भारत और चीन के बीच आज कोर कमांडर स्तर की बातचीत, पूरी तरह से सेनाओं के पीछे हटने पर बनेगी सहमति?

India-China Corps Commander-level talks: भारत और चीन के बीच आज LAC के चाइनीज साइड पर मोल्डो में कोर कमांडर स्तर की बातचीत होनी है।

India-China
भारत और चीन के बीच बातचीत 

मुख्य बातें

  • आज भारत और चीन की सेनाओं के बीच कोर कमांडर स्तर की बातचीत
  • सीमा पर तनाव कम करने के लिए दोनों देशों के बीच ये पांचवें दौर की बातचीत
  • भारत का फोकस फिंगर एरिया में पूरी तरह से डिस्एंगेजमेंट पर होगा

नई दिल्ली: पूर्वी लद्दाख में जारी सीमा विवाद के बीच आज भारत और चीन के सैनिकों के बीच कोर कमांडर स्तर की बातचीत होगी। ये बातचीत आज सुबह 11 बजे मोल्डो में होनी है। बैठक में भारत फोकस करेगा कि फिंगर एरिया से चीन की सेना पूरी तरह से पीछे हट जाए। मोल्डो वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के चीनी पक्ष की ओर है। भारत और चीन की सेना के बीच कोर कमांडर स्तर की ये पांचवें दौर की बातचीत है।

हाल ही में भारत की तरफ से कहा गया था कि पूर्वी लद्दाख से सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया अभी पूरी नहीं हुई है, हालांकि इसमें कुछ प्रगति हुई है। उल्लेखनीय है कि उससे पहले चीन ने दावा किया था कि अग्रिम मोर्चे से दोनों देशों के सैनिकों के पीछे हटने की कवायद सीमा पर अधिकांश स्थानों पर पूरी हो गई है। चीन ने यह भी कहा था कि जमीन पर स्थिति सामान्य हो रही है। 

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा था, 'दोनों सेनाओं के वरिष्ठ कमांडर निकट भविष्य में बैठक करेंगे ताकि पीछे हटने की प्रक्रिया पूरा करने की दिशा में उठाए जाने वाले कदमों पर चर्चा की जा सके। हम उम्मीद करते हैं कि चीनी पक्ष पूरी तरह से पीछे हटने, तनाव कम करने तथा सीमावर्ती क्षेत्र में पूरी तरह से शांति बहाल करने के लिए गंभीरता से काम करेगी जिस पर हमारे विशेष प्रतिनिधियों के बीच सहमति बनी थी।' 

गलवान में हुई थी हिंसक झड़प

15 जून को गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिक आपस में भिड़ गए थे। इस हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। चीन को भी काफी नुकसान हुआ था। 5 जुलाई को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने टेलीफोन पर करीब दो घंटे तक पूर्वी लद्दाख में दोनों देशों के बीच तनाव को कम करने के लिए चर्चा की थी । दोनों पक्षों ने इस वार्ता के बाद छह जुलाई के बाद पीछे हटने की प्रक्रिया शुरू की थी।

कई जगह पीछे हटी चीनी सेना

सैनिकों के पीछे हटने की औपचारिक प्रक्रिया छह जुलाई को शुरू हुई थी जब क्षेत्र में तनाव कम करने के तरीकों पर एक दिन पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के बीच लगभग दो घंटे फोन पर बातचीत हुई। चीनी सेना गलवान घाटी और टकराव वाले कुछ अन्य स्थानों से पहले ही पीछे हट चुकी है लेकिन भारत की मांग के अनुसार पेगोंग सो में फिंगर इलाकों से सैनिकों को वापस बुलाने की प्रक्रिया अभी शुरू नहीं हुई है।


 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर