रूस के सुदूर पूर्व क्षेत्र के विकास में मास्को का विश्वसनीय साथी बनेगा भारत : प्रधानमंत्री मोदी

Eastern Economic Forum : पीएम मोदी ने अपनी 2019 की व्लादिवोस्तोक यात्रा को याद करते करते हुए कहा कि उन्होंने उस समय भी सुदूर पूर्व इलाके को विकसित करने की राष्ट्रपति पुतिन के नजरिए की तारीफ की। 

India will be reliable partner of Russia in developing its Far East region: PM Modi
'इस्टर्न इकोनॉमिक फोरम' में पीएम मोदी ने भारत-रूस संबंध पर की बात।  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • इस्टर्न इकोनॉमिक फोरम में पीएम ने भारत और रूस की दोस्ती का जिक्र किया
  • प्रधानमनंत्री ने कहा कि रूस के सुदूर पूर्व के विकास में उसका भागीदार बनेगा भारत
  • पीएम मोदी ने रूस के 11 इलाकों के गवर्नर को भारत आने का न्योता दिया

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि रूस के सुदूर पूर्व क्षेत्र के विकास में मास्को के नजरिए एवं सोच को वास्तविकता में बदलने में भारत एक विश्वसनीय साझेदार साबित होगा। भारत और रूस के आपसी संबंधों की अहमियत बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें इस बात की खुशी है कि वह 'इस्टर्न इकोनॉमिक फोरम' को संबोधित कर रहे हैं। इस सम्मान के लिए पीएम मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को बधाई दी। पीएम ने अपनी 2019 की व्लादिवोस्तोक यात्रा को याद करते करते हुए कहा कि उन्होंने उस समय भी सुदूर पूर्व इलाके को विकसित करने की राष्ट्रपति पुतिन के नजरिए की तारीफ की। 

पीएम ने कहा-भारत के लिए 'संगम' शब्द का विशेष महत्व है
प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के इतिहास एवं सभ्यता में 'संगम' शब्द का विशेष महत्व है। इसका मतलब नदियों, लोगों और विचारों का मेल-मिलाप है। उन्होंने कहा, 'मेरे विचार से व्लादिवोस्तोक वास्तव में यूरेशिया और प्रशांत का संगम स्थल है।' अपनी 2019 की यात्रा के दौरान पीएम मोदी ने व्लादिवोस्तोक के सुदूर पूर्व में स्थित बंदरगाह के विकास में एक अरब अमेरिकी डॉलर का ऋण देने की घोषणा की। उन्होंने चेन्नई और व्लादिवोस्तोक के बीच सीधा सामुद्रिक कॉरीडोर बनाने के लिए एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर भी किए। 

समय की कसौटी पर खरे उतरे हैं भारत और रूस-पीएम
प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि भारत के पास प्रतिभाशाली, समर्पित कार्यबल है, भारतीय प्रतिभा के लिए रूस के सुदूर पूर्व में विकास में योगदान देने की खातिर भरपूर गुंजाइश है। दोनों देशों के बीच ऊर्जा भागीदारी से वैश्विक ऊर्जा बाजार में स्थिरता लाने में मदद मिल सकती है। भारत-रूस की दोस्ती समय की कसौटी पर खरी उतरी है, हाल ही में टीके को लेकर सहयोग सहित कोविड महामारी के दौरान मजबूत सहयोग से यह दिखा है।

पीएम ने कहा कि उन्हें इस बात की खुशी है कि भारत का सबसे बड़ा शिपयार्ड मझगांव रूस की कंपनी वेज्दा के साथ मिलकर विश्व स्तरीय कॉमर्शियल जहाजों का निर्माण करने जा रहा है। इस मौके पर पीएम ने रूस के 11 क्षेत्रों के गवर्नर को भारत आने का न्योता दिया।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर