राफेल विमान और विभिन्न हथियारों से हमारी आक्रामक क्षमता और शक्तिशाली हुई, दो मोर्चों पर खतरे से निपटने को तैयार: वायु सेना प्रमुख

नए वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी का कहना है कि राफेल, अपाचे के शामिल होने से हमारी युद्ध क्षमता में काफी इजाफा हुआ है। हम दो मोर्चों पर खतरे की किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं।

Air Chief Marshal VR Chaudhari
वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल विवेक राम चौधरी 

मुख्य बातें

  • भारतीय वायु सेना सशस्त्र बलों के बीच एकीकरण के लिए उत्सुक है: एयर चीफ मार्शल विवेक राम चौधरी
  • अगले दशक तक हमारे पास लगभग 35 लड़ाकू स्क्वाड्रन होंगे: वायु सेना प्रमुख
  • चीनी वायु सेना अभी भी LAC की अपनी तरफ के तीन हवाई अड्डों पर मौजूद है: एयर चीफ मार्शल

नई दिल्ली: वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल विवेक राम चौधरी ने कहा है कि बेड़े में राफेल विमान और विभिन्न हथियारों के शामिल होने से हमारी आक्रामक क्षमता और शक्तिशाली हो गई है। हम दो मोर्चों पर खतरे की किसी भी परिदृश्य से निपटने के लिए तैयार हैं। पूर्वी लद्दाख पर चीन के साथ जारी सीमा विवाद पर उन्होंने कहा कि चीन ने बुनियादी ढांचा बढ़ाया है लेकिन इससे हमारी संचालनात्मक तैयारी पर कोई असर नहीं होगा। तिब्बत क्षेत्र में तीन वायु सेना अड्डों पर चीन लगातार तैनाती कर रहा है, हम किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। 

एयर चीफ मार्शल विवेक राम चौधरी ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में चीन की वायु सेना अभी भी है। चीन ने काफी हद तक इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट बढ़ाया है, इंफ्रास्ट्रक्चर की वजह से हो सकता है कि वह अपनी सेना को जल्दी तैनात कर दें लेकिन हम पर इसका कोई असर नहीं होगा।

उन्होंने कहा कि राफेल, अपाचे के शामिल होने से हमारी युद्ध क्षमता में काफी इजाफा हुआ है। हमारे बेड़े में नए हथियारों के एकीकरण के साथ हमारी आक्रामक स्ट्राइक क्षमता और भी अधिक शक्तिशाली हो गई है। तथ्य यह है कि मिग-21 बेड़े पर बड़ी संख्या में दुर्घटनाएं हुई हैं, इससे इनकार नहीं किया जा सकता है। लेकिन आंकड़े यह भी बताते हैं कि इस बेड़े में दुर्घटनाओं की संख्या में कमी आई है। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि उड़ान भरने वाला प्रत्येक विमान सभी जांचों से सख्ती से गुजरता है। हमारे पास मिग-21 के चार स्क्वाड्रन हैं और अगले तीन से चार वर्षों में ड्रॉडाउन हो जाएगा। 

IAF प्रमुख एयर चीफ मार्शल ने चीन-पाकिस्तान साझेदारी और दो-मोर्चे युद्ध की संभावना पर कहा कि इस साझेदारी से डरने की कोई बात नहीं है। लेकिन एकमात्र चिंता पश्चिमी तकनीक का पाकिस्तान से चीन तक जाना है। नए लाइट हेलिकॉप्टरों पर उन्होंने कहा कि हम हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) से 6 लाइट यूटिलिटी हेलीकॉप्टर प्राप्त करने के कगार पर हैं। पुराने विमानों को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने और नए विमानों को शामिल करने के मद्देनजर हम अगले दशक तक लगभग 35 लड़ाकू स्क्वाड्रन होंगे।

हाल ही में जम्मू में हुए ड्रोन हमले पर वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी ने कहा कि हम लंबे समय से स्वदेशी एंटी-ड्रोन क्षमता पर काम करने का प्रयास कर रहे हैं। हम वायु सेना के लिए काउंटर यूएएस प्रणाली को डिजाइन और विकसित करने के लिए स्टार्टअप को लाभ दे रहे हैं। पाकिस्तान और पीओके में हवाई क्षेत्रों के संबंध में हमें ज्यादा चिंतित होने की जरूरत नहीं है क्योंकि वे छोटे स्ट्रिप्स हैं जो कुछ हेलीकॉप्टरों को ले जाने में सक्षम हैं। हम अपने द्वारा आयोजित प्रतियोगिता के आधार पर भारतीय वायु सेना के लिए झुंड ड्रोन विकसित करने के लिए स्टार्टअप्स को जल्द ही अनुबंध देंगे।
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर