IAF 2021: वायु सेना के वे हीरो, जिनके शौर्य पर देश को है नाज

Indian Air Force Pilots: भारतीय वायु सेना की झोली में कामयाबियों की लंबी फेहरिश्त है। भारतीय वायुसेना में एक से बढ़कर एक जांबाज रहे हैं जिन्होंने रणकौशल से दुनिया को लोहा मनवाया।

IAF Day 2021, Success of Indian Air Force, indian air force pilot
वायु सेना के वे हीरो, जिनके शौर्य पर है देश को है नाज 

मुख्य बातें

  • अर्जन सिंह की कामयाबी को देश सलाम करता है।
  • महिला फ्लाइंग ऑफिसर्स की भारतीय वायु सेना में एंट्री हुई
  • निर्मल जीत सिंह शेखों, राकेश शर्मा, रिजुल शर्मा, अभिनंदन वर्तमान जैसे पायलट पर देश को गर्व है

भारतीय वायु सेना की कामयाबियों पर ना सिर्फ देश को नाज है बल्कि दुनिया भी वायु सेना के कला कौशल का लोहा मानती है। 1965 की लड़ाई हो या 1971 की या 1999 की कारगिल लड़ाई हो या एयर सर्जिकल स्ट्राइक ये सब भारतीय वायुसेना की कामयाबियों को खुद ब खुद गवाही देते हैं। यहां पर हम आसमां के उन कुछ खास हीरो को जिक्र करेंगे जिनकी कामयाबी को जाने बगैर भारतीय वायु सेना की कहानी अधूरी लगेगी। 

भारतीय वायु सेना के मार्शल अर्जन सिंह डीएफसी, पद्मविभूषण

फाइव स्टार रैंक पर पदोन्नत होने वाला एकमात्र IAF अधिकारी जो नौसेना में बेड़े के सेना एडमिरल के फील्ड मार्शल के बराबर है। अपने शानदार कैरियर में, उन्होंने 60 से अधिक विभिन्न प्रकार के विमानों को उड़ाया और उड़ान के लिए उनका उत्साह 1969 में सेवानिवृत्त होने के दिन तक समाप्त नहीं हुआ। जब वे वायु सेना प्रमुख थे, तो IAF ने सुपरसोनिक लड़ाकू विमानों, रणनीतिक टोही विमान, सामरिक परिवहन का अधिग्रहण किया। विमान और हमला हेलीकाप्टर, जिनमें से कई आज भी सेवा में हैं। पश्चिम बंगाल में पानागढ़ एयर बेस का नाम राष्ट्र के लिए उनकी सेवा के सम्मान में "MIAF अर्जन सिंह" के नाम पर रखा गया था।

महिला फ्लाइंग ऑफिसर
फ्लाइंग ऑफिसर भावना कंठ, अवनी चतुर्वेदी और मोहना सिंह IAF की पहली महिला फाइटर पायलट बनीं।

निर्मल जीत सिंह शेखों
फ्लाइंग ऑफिसर निर्मल जीत सिंह शेखों को  1971 के भारत-पाक युद्ध के दौरान पीएएफ के हवाई हमले के खिलाफ श्रीनगर हवाई अड्डे की रक्षा के लिए उन्हें मरणोपरांत परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था।

स्क्वाड्रन लेफ्टिनेंट राकेश शर्मा
स्क्वाड्रन लेफ्टिनेंट राकेश शर्मा को कौन नहीं जानता। जब वो स्पेस में पहुंचे तो उनसे प्रधान मंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ने पूछा था "ऊपर से हमारा भारत कैसा दिखता है" जिस पर उन्होंने जवाब दिया "सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तान हमारा"।

एयर मार्शल डेन्जिल कीलोर

एयर मार्शल डेन्जिल कीलोर, पीवीएसएम, एवीएसएम, वीआरसी, केसी और विंग कमांडर ट्रेवर कीलोर, वीआरसी, वीएम भारतीय वायुसेना के भाई और लड़ाकू पायलट थे। दोनों भाइयों के पास पाकिस्तान वायु सेना के F-86 सेबर फाइटर जेट को मार गिराने के लिए वीर चक्र से नवाजा गया। उन्हें "कृपाण किलर" के रूप में भी जाना जाता है।

अजय आहुजा
स्क्वाड्रन कमांडर अजय आहूजा, स्क्वाड्रन नं. 17 "गोल्डन एरो" एक साहसी लड़ाकू पायलट थे, जिन्होंने कारगिल युद्ध 1999 के दौरान शहादत प्राप्त की थी।

मनीष अरोड़ा
फ्लाइट लेफ्टिनेंट मनीष अरोड़ा, शौर्य चक्र, जो 10.5 किमी की ऊंचाई पर अधिकतम सुपरसोनिक गति से कुचलते समय छत्र फटने के बाद चेहरे पर गंभीर चोट लगने के बावजूद अपने लड़ाकू जेट को सुरक्षित रूप से ले आए। उनकी बहादुरी के लिए उन्हें "शौर्य चक्र" से सम्मानित किया गया था।

स्क्वाड्रन लीडर रिजुल शर्मा, वीएम

गंभीर चोट लगने के बावजूद रिजुल शर्मा ने बहादुरी की मिसाल पेश की। वह शून्य से 28 के बेहद कम तापमान के संपर्क में थे। स्क्वाड्रन लीडर रिजुल शर्मा ने विमान को ठीक करने का फैसला किया। इस प्रक्रिया में उन्होंने अपने कंधे की गंभीर चोट और उच्च गति, उच्च ऊंचाई और कम तापमान से उत्पन्न असुविधा को पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया। उनकी बहादुरी के लिए उन्हें वायु सेना पदक से सम्मानित किया गया था।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर