Haryana Congress: कांग्रेस में कलह परंपरा, अब हरियाणा यूनिट में गुटबाजी की खबर

पंजाब कांग्रेस में कलह अभी समाप्त नहीं हुआ कि हरियाणा में आपसी गुटबाजी की खबरें सामने आ रही हैं। बताया जा रहा है कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा कैंप को लग रहा है कि उन्हें हाशिये पर ढकेलने की कोशिश हो रही है।

Factionalism in Haryana Congress, Bhupinder Singh Hooda, Kumari Selja, Sonia Gandhi, Rahul Gandhi, Discord in Punjab Congress
भूपेंद्र सिंह हुड्डा बताए जा रहे हैं नाराज 

मुख्य बातें

  • हरियाणा कांग्रेस में सामने आई गुटबाजी, भूपेंद्र सिंह हुड्डा समर्थक विधायक कांग्रेस महासचिव के सी वेणुगोपाल से मिले
  • हरियाणा में भूपेंद्र सिंह हुड्डा कैंप और कुमारी शैलजा कैंप में अदावत पुरानी
  • इनेलो नेता ओम प्रकाश चौटौला की रिहाई के बाद हरियाणा की राजनीति में बदलाव

अभी कांग्रेस पंजाब में गुटबाजी को खत्म करने की कोशिश कर रही है उसी बीच हरियाणा में भी कांग्रेस में अलग अलग धड़ों के बीच मतभेद सामने आ रहा है। बताया जा रहा है कि भूपेंद्र सिंह हुडा गुट से जुड़े कुछ विधायकों ने  पार्टी महासचिव के सी वेणुगोपाल से मुलाकात की। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सोमवार को, हरियाणा के कम से कम पांच पार्टी विधायकों ने कांग्रेस महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल से मुलाकात की और केंद्रीय नेतृत्व से राज्य में जिला कांग्रेस समितियों में नियुक्तियों के संबंध में कोई भी निर्णय लेने से पहले उनके विचारों पर विचार करने का आग्रह किया।

भूपेंद्र सिंह हुड्डा कैंप के विधायकों की मुलाकात
वेणुगोपाल से मिलने वाले सभी विधायक पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के करीबी बताए जा रहे हैं.हरियाणा में संगठनात्मक परिवर्तन और नई नियुक्तियों के साथ, प्रमुख पदों के लिए लॉबिंग राज्य इकाई में युद्धरत खेमों के बीच शुरू हो गई है।पांच विधायक-कुलदीप वत्स, वरुण चौधरी, बीएल सैनी, डॉ रघुबीर कादयान और बीबी बत्रा ने पार्टी मुख्यालय में केसी वेणुगोपाल से मुलाकात की और जिलों और ब्लॉक स्तर पर संभावित नियुक्तियों पर अपनी चिंताओं और आकांक्षाओं को साझा किया।समझा जाता है कि विधायकों ने पार्टी नेतृत्व को सूचित कर दिया है कि कोई भी अंतिम निर्णय लेने से पहले उनसे परामर्श किया जाना चाहिए।

कुमारी शैलजा का मुद्दा छाया
जानकार कहते हैं कि हुड्डा खेमा इस बात से चिंतित है कि राज्य इकाई की प्रमुख कुमारी शैलजा समर्थकों को खास जिम्मेदारी दी जा सकती है। विधायक कुलदीप वत्स ने कहा, "हमने केसी वेणुगोपाल के समक्ष अपनी मांगों को व्यक्त किया है। उन्होंने हमें आश्वासन दिया कि डीसीसी या पीसीसी पदों पर निर्णय लेते समय विधायकों की अनदेखी नहीं की जाएगी, और उन सभी को विश्वास में लिया जाएगा।

कांग्रेस महासचिव से मुलाकात पर सियासी बयान
राज्य इकाई में परिवर्तन के मुद्दे पर, वत्स ने कहा कि यह पार्टी आलाकमान द्वारा तय किया जाएगा। हमने अपने विचार व्यक्त किए हैं। लेकिन मैं आपको बता दूं कि हरियाणा कांग्रेस के भीतर कोई संकट नहीं है। हम अच्छा प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने कहा कि हम स्वीकार करते हैं कि हमारी ओर से कोई कमी थी। पिछले कुछ वर्षों में हमारे पास उचित संगठनात्मक ढांचा नहीं था।

विधायक बीबी बत्रा ने संवाददाताओं से कहा कि डीसीसी, प्रखंड और पीसीसी में फेरबदल विधायकों से सलाह मशविरा कर किया जाए। हालांकि विधायकों ने कुमारी शैलजा के साथ किसी भी अनबन से इनकार किया। उनमें से एक ने कहा कि यह सच नहीं है कि कुमारी शैलजा से हमारी कोई समस्या है. यह एक ऐसा मामला है जिस पर पार्टी आलाकमान कार्रवाई करेगा. इसमें हमारी कोई भूमिका नहीं है। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times Now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़, Facebook, Twitter और Instagram पर फॉलो करें.

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर