कर्नाटक के मंदिरों में लागू होगा ड्रेस कोड? सरकारी निकाय जल्द ही सामने रखेगा सिफारिशें 

कर्नाटक में एक सरकारी निकाय राज्य के अधिकांश मंदिरों में एक ड्रेस कोड पेश करने पर विचार कर रहा है और ये सिफारिशें जल्द ही कैबिनेट के सामने आ सकती हैं।

Karnataka likly to introduce a dress code at most temples in the state
कर्नाटक के मंदिरों में लागू होगा ड्रेस कोड? जल्द होगा फैसला! (प्रतीकात्मक तस्वीर)  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • कर्नाटक के के मंदिरों में जल्द लागू हो सकता है ड्रेस कोड
  • राज्य के कुछ मंदिरों में पहले से ही लागू है ड्रेस कोड
  • सरकार को सौंपी जाएगी मंदिरों में ड्रेस कोड का पालन करने के संबंध में एक विस्तृत योजना

बेंगलुरु: हाल ही में दक्षिण कन्नड़ जिले के कतील दुर्गापरमेश्वरी मंदिर और पोलाली राजराजेश्वरी मंदिर में एक ड्रेस कोड लागू किया गया था। इन मंदिरों में फ्लेक्स पोस्टर देखे गए थे जिनमें भक्तों को मंदिर परिसर में प्रवेश करते समय एक विशेष ड्रेस कोड का पालन करने की सलाह दी गई थी। पोलाली मंदिर के बैनर पर कर्नाटक सरकार का लोगो है और इसे हिंदू धार्मिक संस्थानों और धर्मार्थ बंदोबस्ती विभाग के नाम से छापा गया है।

मंदिरों में लगाया गया था बैनर

यह बैनर मंदिरों के प्रवेश द्वार पर लगाया गया है और भक्तों को मंदिर में प्रवेश करने के लिए पारंपरिक भारतीय कपड़े पहनने की सलाह दी गई है। इस बारे में निर्णय कर्नाटक राज्य धार्मिक परिषद द्वारा द्वारा लिया गया जो एक सरकारी धार्मिक निकाय है और यह सरकार द्वारा नियंत्रित मंदिरों से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर सिफारिशें भेजती हैं। परिषद के सूत्रों ने टाइम्स नाउ को बताया है कि जल्द ही मंदिरों में ड्रेस कोड का पालन करने के संबंध में एक विस्तृत योजना सरकार को सौंपी जाएगी। उन्होंने यह भी दावा किया है कि यह भक्तों के लिए एक सलाह के रूप में अधिक होगा।

लागू होगा ड्रेस कोड

 कतील मंदिर के मुख्य पुजारी, हरिनारायण असरन्ना ने बताया, 'हमने भक्तों के लिए मंदिर में ड्रेस कोड से संबंधित दिशा-निर्देश दिए हैं, मंदिरों में पवित्रता बनाए रखना महत्वपूर्ण है और मन की व्याकुलता को रोके बिना ऐसा करना संभव नहीं है। इस संबंध में, यह यह महत्वपूर्ण है कि भक्त पारंपरिक कपड़े पहनें जो शरीर को पूरी तरह से ढकते हैं और प्रकट या अश्लील नहीं होते हैं। यह सभी भक्तों के लिए होगा और इसलिए हम आने वाले दिनों में ड्रेस कोड अनिवार्य करना चाहते हैं। खासकर महिलाओं के लिए। उन्हें एक साड़ी पहननी चाहिए..'

भेजा जाएगा कैबिनेट के पास

जबकि कई मंदिरों में ऐसे ड्रेस कोड होते हैं, जिनका वे भक्तों से पालन करने की अपेक्षा करते हैं, यह सरकार द्वारा औपचारिक कार्यान्वयन की दिशा में पहला कदम हो सकता है। यह प्रस्तावित ड्रेस कोड एक बार तय हो जाने के बाद हिंदू धार्मिक संस्थानों और धर्मार्थ बंदोबस्ती विभाग को भेजा जा सकता है। इसके बाद फिर इसे कैबिनेट को मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर