बंगाल में 'दीदी' का खेल बिगाड़ेंगे फुरफुरा शरीफ के मौलवी अब्बास, किया राजनैतिक आगाज, ओवैसी भी हैं साथ

देश
रवि वैश्य
Updated Jan 21, 2021 | 19:51 IST

पश्चिम बंगाल में प्रभावशाली फुरफुरा शरीफ के मौलवी अब्बास सिद्दीकी ने विधानसभा चुनावों से पहले पश्चिम बंगाल में नए राजनीतिक संगठन-इंडियन सेकुलर फ्रंट (ISF) गठन किया है।

Furfura Sharif cleric Abbas Siddiqui floats new political outfit in Bengal
पीरजादा सिद्दीकी ने कहा, 'आने वाले दिनों में, हम जनता तक पहुंचने के लिए कई कार्यक्रम आयोजित करेंगे 

सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (TMC) के लिए एक चिंताजनक घटनाक्रम में, गुरुवार को फुरफुरा शरीफ दरगाह के प्रभावशाली मौलवी ने राज्य में आगामी विधानसभा चुनावों से पहले एक नया राजनीतिक संगठन  इंडियन सेकुलर फ्रंट (ISF) का गठन किया है। कोलकाता प्रेस क्लब में अपने राजनीतिक संगठन के शुभारंभ में मीडिया से बात करते हुए, फुरफुरा शरीफ के मौलवी अब्बास सिद्दीकी ने कहा कि नए लॉन्च किए गए संगठन सभी 294 विधानसभा सीटों से राज्य का चुनाव लड़ सकते हैं। 'हमने यह सुनिश्चित करने के लिए इस पार्टी का गठन किया है कि संवैधानिक लोकतंत्र संरक्षित है, हर किसी को सामाजिक न्याय मिलता है और हम सभी गरिमा के साथ रहते हैं।'

पीरजादा सिद्दीकी ने कहा, 'आने वाले दिनों में, हम जनता तक पहुंचने के लिए कई कार्यक्रम आयोजित करेंगे।' जब उनसे पूछा गया कि नया राजनीतिक संगठन बनाने और चुनाव लड़ने से क्या अल्पसंख्यक वोटों का बंटवारा होगा, जिससे तृणमूल कांग्रेस को नुकसान उठाना पड़ सकता है, सिद्दीकी ने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी की चुनाव संभावनाओं के बारे में चिंता करना उनका काम नहीं है।

तृणमूल कांग्रेस के साथ एक गठबंधन की संभावना के बारे में किये गये सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'भाजपा के मार्च को रोकने के लिए राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में सभी को साथ लेकर चलने की जिम्मेदारी ममता बनर्जी की है।' पश्चिम बंगाल विधानसभा के लिए अप्रैल-मई में चुनाव होने की संभावना है।

अपनी नई पार्टी की संभावना के बारे में बात करते हुए, उन्होंने कहा कि वे आने वाले दिनों में जनता तक पहुंचने के लिए कई कार्यक्रम आयोजित करेंगे।

इस महीने की शुरुआत में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने अब्बास सिद्दीकी से मुलाकात की थी। ओवैसी ने घोषणा की थी कि उनकी पार्टी सिद्दीकी के साथ गठबंधन में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव लड़ेगी।

फुरफुरा शरीफ के 38 वर्षीय मौलवी सिद्दीकी दक्षिण बंगाल में अपना दबदबा रखते हैं, जो 294 विधानसभा सीटों में से 120 हैं। बंगाल में मुसलमान, जो कुल आबादी का लगभग 30 प्रतिशत है, देवबंदी विचारधारा या फुरफुरा शरीफ का अनुसरण करते हैं।

पश्चिम बंगाल की 294 विधानसभा सीटों पर चुनाव अगले कुछ महीनों में होने वाले हैं। बीजेपी पश्चिम बंगाल में पिछले कुछ महीनों से आक्रामक रूप से प्रचार कर रही है, जिसमें शीर्ष नेता अमित शाह, जेपी नड्डा राज्य का दौरा कर रहे हैं।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर