इस्लाम का तकाजा है, नबी की तरह दिल दिखाए, नूपुर शर्मा को दे देनी चाहिए माफी: जमात उलेमा ए हिंद 

देश
कुंदन सिंह
कुंदन सिंह | Special Correspondent
Updated Jun 12, 2022 | 17:26 IST

पैगंबर मोहम्मद पर विवादित टिप्पणी करने वाली नूपुर शर्मा पर मुस्लिम संगठन जमात उलेमा ए हिंद के अध्यक्ष मौलाना सुहैब कासमी ने कहा कि इस्लाम का तकाजा है कि उन्हें माफी दे देनी चाहिए, अगर नबी होते तो वह माफ कर देते जैसा कि उन्होंने पहले भी किया है।

Islam has a demand, show heart like a prophet, Nupur Sharma should be pardoned: Jamaat Ulema-e-Hind
जमात उलेमा ए हिंद ने कहा कि नबी की तरह दिल दिखाना चाहिए 

दिल्ली: प्रोफेट मोहम्मद पर टिप्पणी करने वाली बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा पर मुस्लिम संगठन जमात उलेमा ए हिंद के अध्यक्ष मौलाना सुहैब कासमी ने उनके माफी मांगने के बाद माफ कर देने की बात कही है। दिल्ली में इस मामले पर देशभर में हुई हिंसा के खिलाफ बोलते हुए मौलाना सुहैब कासमी ने कहा इस्लाम का तकाजा है कि उन्हें माफी दे देनी चाहिए, अगर नबी होते तो वह माफ कर देते जैसा कि उन्होंने पहले भी किया है। कासमी कहते हैं कि माफ करने के लिए बड़ा दिल होना चाहिए। इसके साथ ही इनका कहना है कि इस्लाम के बारे में जानकारी ना होने के कारण कई बार गैर जरूरी बयान दिए जाते हैं।

ओवैसी और मदनी पर लगाया आरोप

जमात उलमा ए हिंद का यह मानना है कि असदुद्दीन ओवैसी और मोहम्मद मदनी जैसे लोग इस पूरे मामले में आम मुसलमान को भड़काने का काम कर रहे हैं। जिससे उनकी धार्मिक दुकान चलती रहे। सुहैब कासमी का आरोप है कि घटना के 15 दिन जिस तरीके से 10 जून को देशभर में एक ही पैटर्न पर हिंसा हुई। इससे साफ हैं कि इस मामले में साजिश के तहत जानबूझकर कर हिंसा फैलाई गई हैं।

फतवा जारी होगा 

जमात उलमा हिंद इस मामले में देशभर के एक हजार मौलानाओं की मदद से इन नेताओं के खिलाफ फतवा जारी करवाएंगे। जमात से जुड़े अजमेर शरीफ के मौलाना कारी जलील चिश्ती का कहना है कि कोई भी जमात देश के 20 करोड़ लोगों की नहीं बल्कि पूरे देश के 130 करोड़ लोगों की बात करते हैं। जमाअत उलेमा ए हिंद असदुद्दीन ओवैसी और मदनी सहित लोगों को भड़काने और हिंसा फैलाने वालों के खिलाफ जल्द ही फतवा जारी करने वाला है और इसके लिए 100 से अधिक देशभर के मौलानाओं के हस्ताक्षर लिए जा रहे हैं। इनका आरोप है कि ये दूसरे को तो भड़काते हैं और का खामियाजा उन्हें युवकों को भुगतना पड़ता है जो हिंसा करते हुए पकड़े जाते हैं। आरोप है कि इस सरकार के आने के बाद इनकी कमाई बंद हो गई है इसीलिए वे इस तरह की कार्रवाई कर रहे हैं। इन्होंने दंगा भड़काने और हिंसा फैलाने वालों के खिलाफ बुलडोजर की कार्रवाई को भी सही बताया।
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर