अदालती फैसले के बाद बोले पशुपति कुमार पारस, रास्ता भटक गए चिराग पासवान

देश
ललित राय
Updated Jul 09, 2021 | 22:19 IST

लोकजनशक्ति पार्टी के मुद्दे पर दिल्ली हाईकोर्ट ने चिराग पासवान की अर्जी को खारिज कर दी है। इस फैसले पर उनके चाचा पशुपति कुमार पारस तंज कसते हुए टिप्पणी की।

Lok Janshakti Party, Pashupati Kumar Paras, Chirag Paswan, Delhi High Court, whose Lok Janshakti Party, JDU, Nitish Kumar
पशुपति कुमार पारस, नरेंद्र मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं 

मुख्य बातें

  • दिल्ली हाईकोर्ट ने चिराग पासवान की अर्जी खारिज की
  • अदालत के फैसले के बाद पशुपति कुमार पारस बोले-चिराग पासवान रास्ता भटक गए
  • एलजेपी में फूट के बाद 6 में से पांच सांसद पशुपति कुमार पारस के साथ

लोक जनशक्ति पार्टी किसकी है। इस पार्टी पर राम विलास पासवान के भाई पशुपति पारस का हक है या बेटे चिराग पासवान का। दरअसल 6 सदस्यों वाली एलजेपी में फूट पड़ी और पशुपति कुमार पारस की अगुवाई में पांच सांसद अलग हो गए तो चिराग पासवान की तरफ से दलील दी गई कि एक तरह से पार्टी का अपहरण हुआ और उसके खिलाफ उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट ने अर्जी दी कि पशुपति पारस का पार्टी पर वैधानिक हक नहीं है, हालांकि अदालती लड़ाई चिराग पासवान के खिलाफ गई है और उनके केस को मेरिट ना होने के आधार खारिज कर दिया गया। अब इस मुद्दे पर पशुपति कुमार पारस ने क्या कुछ कहा वो दिलचस्प है। 

चिराग पासवान रास्ते से भटक गए
पशुपति पारस ने विक्ट्री साइन बनाते हुए कहा कि वो कोर्ट के फैसले का आदर करते हैं। रामविलास पासवान की प्रापर्टी में चिराग पासवान का अधिकार है, वो मेरे भतीजे हैं, उन्हें किसी तरह का कष्ट नहीं दूंगा। लेकिन रास्ते से वो भटक गए। पार्टी में सभी लोग उनके खिलाफ जा चुके हैं।  उन्होंने कहा कि जब पांच सांसदों ने चिराग को  अलग थलग कर दिया तो यह सवाल ही नहीं प्रासंगिक है कि एलजेपी पर उनका हक है। 

चिराग पासवान की अर्जी खारिज
चिराग पासवान ने हाई कोर्ट में याचिका दाखिल कर लोकसभा अध्यक्ष के उस फैसले को चुनौती दी है जिसमें उनके चाचा पशुपति पारस की अगुवाई वाले गुट को सदन में एलजेपी नेता के तौर पर मान्यता दी गई थी। इस मामले में शुक्रवार हो दिल्ली हाई कोर्ट में जस्टिस रेखा पल्ली की बेंच इस मामले में सुनवाई की थी। पार्टी संविधान का हवाला देते हुए  उन्होंने अपने चाचा पर धोखाधड़ी का आरोप लगाया था। चिराग ने कहा था कि पार्टी विरोधी और शीर्ष नेतृत्व को धोखा देने के कारण लोक जनशक्ति पार्टी से पशुपति कुमार पारस के धड़े को बाहर का रास्ता पहले ही दिखा दिया गया था। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times Now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर