निर्भया की मां से बोलीं वरिष्‍ठ वकील इंदिरा जयसिंह, 'सोनिया का अनुसरण कर दोषियों को माफ कर दें'

निर्भया के दोषियों को फांसी की सजा के लिए 1 फरवरी की तारीख तय की गई है। इस बीच वरिष्‍ठ वकील इंदिरा जयसिंह के ट्वीट ने कई लोगों को चौंकाया है।

Indira Jaising to Nirbhaya's mother Asha Devi follow example of Sonia Gandhi and forgive convicts
वरिष्‍ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने आशा देवी से कहा है कि वह दोषियों को माफ करें 

मुख्य बातें

  • निर्भया के गुनहगारों को फांसी देने के लिए अब 1 फरवरी की तारीख मुकर्रर की गई है
  • दोषियों की फांसी में देरी से निर्भया के घरवालों के साथ-साथ कई लोगों में नाराजगी है
  • इस बीच वरिष्‍ठ वकील की निर्भया की मां से की गई अपील ने कई लोगों को चौंकाया है

नई दिल्‍ली : निर्भया के गुनहगारों को फांसी की सजा को लेकर जहां नई तारीख तय की गई है, वहीं इस मामले में देरी पर पीड़‍िता की मां आशा देवी ने नाराजगी जताई है। इस बीच वरिष्‍ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने निर्भया की मां से अपील की है कि वह दोषियों को माफ कर दें और इस मामले में सोनिया गांधी का अनुसरण करें, जिन्‍होंने राजीव गांधी की हत्‍या मामले में दोषी नलिनी को माफ कर दिया।

इंदिरा जयसिंह का यह बयान दोषियों की फांसी में देरी को लेकर नाराजगी जता रहे लोगों के लिए चौंकाने वाला है, जिस पर केंद्र सरकार और दिल्‍ली की अरविंद केजरीवाल सरकार के बीच सियासी जंग भी छिड़ गई है। प्रकाश जावड़ेकर सहित बीजेपी के कई नेताओं ने जहां देरी के लिए दिल्‍ली सरकार पर ठीकरा फोड़ा है, वहीं निर्भया की मां ने भी इस पर गहरी निराशा व नाराजगी जताई है।

 

 

निर्भया के गुनहगारों- मुकेश सिंह, विनय शर्मा, अक्षय सिंह और पवन गुप्ता की फांसी की सजा में हो रही देरी को लेकर दिल्‍ली की आप सरकार जहां बीजेपी के निशाने पर रही, वहीं निर्भया की मां आशा देवी ने भी नाराजगी जताते हुए कहा, 'मैंने अब तक राजनीति के बारे में कोई बात नहीं की। मैंने केवल न्याय मांगा है, लेकिन आज मैं कहना चाहती हूं कि जिन लोगों नेन 2012 में सड़कों पर प्रदर्शन किया था, आज वही लोग मेरी बेटी की मौत पर बस सियासत कर रहे हैं।'

आशा देवी के इसी बयान के बाद वरिष्‍ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने अब उनसे अपील की है कि वह दोषियों को माफ कर दें। उन्‍होंने ट्वीट कर कहा, 'आशा देवी की तकलीफ को पूरी तरह समझते हुए मैं उनसे अपील करती हूं कि सोनिया का अनुसरण करें, जिन्‍होंने नलिनी को माफ कर दिया और कहा कि वह उनके लिए फांसी की सजा नहीं चाहतीं। हम आपके साथ हैं, पर मृत्‍युदंड के खिलाफ हैं।' यहां उल्‍लेखनीय है कि नलिनी को राजीव गांधी की हत्‍या मामले में दोषी ठहराया गया और आजीवन कारावास की सजा मिली।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर