क्या अखिलेश यादव और आजम खान के बीच सब ठीक है? विधायकों की बैठक में शामिल नहीं हुए आजम खान और शिवपाल यादव

हाल ही में जेल से बाहर आए आजम खान ने समाजवादी पार्टी के विधायकों की बैठक में हिस्सा नहीं लिया। इससे एक बार फिर उन खबरों को बल मिला जिनमें कहा जा रहा है कि आजम सपा नेतृत्व से खफा हैं।

azam khan
आजम खान और शिवपाल यादव 

आजम खान और शिवपाल यादव रविवार को पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव द्वारा विधानसभा सत्र से पहले बुलाई गई समाजवादी पार्टी विधायकों की बैठक में शामिल नहीं हुए। सपा नेताओं ने कहा कि हाल ही में सीतापुर जेल से रिहा हुए खान रामपुर में हैं और स्वास्थ्य कारणों से बैठक में शामिल नहीं हो सके। हालांकि, रामपुर में आजम खान को अपने बेटे अब्दुल्ला आजम के साथ विभिन्न मामलों में वहां बंद अपने समर्थकों से मिलने के लिए जिला जेल का दौरा करते देखा गया।

आजम खान के अलावा, उनके बेटे अब्दुल्ला और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (PSPL) प्रमुख शिवपाल यादव जो जसवंत नगर (इटावा) से सपा विधायक हैं, वो भी सपा मुख्यालय में बैठक के लिए नहीं आए।

सपा विधायक रविदास मेहरोत्रा ने कहा कि आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्ला कल सत्र में भाग लेंगे। आजम अखिलेश यादव के बाईं ओर बैठेंगे और भाजपा सरकार के खिलाफ मुद्दे उठाएंगे। खान स्वास्थ्य के कारण बैठक में शामिल नहीं हो सके। उन्होंने कहा कि खान पहले शपथ लेंगे और फिर सोमवार को विधानसभा सत्र में भाग लेंगे।

आजम खान के खिलाफ रामपुर में भूमि हथियाने सहित 88 मामले दर्ज थे और सुप्रीम कोर्ट द्वारा धोखाधड़ी के एक मामले में उन्हें अंतरिम जमानत दिए जाने के बाद 20 मई को उन्हें सीतापुर जेल से रिहा कर दिया गया। खान के मीडिया प्रभारी फसाहत अली खान ने अखिलेश यादव पर आजम के जेल में रहने के दौरान उनकी और मुस्लिम समुदाय की अनदेखी करने का आरोप लगाया था। इससे पार्टी में दरार की अटकलें लगाई जा रही थीं। फसाहत अली खान ने आरोप लगाया था कि अखिलेश यादव जेल में केवल एक बार आजम खान से मिले और पार्टी ने पिछले ढाई साल में उनकी रिहाई के लिए कोई प्रयास नहीं किया।

अखिलेश के नहीं मिलने पर बोले आजम खान- नहीं पता जेल के बाहर क्या हुआ, कुछ तो मजबूरियां रही होंगी

आजम खान के समाजवादी पार्टी नेतृत्व से नाखुश होने की अफवाहों को तब बल मिला जब वह जेल में रविदास मेहरोत्रा से नहीं मिले, लेकिन एक दिन बाद वहां गए कांग्रेस नेता प्रमोद कृष्णम से मिले। शिवपाल यादव की अनुपस्थिति के बारे में मेहरोत्रा ने कहा कि हालांकि वह सपा के चुनाव चिन्ह (साइकिल) पर जीते थे, लेकिन वह एक पार्टी के प्रमुख हैं। पहले भी वह एक बैठक में शामिल नहीं हुए थे। बैठक में अखिलेश यादव ने पार्टी विधायकों को जनहित के मुद्दे उठाने को कहा।

आजम खान की रिहाई बदलेगी मुस्लिम सियासत ! जानें यूपी में क्या बन सकते हैं समीकरण

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर