सावधान! वायु प्रदूषण से पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक खतरा, रिसर्च से हुआ खुलासा

Air pollution : वायु प्रदूषण के असर को लेकर भारतीय मूल के शोधकर्ताओं ने रिसर्च किया और पाया कि डीजल वाले वाहन और मशीनों से निकलने वाले धुएं में सांस लेने वाले महिला और पुरुषों में अधिक प्रभावित महिलाएं होती है।

Caution, Women are more at risk than men from air pollution, research reveals
वायु प्रदूषण से महिलाओं को अधिक नुकसान 

Air pollution: भारतीय मूल के रिसर्च की एक टीम ने पाया है कि डीजल वाले धुएं से सांस लेने का असर पुरुषों की तुलना में महिलाओं पर ज्यादा गंभीर हो सकता है। कनाडा के विन्निपेग में मैनिटोबा यूनिवर्सिटी के डॉ हेमशेखर महादेवप्पा और प्रोफेसर नीलोफर मुखर्जी ने डीजल निकास के संपर्क में आने से लोगों के खून में बदलाव की जांच की। महिलाओं और पुरुषों दोनों में उन्होंने सूजन, संक्रमण और हृदय रोग से संबंधित रक्त के कॉम्पोनेंट में परिवर्तन पाया, लेकिन उन्होंने पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक चेंज पाया।

ब्रिटिश कोलंबिया यूनिवर्सिटी, वैंकूवर, कनाडा में महादेवप्पा, मुखर्जी और क्रिस कार्लस्टन द्वारा किए गए रिसर्च को अगले सप्ताह बार्सिलोना, स्पेन में यूरोपीय रेस्पिरेटरी सोसाइटी इंटरनेशनल कांग्रेस में प्रस्तुत किया जाएगा। महादेवप्पा ने कहा कि हम पहले से ही जानते हैं कि अस्थमा और श्वसन संक्रमण जैसे फेफड़ों के रोगों में लिंग अंतर होता है। हमारे पिछले रिसर्च से पता चला है कि सांस में डीजल जाने से फेफड़ों में सूजन पैदा होती है और शरीर श्वसन संक्रमण से कैसे निपटता है, इस पर प्रभाव पड़ता है।

नए अध्ययन में 10 स्वयंसेवक, 5 महिलाएं और 5 पुरुष शामिल थे, जो सभी स्वस्थ थे और धूम्रपान न करने वाले थे। प्रत्येक स्वयंसेवक ने फिल्टर्ड हवा में सांस लेने में 4 घंटे बिताए और प्रत्येक एक्सपोजर के बीच 4 सप्ताह के ब्रेक के साथ तीन अलग-अलग कॉनसेंट्रेशन में डीजल निकास धुएं वाली हवा में सांस लेने में 4 घंटे बिताए। स्वयंसेवकों ने प्रत्येक प्रदर्शन के 24 घंटे बाद ब्लड के नमूने दान किए और रिसचर्स ने स्वयंसेवकों के ब्लड प्लाज्मा की विस्तृत जांच की। महिलाओं और पुरुषों के बीच अंतर करने वाले प्रोटीनों में से कुछ ऐसे थे जो सूजन, डाइमेज रिपेयर, रक्त के थक्के, हृदय रोग और इम्यूनिटी सिस्टम में भूमिका निभाने के लिए जाने जाते हैं। इनमें से कुछ अंतर तब स्पष्ट हो गए जब स्वयंसेवकों को हाई लेवल डीजल निकास के संपर्क में लाया गया। 

मुखर्जी ने कहा कि ये प्रारंभिक निष्कर्ष हैं, हालांकि वे दिखाते हैं कि पुरुषों की तुलना में डीजल निकास के संपर्क में महिला के शरीर पर अलग-अलग प्रभाव पड़ते हैं और यह संकेत दे सकता है कि वायु प्रदूषण पुरुषों की तुलना में महिलाओं के लिए अधिक खतरनाक है। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि अस्थमा जैसे श्वसन रोग महिलाओं और पुरुषों को अलग तरह से प्रभावित करने के लिए जाने जाते हैं, महिलाओं में गंभीर अस्थमा होने की संभावना अधिक होती है इसपर इलाज का असर नहीं दिखता है। मुखर्जी ने कहा कि इसलिए, हमें इस बारे में और भी बहुत कुछ जानने की जरूरत है कि महिलाएं और पुरुष वायु प्रदूषण के प्रति कैसे प्रतिक्रिया करते हैं और सांस की बीमारी को रोकने, निदान और इलाज के लिए इसका क्या मतलब है।

डेनमार्क के कोपेनहेगन यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर ज़ोराना एंडरसन ने कहा कि हमें यह भी समझने की जरूरत है कि वायु प्रदूषण खराब स्वास्थ्य में कैसे और क्यों योगदान देता है। यूरोपीय रेस्पिरेटरी सोसाइटी एनवायरनमेंट एंड हेल्थ कमेटी के अध्यक्ष एंडरसन ने कहा कि यह अध्ययन कुछ महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्रदान करता है कि शरीर डीजल निकास पर कैसे प्रतिक्रिया करता है और यह महिलाओं और पुरुषों के बीच कैसे अलग हो सकता है।
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर