कमलनाथ के बयान 'गाड़ी उधार दे दूंगा; पर शिवराज सिंह का तंज, जिसे अपने कार्यकर्ताओं का सम्मान नहीं वो

मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ के उस बयान पर तंज कसा है जिसमें उन्होंने कहा था कि जिसे जहां जाना हो जा सकता है,वो अपनी गाड़ी तक मुहैया करा देंगे।

Madhya Pradesh, shivraj singh chouhan, Kamalnath,congress, bjp
शिवराज सिंह चौहान, सीएम, मध्य प्रदेश 

मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस के कद्दावर नेता कमलनाथ ने कहा था कि कोई भी शख्स जो पार्टी छोड़ कर जाना चाहता है जा सकता है। वो उसके लिये अपनी कार भी उपलब्ध करा देंगे। उनके इस बयान की चौतरफा आलोचना तो हो ही रही है। मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने खास अंदाज में निशाना साधते हुए कहा कि जिस शख्स को अपनी पार्टी कार्यकर्ताओं का सम्मान नहीं है। वो क्या करेगी। कांग्रेस का हाल तो यह है कि एक दिल के टुकड़े कहीं इधर गिरे कहीं उधर गिरे वाली हो गई है। पार्टी का कद्दावर नेता ही जब कहने लगे कि जिसे जहां जाना हो जाए कोई फर्क नहीं पड़ता तो कांग्रेस में आम कार्यकर्ताओं का कितना सम्मान है आप समझ सकते हैं। 

'जिसे जाना हो जा सकता है'
कमलनाथ ने कहा था कि अगर वे (कांग्रेस नेता और पदाधिकारी) जाना चाहते हैं और अपने भविष्य और अपने विचारों को भाजपा के साथ देखना चाहते हैं। तो मैं उन्हें अपनी मोटर (कार) उधार दूंगा और भाजपा में शामिल हो जाऊंगा।"पूर्व सांसद और लंबे समय से गांधी परिवार के वफादार रहे नाथ ने कहा कि वह किसी को शांत करने में विश्वास नहीं करते हैं, यह कहते हुए कि पार्टी की ओर से किसी पर कोई दबाव नहीं है

कांग्रेस नेता का यह बयान गोवा से कांग्रेस के 11 में से आठ विधायकों के भाजपा में शामिल होने के कुछ दिनों बाद आया है।"क्या सोच रहे हो? खत्म हो जाएगी कांग्रेस? आप कह रहे हैं कि कुछ लोग भाजपा में शामिल होना चाहते हैं। जो भी बीजेपी में शामिल होना चाहता है वो जा सकता है. हम किसी को रोकना नहीं चाहते, ”मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कांग्रेस से मीडिया में पलायन के बारे में पूछे जाने पर जवाब दिया।

पार्टी कार्यकर्ताओं पर दबाव नहीं
कांग्रेस में लोग समर्पण के साथ काम कर रहे हैं। उन पर पार्टी की ओर से कोई दबाव नहीं है। हाल ही में कमल नाथ के करीबी सहयोगी और मध्य प्रदेश के पूर्व विधायक अरुणोदय चौबे ने कांग्रेस छोड़ दी।कांग्रेस को एक और झटका देते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने 26 अगस्त को कांग्रेस के साथ अपने पांच दशक के जुड़ाव को समाप्त कर दिया, पार्टी को व्यापक रूप से नष्ट करार दिया था।उन्होंने पार्टी के पूरे सलाहकार तंत्र को "ध्वस्त" करने के लिए राहुल गांधी पर भी हमला किया।उनके इस्तीफे के बाद, दो दर्जन से अधिक प्रमुख विधायकों ने उनके समर्थन में कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
ET Now
ET Now Swadesh
Mirror Now
Live TV
अगली खबर