कांग्रेस की हालत पर कपिल सिब्बल दुखी, पार्टी अध्यक्ष से लेकर पंजाब की स्थिति और नेताओं के छोड़ने तक पर की बात

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा है कि कांग्रेस को कभी ऐसी हालत में नहीं देखा। पार्टी की हालत देखकर दुख होता है। इस वक्त पार्टी में कोई अध्यक्ष नहीं है। हमारी पार्टी में संवाद की जरूरत है।

kapil sibal
कपिल सिब्बल 
मुख्य बातें
  • पार्टी में एकाधिकार नहीं होना चाहिए: सिब्बल
  • विपक्ष तभी मजबूत होगा जब कांग्रेस मजबूत होगी: सिब्बल
  • पार्टी में संवाद की जरूरत है: कपिल सिब्बल

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा है कि हमारी पार्टी में कोई अध्यक्ष नहीं है इसलिए हमें नहीं पता कि ये निर्णय कौन ले रहा है। हम जानते हैं और फिर भी हम नहीं जानते। एक सीमावर्ती राज्य (पंजाब) जहां कांग्रेस पार्टी के साथ ऐसा हो रहा है, इसका क्या मतलब है? यह ISI और पाकिस्तान के लिए एक फायदा है। हम पंजाब के इतिहास और वहां उग्रवाद के उदय को जानते हैं। कांग्रेस को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे एकजुट रहें।

उन्होंने कहा कि मैं आपसे (मीडिया) उन कांग्रेसियों की ओर से बोल रहा हूं जिन्होंने पिछले साल अगस्त में पत्र लिखा था और CWC और चुनाव समिति से केंद्रीय अध्यक्ष के पद के चुनाव के संबंध में हमारे नेतृत्व द्वारा की जाने वाली कार्रवाई की प्रतीक्षा कर रहे हैं। मेरा मानना है कि मेरे एक वरिष्ठ सहयोगी ने कांग्रेस अध्यक्ष को तुरंत कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक बुलाने के लिए लिखा है या लिखने वाले हैं ताकि बातचीत हो सके कि हम इस स्थिति में क्यों हैं।

सिब्बल ने कहा कि हम (जी-23 के नेता) वे नहीं हैं जो पार्टी छोड़कर कहीं और जाएंगे। यह विडंबना है। जो उनके (पार्टी नेतृत्व) करीब थे, वे चले गए और जिन्हें वे अपने करीब नहीं मानते, वे अब भी उनके साथ खड़े हैं। देश के हर कांग्रेसी को सोचना चाहिए कि पार्टी को कैसे मजबूत किया जा सकता है। जो जा चुके हैं वो वापस आएं क्योंकि कांग्रेस ही इस गणतंत्र को बचा सकती है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि हम 'जी हुजूर 23' नहीं हैं। यह बहुत स्पष्ट है। हम बात करते रहेंगे। हम अपनी मांगों को दोहराना जारी रखेंगे।
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर