Covaxin फेज 1 ट्रायल के अंतरिम नतीजे सामने आए, किसी वालंटियर पर गंभीर दुष्प्रभाव नहीं

भारत बायोटेक द्वारा विकसित किए जा रहे कोवाक्सिन फेज 1 अंतरिम परीक्षण के परिणामों के दौरान जो जानकारी सामने आई है वो सुखद है। किसी भी वालंटियर पर गंभीर दुष्प्रभाव नहीं दिखाई दिया है।

COVAXIN फेज 1 ट्रायल के अंतरिम नतीजे सामने आए, किसी वालंटियर पर गंभीर दुष्प्रभाव नहीं
कोवैक्सीन पर भारत बॉयोटेक के अलावा आईसीएमआर और एनआईवी भी कर रही है काम 

मुख्य बातें

  • कोवैक्सीन फेज 1 ट्रायल के अंतरिम नतीजे सामने आए, किसी भी वालंटियर पर गंभीर दुष्प्रभाव नहीं
  • कुछ लोगों ने इंजेक्शन लगने वाली जगह पर दर्द की शिकायत की
  • कोवैक्सीन, भारत की स्वदेशी वैक्सीन, भात बायोटेक और आईसीएमआर मिल कर रहे हैं काम

नई दिल्ली।  कोवैक्सिन के फेज 1के अंतरिम परीक्षण के नतीजों को जारी किया गया है जिसके मुताबिक जिन लोगों पर टेस्ट किया गया उनमें किसी तरह के गंभीर दुष्प्रभाव देखने में नहीं आए हैं।  चरण 1 परीक्षणों में प्रतिभागियों को वैक्सीन की पहली खुराक देने के बाद, दुष्प्रभाव हल्के या मध्यम बताए गए थे। टीके की वजह से अगर किसी वालंटियर को परेशानी आई तो उसका तुरंत इलाज किया गया। टीकाकरण का सबसे आम दुष्प्रभाव इंजेक्शन स्थल पर दर्द था, जो दूसरों टीकों में भी रिपोर्ट की गई है।  

सभी खुराक समूहों से बेहतर नतीजे मिले
सभी खुराक समूहों के बीच कोवैक्सीन के बेहतर नतीजे देखने को मिले हैं। कोवैक्सिन भारत की घरेलू विकसित COVID-19 वैक्सीन है, जिसका विकास और परीक्षण भारत बायोटेक द्वारा भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के साथ साझेदारी में किया गया है।कोवाक्सिन वर्तमान में भारत के विभिन्न स्थानों पर फेज 3 ट्रायल के दौर से गुजर रहा है। भारत बायोटेक ने पहले ही भारत के ड्रग्स कंट्रोलर जनरल के साथ कोवाक्सिन के आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण के लिए आवेदन किया है। हालांकि, प्राधिकरण की समीक्षा करने वाले पैनल ने प्राधिकरण पर विचार करने के लिए फार्मा कंपनी से अधिक डेटा मांगा है।

इमरजेंसी इस्तेमाल की मांगी गई है इजाजत
फार्मा कंपनी के अधिकारियों ने कहा है कि टीका अगले साल की शुरुआत में उपलब्ध होने की संभावना है।भारत में दौड़ में शामिल अन्य टीकों में सीरम इंस्टीट्यूट के कोविल्ड शामिल हैं, जिन्होंने डीसीजीआई से आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण की भी मांग की है। हालांकि, पैनल ने एसआईआई को भारत बायोटेक की तरह वैक्सीन पर अधिक डेटा जमा करने के लिए कहा है।

"केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (CDSCO) की एक विशेषज्ञ समिति ने बुधवार को सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक के COVID-19 वैक्सीन उम्मीदवारों के लिए अतिरिक्त सुरक्षा और प्रभावकारिता डेटा की मांग की, उनके आवेदनों पर विचार-विमर्श के बाद शॉट्स के लिए आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण की मांग की," पीटीआई की रिपोर्ट पढ़ी।

वैक्सीन वितरण प्रणाली पर तेजी से काम जारी
वैक्सीन की रेस में दुनिया के दूसरे देशों की तरह भारत में युद्धस्तर पर प्रयास जारी है। भारत सरकार अलग अलग राज्य सरकारों के साथ मिलकर वैक्सीन के वितरण प्रणाली पर काम कर रही है।  COVID-19 के लिए 200 से अधिक टीके वर्तमान में दुनिया भर में विकास के अधीन हैं। Pfizer-BioNTech को अमेरिका और ब्रिटेन सहित विभिन्न देशों में आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी मिली है,और टीकाकरण पहले ही शुरू हो चुका है।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर