Covishield Price: कोविशिल्ड वैक्सीन की कीमत तय, सीरम ने बताए सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में कितने होंगे दाम

देश
रामानुज सिंह
Updated Apr 21, 2021 | 13:29 IST

वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम ने वैक्सीन कोविशिल्ड (covishield) की कीमत तय कर दी है। आप आसानी से सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों से खरीद सकते हैं।

Covishield vaccine price fixed, serum told how much will cost in government and private hospitals
कोविड-19 वैक्सीन कोविशिल्ड  |  तस्वीर साभार: BCCL

देश में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। सरकार ने 18 साल से ऊपर की आयु वाले लोगों को वैक्सीन लगाने की घोषणा की है। इधर वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम ने कोविड-19 वैक्सीन कोविशिल्ड (covishield) की कीमत तय कर दी है। सरकारी अस्पतालों में वैक्सीन कोविशिल्ड की कीमत 400 रुपए प्रति वैक्सीन होगी जबकि प्राइवेट अस्पतालों में इसकी कीमत प्रति वैक्सीन 600 रुपए होगी। 

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने एक बयान में कहा कि हमारी क्षमता का 50% भारत सरकार के टीकाकरण कार्यक्रम के लिए और बाकी 50% क्षमता राज्य सरकारों और निजी अस्पतालों के लिए होगा। कंपनी ने कहा कि सरकार के निर्देशों को देखते हुए कोविशील्ड की कीमत राज्य सरकारों के लिए 400 रुपए प्रति डोज और प्राइवेड अस्पतालों के लिए 600 रुपए प्रति डोज होगी।

सीरम इंस्टीट्यूट ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वैक्सीन की कीमत को देखते हुए हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि हमारा वैक्सीन दुनिया की अन्य कंपनियों के वैक्सीन के मुकाबले सस्ता हो। उसने कहा कि अमेरिकी वैक्सीन की कीमत 1,500 रुपए प्रति डोज है जबकि रूस और चीन में वैक्सीन की कीमत 750 रुपए प्रति डोज से अधिक है।

कंपनी ने कहा कु मौजूदा स्थिति को देखते हुए इसकी आपूर्ति स्वतंत्र रूप से प्रत्येक कॉरपोरेट यूनिट को करना चुनौतीपूर्ण है। हम सभी कंपनियों और निजी व्यक्तियों से आग्रह करेंगे कि वे टीका राज्य मशीनरी और प्राइवेट स्वास्थ्य सिस्टम से लें। बयान में कहा गया है कि 4-5 महीने बाद वैक्सीन और अधिक मुक्त रूप से उपलब्ध होगा।

गौर हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को वैक्सीन निर्माता कंपनियों से बात की थी। उन्होंने कहा कि वैक्सीन के विकसित होने और और उनके उत्पादन की पूरी प्रक्रिया के दौरान देश ने मिशन कोविड सुरक्षा के तहत सरकारी और प्राइवेट भागीदारी की भावना के साथ काम किया और शुरू से अंत तक वैक्सीन विकसित करने का सिस्टम विकसित किया।

उन्होंने कहा कि सरकार ने ना सिर्फ यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया कि सभी वैक्सीन उत्पादकों को हरसंभव मदद और तार्कित सहयोग मिल सके बल्कि यह भी कोशिश की कि वैक्सीन को मंजूरी की प्रक्रिया तेज और वैज्ञानिक हो। उन्होंने कहा कि नए टीकों की दौड़ में जो हैं, उन्हें सरकार की ओर से हरसंभव मदद दी जाएगी और अनुमति प्रक्रिया को आसान बनाया जाएगा।

पीएम ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में देश के प्राइवेट सेक्टर के स्वास्थ्य ढांचे ने बहुत अहम भूमिका निभाई और आने वाले दिनों में प्राइवेट सेक्टर टीकाकरण अभियान में और भी सक्रिय भूमिका निभाएंगे। उन्होंने कहा कि इसके लिए अस्पतालों और उद्योग के बीच बेहतर समन्वय की आवश्यकता होगी।

गौर हो कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण के करीब 3 लाख नए मामले आने से कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,56,16,130 हो गई, जबकि 2,023 और मरीजों की मौत हो जाने से मृतकों की संख्या 1,82,553 हो गई है।  पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 2,95,041 नए मामले आने से उपचाराधीन मरीजों की संख्या 21 लाख से अधिक हो गई।

देश में लगातार 42 वें दिन मामलों में बढ़ोतरी से उपचाराधीन मरीजों की संख्या 21,57,538 हो गई है जो कि संक्रमण के कुल मामलों का 13.82 प्रतिशत है। राष्ट्रीय स्तर पर ठीक होने की दर भी घटकर 85.01 प्रतिशत रह गई है। देश में अब तक कोरोना वायरस से संक्रमित 1,32,76,039 लोग ठीक हो चुके हैं जबकि मृत्यु दर 1.17% हो गई है।
 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर