गलवान हिंसा के बाद साउथ चाइना सी में भारत ने तैनात किया युद्धपोत, चीन को है आपत्ति

गलवान घाटी में चीन के साथ हुई हिंसक झड़प के बाद भारतीय नौसेना ने बड़ा कदम उठाते हुए दक्षिण चीन सागर में फ्रंटलाइन वॉरशिप को तैनात कर दिया था। इस पर चीन ने नाराजगी भी जताई।

warship
प्रतीकात्मक तस्वीर 

मुख्य बातें

  • भारतीय नौसेना ने दक्षिण चीन सागर में तैनात किए जंगी जहाज
  • चीन ने इस मुद्दे को भारत के सामने उठाया है और विरोध जताया है
  • गलवान घाटी में हुई हिंसा के बाद भारत ने साउथ चाइना सी में युद्धपोत तैनात किया

नई दिल्ली: 15 जून को पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुए हिंसक टकराव के बाद तेजी से कार्रवाई करते हुए भारतीय नौसेना ने दक्षिण चीन सागर में तैनाती के लिए अपना अग्रिम युद्धपोत रवाना किया। इस कदम पर चीन ने आपत्ति भी जताई। चीनी इस क्षेत्र में भारतीय नौसेना के जहाजों की उपस्थिति पर आपत्ति जताते रहे हैं, जहां उन्होंने कृत्रिम द्वीपों और सैन्य उपस्थिति के माध्यम से 2009 से अपनी उपस्थिति में काफी विस्तार किया है।

सरकारी सूत्रों ने एएनआई को बताया, 'गलवान हिंसा में हमारे 20 सैनिक मारे गए थे, इसके तुरंत बाद भारतीय नौसेना ने अपने एक फ्रंटलाइन वