथ आचरण करना चाहिए।'

दावणगेरे (दक्षिण) के कांग्रेस विधायक शमनूर शिवशंकरप्पा ने भाजपा आलाकमान से येदियुरप्पा के साथ बने रहने का आग्रह किया। अखिल भारतीय वीरशैव महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवशंकरप्पा ने भाजपा को चेतावनी दी कि अगर उन्हें पद छोड़ने के लिए मजबूर किया गया तो वह येदियुरप्पा के साथ खड़े होंगे। 

इसके अलावा मंगलवार को विभिन्न मठों के संतों के एक प्रतिनिधिमंडल ने येदियुरप्पा से उनके सरकारी आवास पर मुलाकात की। चित्रदुर्ग स्थित श्री जगद्गुरु मुरुगराजेंद्र मठ के प्रमुख शिवमूर्ति मुरुघा शरणारू ने मंगलवार को एक बयान में भाजपा को चेतावनी दी कि अगर येदियुरप्पा को हटाया गया तो पार्टी को बड़े परिणाम भुगतने होंगे। मुरुघा शरणारू ने कहा, 'येदियुरप्पा उन महान राजनेताओं में से हैं जिन्हें राज्य ने देखा है, और वह एक ताकत हैं। येदियुरप्पा के कारण भाजपा दक्षिण भारत में चुनाव जीतने और कर्नाटक में एक स्थिर सरकार बनाने में सक्षम थी।' 

डिंगलेश्वर स्वामीजी ने कहा कि सीएम ने कहा कि वह कुछ ज्यादा कहने की स्थिति में नहीं हैं लेकिन हाईकमान जो भी फैसला लेगा, उसके आगे सिर झुकाएंगे। लेकिन मठ प्रमुखों की चिंता यह है कि इस राज्य में अगर बीजेपी सत्ता में है तो यह बीएस येदियुरप्पा और उनके करीबी अधीनस्थों के प्रयासों के कारण है। पहले भी उन्होंने उन्हें अपना कार्यकाल पूरा नहीं करने दिया गया था। यह दर्द आज भी हर कोई महसूस करता है। अगर बीएस येदियुरप्पा को बदला गया तो राज्य में बीजेपी खत्म हो जाएगी। यह सिर्फ हम ही नहीं बल्कि लोगों की भी आवाज कह रहे हैं। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times Now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़, Facebook, Twitter और Instagram पर फॉलो करें.

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर