Hathras Gangrape Case: राहुल गांधी के निकलने के बाद एसआईटी टीम पहुंची थी पीड़ित के घर, सामने आई यह वजह

देश
किशोर जोशी
Updated Oct 04, 2020 | 00:28 IST

यूपी सरकार से इजाजत मिलने के बाद राहुल गांधी और प्रियंका गांधी हाथरस में पीड़ित परिवार से मुलाकात की। यूपी सरकार ने साफ कर दिया है कि पांच लोग परिवार से मिल सकते हैं।

 Hathras Samachar Live Updates, Hathras Case Victims Family News Rahul Gandhi
LIVE: पीड़िता के घर पहुंची थी एसआईटी टीम 

मुख्य बातें

  • राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने पीड़िता के परिवार से की मुलाकात
  • राहुल गांधी ने पीड़ित परिवार की मदद की, प्रियंका बोलीं- अन्याय के खिलाफ लड़ाई जारी रहेगी।
  • योगी आदित्यनाथ सरकार ने हाथरस केस की जांच सीबीआई को सौंपने की सिफारिश की

नई दिल्ली: हाथरस में पीड़ित परिवार से राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने मुलाकात की। मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने कहा कि यूपी सरकार की संवेदनहीनता जगजाहिर है, जबकि प्रियंका गांधी ने कहा कि अन्याय के खिलाफ लड़ाई जारी रहेगी। 19 वर्षीय दलित लड़की से कथित गैंगरेप की घटना के बाद से ही यूपी सरकार की लगातार आलोचना हो रही थी। 


पीड़िता के घर पहुंची एसआईटी टीम
पीड़िता के परिवार के घर शनिवार की रात एक बार एसआईटी की टीम पहुंची। एसआईटी अधिकारियों ने कहा कि वो समय पर अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंप देंगे। जब मीडिया ने पूछा कि इस समय घर आने का क्या मकसद है तो इस सवाल के जवाब में अधिकारियों ने कहा कि चूंकि पीड़िता के पिता की तबीयत ठीक नहीं थी और उन्होंने कहा था कि कुछ समय चाहिए लिहाजा टीम नहीं गई थी। वो लोग एक बार फिर मौके पर पहुंचे। लेकिन पिता की तबीयत ठीक न होने से बयान दर्ज नहीं हो सका।

यूपी सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की
यूपी सरकार ने हाथरस केस में सीबीआई जांच की सिफारिश की है। लेकिन परिवार का कहना है कि उन्होंने सीबीआई जांच की मांग नहीं की है। परिवार चाहता है कि इस मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की अगुवाई में न्यायिक जांच हो। 

यूपी सरकार का रवैया संवेदनहीन
पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद राहुल गांधी बोले कि कांग्रेस पार्टी पूरी तरह परिवार के साथ है। यूपी सरकार के संवेदनहीन रवैये से मामला खराब हुआ। प्रियंका गांधी ने कहा कि अन्याय के खिलाफ लड़ाई जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार इंसाफ की लड़ाई लड रही है और उसमें कांग्रेस पूरी तरह साथ है। परिवार न्यायिक जांच चाहता है। 

पीड़ित परिवार के गांव में राहुल और प्रियंका
यूपी सरकार से इजाजत मिलने के बाद राहुल गांधी और प्रियंका गांधी हाथरस में पीड़ित परिवार के गांव पहुंच चुके हैं। और बंद कमरे में दोनों लोग पीड़ित परिवार से बातचीत कर रहे हैं। प्रियंका गांधी ने पीड़िता की मां को गले लगाया और दुख को साझा किया। राहुल गांधी मे परिवार के पुरुष सदस्यों से बातचीत की और क्या कुछ हुआ उसे जानने समझने की कोशिश की। 

हाथरस जाने की इजाजत के बाद कांग्रेस का सवाल
राहुल गांधी और प्रियंका गांधी समेत पांच लोगों को हाथरस जाने की मंजूरी के बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि यूपी के सीएम कायर हैं। अगर राज्य के डीजीपी और एसीएस पीड़िता के गांव में जा सकते हैं तो वो लोग क्यों नहीं जा सकते हैं। एक बड़ा सवाल तो यह भी मौ़जूद है कि पीड़िता के शव को रात में ढाई बजे क्यों जला दिया गया।

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को हाथरस जाने की मिली मंजूरी
यूपी सरकार ने कांग्रेस के पांच नेताओं को हाथरस जाने की इजाजत दे दी है। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी समेत पांच नेता अब हाथरस जा सकेंगे। रणदीप सुरजेवाला ने यूपी सरकार कायर है। योगी आदित्यनाथ हजारों संगीनों के साए में छिप गए हैं। 

कांग्रेस की मांग, सीएम क्यों नहीं जा रहे हाथरस
कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने कहा कि यह समझ के बाहर है कि यूपी सरकार कांग्रेस के नेताओं को हाथरस जाने से क्यों रोक रही है। सवाल यह है कि बीजेपी गैर बीजेपी शासित राज्यों में आंदोलन करती हैं तो अच्छा लगता है। लेकिन यूपी में विरोध करना योगी सरकार को खराब लग रहा है।

