ओवैसी के 'पठान' पर फडणवीस का पलटवार, बोले- हिन्दू समाज सहिष्णु है, कमजोर नहीं

देश
किशोर जोशी
Updated Feb 22, 2020 | 15:03 IST

असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रवक्ता वारिस पठान के '15 करोड़ हैं 100 करोड़ पर भारी' वाले बयान पर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने प्रतिक्रिया दी है।

devendra fadnavis on waris pathan says Hindus Tolerant But Not Weak
ओवैसी के 'पठान' को फडणवीस का जवाब- कमजोर नहीं है हिन्दू समाज 

मुख्य बातें

  • वारिस पठान के '15 करोड़, 100 करोड़ पर भारी' वाले बयान पर देवेंद्र फडणवीस का पलटवार
  • फडणवीस बोले- हिन्दू समाज सहिष्णु है, लेकिन कमजोर नहीं
  • राज्य सरकार को वारिस पठान पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए- फडणवीस

मुंबई: असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (आईएमआईएम) नेता और पूर्व विधायक वारिस पठान के '15 करोड़ मुसलमान 100 करोड़ हिंदुओं पर भारी पड़ सकते हैं' वाले बयान को लेकर बवाल मचा हुआ है। वारिस पठान ने यह बयान 16 फरवरी को उत्तरी कर्नाटक के कलबुर्गी में संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ आयोजित एक रैली को संबोधित करने दिया था। 

फडणवीस ने किया ट्वीट

वारिस पठान के बयान पर अब महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पलटवार किया है। फडणवीस ने कहा ट्वीट करते हुए कहा, 'हिन्दू समाज सहिष्णु है, लेकिन कमजोर नहीं ! वारिस पठान को देश से माफ़ी माँगनी चाहिए।' अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए फडणवीस ने एक वीडियो डाला जिसमें उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को भी वारिस पठान पर एक्शन लेना चाहिए।

वारिस का बयान निंदनीय

फडणवीस ने कहा, 'वारिस पठान ने जिस प्रकार का बयान दिया है हम उसकी निंदा करते हैं। उन्हें यह ध्यान में रखना चाहिए कि 100 करोड़ से भी ज्यादा हिंदू इस देश में रहते हैं। इसलिए इस देश में अल्पसंख्यक भी सुरक्षित हैं और उन्हें यहां पूरी स्वतंत्रता है। इस प्रकार का कोई भी देश जिसने अपने आप को मुस्लिम राष्ट्र घोषित किया है वहां कोई बदजुबानी कर नहीं सकता है। वहां अपनी भावनाओं को भी अल्पसंख्यक व्यक्त नहीं कर सकते हैं।'

 

 

कार्रवाई करे राज्य सरकार

फडणवीस ने उद्धव सरकार से वारिस पर कार्रवाई की मांग करते हुए कहा, 'हिंदू समाज सहिष्णु हैं जो सबको साथ लेकर चलता है, लेकिन हिंदू समाज की सहिष्णुता को कोई उसकी कमजोरी ना माने, अगर कोई मानता है तो यह गलत है। मैं मानता हूं कि जिस प्रकरा का वक्तव्य उन्होंने दिया है। उन्होंने देश और हिंदू समाज से माफी मांगनी चाहिए। मैं मानता हूं कि अगर वो माफी नहीं मांगते हैं तो राज्य सरकार को उन पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए।'

क्या कहा था वारिस पठान ने

आपको बता दें कि दक्षिण कर्नाटक में सीएए के विरोध में 16 फरवरी को आयोजित एक रैली को संबोधित करते हुए वारिस पठान ने कहा था कि 15 करोड़, 100 करोड़ पर भारी पड़ेंगे। पठान ने कहा था, 'आजादी लेनी पड़ेगी और जो चीज मांगने से नहीं मिलती है उसे छी के लेना पड़ेगा। अब वक्त आ गया है, हमको बोला मां-बहनों को आगे भेज दिया है। अरे भाई अभी तो केवल शेरनियां बाहर निकली हैं और तुम्हारे पसीने छूट गए और समझ लो कि दोनों लोग साथ में आ गए तो क्या होगा। 15 करोड़ हैं मगर एक सौ करोड़ पर भारी हैं याद रखना इस बात को। ये याद रखना लेना ये बात।'

 

देश और दुनिया में  कोरोना वायरस पर क्या चल रहा है? पढ़ें कोरोना के लेटेस्ट समाचार. और सभी बड़ी ख़बरों के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें

अगली खबर