भाजपा सांसद सरोज पांडे ने सीएम बघेल को भेजी राखी, मांगा गिफ्ट तो मिला रोचक जवाब

BJP MP Saroj Pandey: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सांसद सरोज पांडे ने रक्षाबंधन के मौके पर राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को राखी भेजी है। भाजपा सांसद ने इसके लिए सीएम से उपहार मांगा।

 BJP MP Saroj Pandey seeks liquor ban as 'Rakhi gift' but Chhattisgarh CM sends her 'saree'
भाजपा सांसद सरोज पांडे ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को राखी भेजी है। 

मुख्य बातें

  • भाजपा सांसद सरोज पांडे ने भेजी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को राखी
  • एमपी सरोज ने राज्य में शराब पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने के वादे की याद दिलाई
  • भूपेश बघेल ने राज्य की पारंपरिक साड़ी उपहार स्वरूप सांसद को भेंट की

रायपुर : राजनीति में राजनीतिक विरोधियों के बीच केवल आरोप-प्रत्यारोप एवं व्यक्तिगत हमले ही नहीं होते बल्कि कई बार ऐसे अवसर भी आते हैं जब नेताओं के बीच राजनीतिक मिलनसारिता और अच्छे संबंधों की पहल होती दिखती है। रक्षा बंधन पर्व के मौके पर छ्त्तीसगढ़ की राजनीति में ऐसे ही एक पहल हुई है। भारतीय जनता पार्टी की सांसद सरोज पांडे ने राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को राखी भेजी है और इसके साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री से उपहार भी मांगा। मुख्यमंत्री बघेल ने भी बिना देरी किए पांडे को रोचक जवाब दिया। वहीं, कांग्रेस का कहना है कि वह भाजपा इस त्योहार के जरिए राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश कर रही है। दरअसल, सांसद पांडे ने मुख्यमंत्री बघेल से राज्य में पूर्ण शराबबंदी लागू करने की मांग की है।

सीएम ने भेंट की राज्य की पारंपरिक साड़ी
बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री ने सांसद को उपहार स्वरूप राज्य की पारंपरिक साड़ी 'लुगरा' भेंट की है। साथ ही कहा है कि राज्य में पूर्ण शराबबंदी के लिए उनकी सरकार ने कदम उठाना शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा, 'मुझे ज्यादा खुशी तब हुई होती जब आप पीएम मोदी और पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह को उनके वादों को याद दिलाते हुए उन्हें राखी भेजी होती।' भाजपा सांसद ने राखी के साथ मुख्यमंत्री को एक पत्र भी भेजा है जिसमें उन्होंने याद दिलाया कि 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में राज्य में शराब पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाने का वादा किया।

सांसद सरोज ने वादे की याद दिलाई
पत्र के मुताबिक पांडे ने कहा, 'आपके वादे पर छत्तीसगढ़ की बहनों ने आप पर भरोसा किया और इसके चलते आप राज्य के सीएम बने। राखी के मौके पर राज्य की बहनें आपसे उपहार की उम्मीद कर रही हैं।' बता दें कि विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य में शराब पर प्रतिबंध प्रमुख चुनावी मुद्दा बनकर उभरा था। कांग्रेस ने सत्ता में आने पर इस पर प्रतिबंध लगाने की बात भी कही। कांग्रेस के इस वादे को महिलाओं ने काफी पसंद किया। राज्य में महिला मतदाताओं की आबादी करीब 50 प्रतिशत है। 

राज्य सरकार ने शराब बंदी पर उठाए हैं कदम
सत्ता में आने के बाद कांग्रेस सरकार ने शराब की बिक्री पर रोक लगाने के लिए कदम उठाने शुरू किए। मुख्यमंत्री बघेल की नेतृत्व वाली सरकार ने फरवरी 2019 में तीन सदस्यों की एक समिति बनाई। इस समिति में विशेषज्ञ, सामाजिक कार्यकर्ता और विधायक शामिल किए गए। राज्य में शराब बंदी के पहलुओं का अध्ययन करने के लिए इस समिति का गठन हुआ। कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा है कि रक्षाबंधन भाई- बहन के रिश्ते का पावन त्यौहार है लेकिन भाजपा इस संस्कृति में भी राजनीति करने से परहेज नही कर रही है।

देश और दुनिया में  कोरोना वायरस पर क्या चल रहा है? पढ़ें कोरोना के लेटेस्ट समाचार. और सभी बड़ी ख़बरों के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें

अगली खबर