नोएडा पुलिस की प्रदर्शनकारियों से अपील
एडिश्नल डीसीपी रणविजय सिंह का कहना है कि कोविड की वजह से इस तरह की भीड़भाड़ की इजाजत नहीं है। हम सब उन लोगों को समझाने की कोशिश कर रहे हैं और उम्मीद है कि वो लोग अपने अपने गंतव्य के लिए रवाना होंगे।

इस दफा मौका नहीं मिला तो अगली बार
कांग्रेस सांसद राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी एक बार फिर हाथरस की तरफ कूच कर चुके हैं। इस समय वो डीएनडी पर हैं। हाथरस रवाना होने के समय प्रियंका गांधी ने कहा कि अगर इस दफा भी मौका नहीं मिला तो अगली बार कोशिश करेंगे। 

अपर मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक हाथरस पहुंचे
हाथरस में कथित रूप से सामूहिक बलात्कार पीड़िता के परिजनों से मिलने अपर मुख्य सचिव (गृह) और पुलिस महानिदेशक हाथरस पहुंच चुके हैं और परिवार वालों से मुलाकात कर रहे हैं। यह दोनों अधिकारी पीड़िता के परिजनों से मिल रहे हैं।  हाथरस से लौटकर पूरी घटना की रिपोर्ट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दी जाएगी।

राहुल हुए रवाना

कांग्रेस नेता एक बार फिर हाथरस की कथित गैंगरेप पीड़िता के परिजनों से मिलने के लिए दिल्ली से निकल पड़े हैं। राहुल गांधी के साथ कांग्रेस सांसदों का एक दल भी है जिसमें अन्य कांग्रेस नेता भी शामिल हैं। इसस पहले भी उन्होंने हाथरस जाने की कोशिश की थी लेकिन वो उसमें सफल नहीं सके थे। राहुल के दौरे को देखते हुए डीएनडी पर भारी संख्या में पुलिसबल तैनात किया गया है।

उप्र के अपर मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक हाथरस रवाना

लखनऊ, तीन अक्टूबर (भाषा) हाथरस में कथित रूप से सामूहिक बलात्कार पीड़िता के परिजनों से मिलने अपर मुख्य सचिव (गृह) और पुलिस महानिदेशक शनिवार को हाथरस रवाना हो गए। यह दोनों अधिकारी पीड़िता के परिजनों से मिलेंगे और वहां से लौटकर अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपेंगे।अपर मुख्य सचिव, गृह, अवनीश अवस्थी ने 'पीटीआई' को बताया, 'मुख्यमंत्री के निर्देश पर मैं और पुलिस महानिदेशक एच सी अवस्थी हाथरस के लिये निकल चुके हैं। वहां पहुंच कर पीड़िता के परिजनों से बात करेंगे और घटना की विस्तृत जानकारी लेंगे।'

डीएनडी पर भारी पुलिस बल तैनात

राहुल गांधी के हाथरस दौरे से पहले दिल्ली को नोएडा से जोडने वाले डीएनडी पर भारी संख्या में पुलिसबल तैनात कर दिया गया है। पिछली बार जब राहुल गांधी और प्रियंका गांधी हाथरस के लिए रवाना हुए थे तो उन्हें डीएनडी पर रोका गया था लेकिन यहां से निकलने के बाद उन्हें यमुना एक्सप्रेस वे पर रोक दिया गया था।

कोई ताकत नहीं रोक सकती
हाथरस जाने से पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा, 'दुनिया की कोई भी ताक़त मुझे हाथरस के इस दुखी परिवार से मिलकर उनका दर्द बांटने से नहीं रोक सकती। इस प्यारी बच्ची और उसके परिवार के साथ UP सरकार और उसकी पुलिस द्वारा किया जा रहा व्यवहार मुझे स्वीकार नहीं। किसी भी हिन्दुस्तानी को ये स्वीकार नहीं करना चाहिए।'

- राहुल जाएंगे हाथरस
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में पार्टी सांसदों एक प्रतिनिधिमंडल आज हाथरस जाकर पीड़ित परिवार से मुलाकात करेगा। इससे पहले, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को पुलिस ने बृहस्पतिवार को पीड़िता के परिवार से मुलाकात के लिए हाथरस जाने से रोककर हिरासत में ले लिया था। दूसरी तरफ, कांग्रेस ने दावा किया कि राहुल और प्रियंका को उत्तर प्रदेश की पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

पुलिस पर गंभीर आरोप
 14 सितम्बर को हाथरस में चार युवकों ने 19 वर्षीय दलित लड़की से कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया था और मंगलवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में उसकी मौत हो गई जिसके बाद बुधवार की रात को उसके शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। पीड़िता के परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने उन्हें रात में अंतिम संस्कार करने के लिए बाध्य किया। हालांकि परिवार का एक वीडियो सामने आया है जिसमें उन्होंने बलात्कार की बात से इंकार किया था।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर