जम्मू-कश्मीर में बहुत तानाशाही हो गई, लोगों की हुकूमत आनी चाहिए: फारुख अब्दुल्ला

जम्मू-कश्मीर धारा 370 खत्म होने के बाद उपराज्यपाल का शासन चल रहा है। इसको लेकर नेशनल कॉन्फ्रेंस चीफ फारुख अब्दुल्ला ने एक बार फिर  केंद्र सरकार पर निशाना साधा।

Farooq Abdullah says There has been a lot of dictatorship in Jammu and Kashmir, people's rule should come
नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारुख अब्दुल्ला 

जम्मू: जम्मू-कश्मीर उपराज्यपाल पर नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) के अध्यक्ष फारुख अब्दुल्ला ने कहा कि यहां के लोग बहुत भुगत चुके हैं। बहुत तानाशाही हो गई है, बहुत अफसरशाही हो गई है, बहुत उपराज्यपाल की हुकूमत हो गई है। अब लोगों की हुकूमत आनी चाहिए। लोगों की ही हुकूमत से लोगों के मसले हल हो सकते हैं, इस तानाशाही से नहीं।

अब्दुल्ला ने पार्टी कन्वेंशन प्रोग्राम को संबोधित करते हुए कहा कि हमें वादा किया गया था कि परिसीमन होगा और उसके बाद चुनाव होंगे। केंद्र को बताया गया था कि उन्हें 6 मार्च की समय सीमा दी गई थी जिसे बढ़ाया नहीं जाएगा। लेकिन आज तक, हमें नहीं बुलाया गया है। हमें कोई रिपोर्ट नहीं दिखाया गया है। हमें नहीं पता कि क्या हो रहा है। लोग अब और पीड़ित नहीं हो सकते हैं। उपराज्यपाल के शासन के लिए पर्याप्त तानाशाही है। जनता का शासन आना चाहिए क्योंकि केवल यह उनके मुद्दों को हल कर सकता है।

उन्होंने कहा कि वे (बीजेपी) बहुत झूठ बोलते हैं। केंद्र शासित प्रदेश में पर्यटन को लेकर बहुत प्रचार किया गया है लेकिन जमीन पर कुछ नहीं हो रहा है। लोग मर रहे हैं लेकिन कहते रहते हैं कि शांति है। अगर यह मेरा शासन होता, वे पत्रकारों से मेरे खिलाफ लिखने को कहते लेकिन अब जो हो रहा है उसके बारे में लिखने की हिम्मत भी नहीं करते।

उन्होंने केंद्र शासित प्रदेश में प्रेस की स्वतंत्रता पर कथित रूप से अंकुश लगाने के लिए बीजेपी पर हमला किया और कहा कि अगर सत्ता में आए तो उनकी पार्टी मीडिया की स्वतंत्रता पर अंकुश नहीं लगाएगी।उन्होंने कहा कि वे जो चाहें लिख सकते हैं। यह वे हैं जो हमें सुधारते हैं और हमें हमारी नींद से जगाते हैं। मीडिया अभी चुप है इसका कारण यह है कि इसे चलाने वाले लोग गरीब हैं, सरकारी विज्ञापनों पर जीवित हैं। यदि विज्ञापन बंद हो जाएंगे, तो कागज बंद हो जाएगा।

इस बीच, यह कहते हुए कि जम्मू और कश्मीर के विधानसभा और संसदीय क्षेत्रों का परिसीमन जल्द से जल्द पूरा किया जाएगा, गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने मंगलवार को कहा कि परिसीमन आयोग ने केंद्र शासित प्रदेश में विभिन्न हितधारकों के साथ व्यापक परामर्श किया। 

केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर में विधानसभा और संसदीय क्षेत्रों के परिसीमन के उद्देश्य से सरकार ने न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) रंजना प्रकाश देसाई की अध्यक्षता में एक परिसीमन आयोग का गठन किया है। अधिवेशन के दौरान, अब्दुल्ला ने ओबीसी के लिए नौकरियों में 27 प्रतिशत आरक्षण के लिए भी अपना समर्थन दिया।

उन्होंने कहा कि जब मैं सत्ता आऊंगा। आपके साथ हुए अन्याय को सही करूंगा। आप (ओबीसी) के 28 उपजातियों रहे हैं। वे डॉक्टर, इंजीनियर, मुख्य सचिवों क्यों नहीं बन सकते हैं?
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर