भारत-चीन तनाव: गलवान में चीनी सेना नहीं, मार्शल आर्ट में माहिर 'हत्‍यारों' से हुई थी भारतीय सैनिकों की झड़प!

India China clash in Galwan valley: पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है। इस बीच 15 जून को हुई हिंसक झड़प को लेकर चौंकाने वाला खुलासा हुआ है।

भारत-चीन तनाव: गलवान में चीनी सेना नहीं, मार्शल आर्ट में माहिर 'हत्‍यारों' से हुई थी भारतीय सैनिकों की झड़प!
भारत-चीन तनाव: गलवान में चीनी सेना नहीं, मार्शल आर्ट में माहिर 'हत्‍यारों' से हुई थी भारतीय सैनिकों की झड़प!  |  तस्वीर साभार: AP, File Image

मुख्य बातें

  • पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून को भारत और चीनी सैनिकों के बीच झड़प हुई थी
  • इसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए, जिसके बाद दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है
  • बताया जा रहा है कि चीन ने कुछ दिनों पहले ही एलएसी पर घातक 'हत्‍यारों' की तैनाती की थी

नई दिल्‍ली : पूर्वी लद्दाख में वास्‍तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन के बीच तनाव की स्थिति यूं तो अप्रैल के आखिर से ही बनी हुई है, पर 15 जून को हुए खूनी संघर्ष के बाद दोनों देशों में तनाव चरम पर है, जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए। इस बीच भारत-चीन सैन्‍य टकराव को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है, जिसके मुताबिक भारतीय सैनिकों का मुकाबला चीन के सामान्‍य सैनिकों से नहीं, बल्कि मार्शल आर्ट में माहिर 'हत्‍यारों' से हुआ था।

मार्शल आर्ट में माहिर लड़ाके थे शामिल

रिपोर्ट्स के अनुसार, चीन ने इस झड़प से कुछ दिन पहले ही अपनी माउंटेन डिविजन और मार्शल आर्ट में माहिर इन लड़ाकों को एलएसी के नजदीक तैनात किया था। चीन की पीपुल्‍स लिबरेशन आर्मी (PLA) के इस माउंटेन डिविजन में तिब्बत के स्थानीय मार्शल आर्ट क्लब से भर्ती किए गए लड़ाके और नियमित सैनिक भी शामिल थे। ये पहाड़ों पर चढ़ाई और मार्शल आर्ट में माहिर व घातक हमालवर होते हैं। एलएसी पर हिंसक वारदातों के लिए इन्‍हें ही जिम्‍मेदार समझा जा रहा है।

भाले, रॉड से संघर्ष में भी होते हैं माहिर 

दरअसल, चीन अच्‍छी तरह जानता है कि भारतीय रक्षा तंत्र 1962 के जैसा नहीं है और अब परंपरागत युद्ध को लेकर पहले जैसे हालात भी नहीं हैं। ऐसे में उसने लद्दाख में अपनी नीतियों को बड़ा बदलाव लाते हुए यहां बड़ी संख्या में मार्शल आर्ट में माहिर लड़ाकों की भर्ती की है। ये लड़ाके मार्शल आर्ट के अलावे लाठी-भाले, डंडा और रॉड के जरिये संघर्ष में भी माहिर होते हैं और 15 जून की ही झड़प को देखा जाए तो उसमें भी चीनी पक्ष द्वारा कील लगे लोहे के रॉड इस्‍तेमाल किए जाने की बात भी सामने आई है, जिसकी तस्‍वीरें भी सोशल मीडिया पर सामने आई हैं।

चीनी सैनिकों को दिया जा रहा प्रशिक्षण

'पीपुल्स डेली' की रिपोर्ट के अनुसार, मूलत: तिब्बत के पठार वाले इलाके से ताल्‍लुक रखने वाले ये लड़ाके छद्म युद्ध में भी माहिर हैं और चीनी सेना को नुकीली चीज या लाठी, डंडों से लड़ने की ट्रेनिंग भी दे रहे हैं। एलएसी पर तैनात पीएलए की इस माउंटेन डिविजन में चीन के माउंट एवरेस्ट ओलंपिक टॉर्च रिले टीम के पूर्व सदस्यों को भी शामिल किया गया है, जो चीनी सैनिकों को पहाड़ पर चढाई के गुर सिखाते हैं। चीन इनके जरिये सीमा पर टकराव बढ़ाने की फिराक में है, जिसे देखते हुए भारत को विशेष सतर्कता बरतने की जरूरत है।

देश और दुनिया में  कोरोना वायरस पर क्या चल रहा है? पढ़ें कोरोना के लेटेस्ट समाचार. और सभी बड़ी ख़बरों के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें

अगली खबर