जस्टिस सुधांशु धूलिया और जस्टिस परदीवाला बने सुप्रीम कोर्ट के जज, CJI ने दिलाई शपथ

जस्टिस सुधांशु धूलिया और गुजरात हाईकोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति जमशेद बुजरेर पारदीवाला ने सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में आज शपथ ले ली है।

Justices Sudhanshu Dhulia and Jamshed B Pardiwala sworn in as Judges of Supreme Court
जस्टिस परदीवाला और जस्टिस धूलिया 
मुख्य बातें
  • जस्टिस धूलिया और जस्टिस परदीवाला ने सुप्रीम कोर्ट के जज के रूप में ली शपथ
  • शीर्ष अदालत में जजों की संख्या हुई 34 , अपनी पूरी ताकत से काम करेगा सुप्रीम कोर्ट
  • दोनों जजों को मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रमण ने दिलाई शपथ

नई दिल्ली: मुख्य न्यायाधीश एनवी रमण ने आज गुवाहाटी हाईकोर्ट के मुख्य जस्टिस सुधांशु धूलिया और गुजरात हाईकोर्ट के जज जमशेद बी परदीवाला शीर्ष अदालत के जज के रूप में शपथ दिलाई। दोनों जजों के शपथ लेने के बाद सुप्रीम कोर्ट में जजों की संख्या 34 हो गई है और अब कोर्ट अपनी पूरी ताकत से काम करेगी। न्यायमूर्ति धूलिया उत्तराखंड उच्च न्यायालय के दूसरे न्यायाधीश होंगे, जिन्हें पदोन्नत करके शीर्ष अदालत भेजा जाएगा, जबकि न्यायमूर्ति परदीवाला पारसी समुदाय से सर्वोच्च न्यायालय तक पहुंचने वाले चौथे न्यायाधीश होंगे।

कोटिस्वर बने गुवाहाटी HC के मुख्य न्यायाधीश

सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम द्वारा जस्टिस सुधांशु धूलिया और गुजरात हाईकोर्ट के जज जमशेद बी परदीवाला की नियुक्ति की सिफारिश की थी। इसके बाद केंद्र सरकार ने दोनों के नामों पर मुहर लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में नियुक्त करने की अधिसूचना जारी कर दी है। जस्टिस धूलिया के सुप्रीम कोर्ट में आने के बाद  राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने गुवाहाटी हाई कोर्ट के वरिष्ठतम न्यायाधीश न्यायमूर्ति नोंगमीकापम कोटिस्वर सिंह को कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया है।

कौन हैं जस्टिस धूलिया

जस्टिस सुधांशु धूलिया उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले के एक सुदूर गांव मदनपुर के रहने वाले हैं। वह सैनिक स्कूल, लखनऊ के पूर्व छात्र हैं और उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक और कानून की पढ़ाई की है। दूसरी पीढ़ी के कानूनी पेशेवर, न्यायमूर्ति धूलिया 1986 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय के बार में शामिल हुए और 2000 में अपने गृह राज्य उत्तराखंड में स्थानांतरित हो गए। वह उत्तराखंड उच्च न्यायालय में पहले मुख्य स्थायी वकील थे, और बाद में एक अतिरिक्त महाधिवक्ता बने। उन्हें 2004 में एक वरिष्ठ अधिवक्ता के रूप में नामित किया गया था। उन्हें नवंबर 2008 में उत्तराखंड उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किया गया था और बाद में वह 10 जनवरी, 2021 को असम, मिजोरम, नागालैंड और अरुणाचल प्रदेश के उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश बने।

कौन हैं जस्टिस परदीवाला

जस्टिस परदीवाला का जन्म 12 अगस्त 1965 को मुंबई में हुआ था। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा अपने गृह नगर वलसाड (दक्षिण गुजरात) के सेंट जोसेफ कॉन्वेंट स्कूल में पूरी की। उन्होंने जेपी आर्ट्स कॉलेज, वलसाड से स्नातक की उपाधि प्राप्त की और 1988 में के. एम. मुलजी लॉ कॉलेज, वलसाड से लॉ की डिग्री प्राप्त की। न्यायमूर्ति परदीवाला ने 1990 में गुजरात उच्च न्यायालय में कानूनी प्रैक्टिस शुरू की। उन्हें 1994 में बार काउंसिल ऑफ गुजरात के सदस्य के रूप में चुना गया था। उन्हें वर्ष 2002 में गुजरात के उच्च न्यायालय के लिए स्थायी वकील के रूप में नियुक्त किया गया था और उन्होंने 17 फरवरी, 2011 को बेंच में उनकी पदोन्नति की तारीख तक कार्यालय का पद संभाला था।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर