'दूसरी लहर में हर गांव में 10 लोगों की मौत'; एक और BJP नेता ने यूपी सरकार के कोविड प्रबंधन पर उठाए सवाल

भाजपा नेता राम इकबाल सिंह ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान हर गांव में कम से कम 10 लोगों की मौत हुई है क्योंकि पहली लहर से कोई सबक नहीं लिया गया।

death
फाइल फोटो 

मुख्य बातें

  • दूसरी लहर में हर गांव में कम से कम दस लोगों की मौत हुई: राम इकबाल सिंह
  • राम इकबाल सिंह ने दावा किया है कि कोविड-19 की पहली लहर से सबक नहीं लिया
  • सिंह ने आरोप लगाया है कि बलिया जिले में स्वास्थ्य विभाग की पूरी व्यवस्था ध्वस्त हो गई है

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के खिलाफ एक और बीजेपी नेता ने कोविड-19 संकट के प्रबंधन को लेकर नाराजगी व्यक्त की है। उन्होंने दावा किया कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान हर गांव में कम से कम 10 लोगों की मौत हुई है क्योंकि पहली लहर से कोई सबक नहीं लिया गया। मीडिया से बात करते हुए यूपी भाजपा कार्यसमिति के सदस्य और पूर्व विधायक राम इकबाल सिंह ने खेद व्यक्त किया कि स्वास्थ्य विभाग ने कोविड​​-19 की पहली लहर से कोई सबक नहीं सीखा, जिसके कारण दूसरी लहर में बीमारी के कारण बड़ी संख्या में मौतें हुईं। 

उन्होंने आरोप लगाया, 'कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के दौरान राज्य के हर गांव से कम से कम 10 लोगों की मौत हो गई।' यह याद दिलाने पर कि बलिया की अपनी यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वास्थ्य विभाग द्वारा की गई व्यवस्थाओं पर संतोष व्यक्त किया था, सिंह ने कहा कि अधिकारियों ने सीएम को गुमराह किया था और सच्चाई नहीं दिखाई गई थी। 

उन्होंने कोविड​​-19 पीड़ितों के परिजनों के लिए 10 लाख रुपए की अनुग्रह राशि की मांग की और भाजपा सरकार से राज्य में किसानों को डीजल सब्सिडी देने का आग्रह किया।

पहले भी उठे सवाल

इससे पहले मई में भाजपा के सीतापुर विधायक राकेश राठौर उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ पार्टी के उन नेताओं की सूची में शामिल हो गए थे, उन्होंने राज्य में कोविड कुप्रबंधन पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा था कि उन्हें बोलने पर देशद्रोह के आरोप का डर है। 

9 मई को केंद्रीय श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने मुख्यमंत्री से उनके बरेली निर्वाचन क्षेत्र की स्थिति के बारे में शिकायत करते हुए कहा था कि अधिकारी फोन नहीं लेते हैं और सरकारी स्वास्थ्य केंद्र जिला अस्पताल से मरीजों को 'रेफरल' के लिए वापस भेजते हैं। 

एक दिन बाद, फिरोजाबाद के जसराना के भाजपा विधायक रामगोपाल लोधी ने दावा किया कि उनकी कोरोना वायरस पॉजिटिव पत्नी को तीन घंटे से अधिक समय तक आगरा के एक अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया था। अधिकारियों ने कहा कि बेड उपलब्ध नहीं थे। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर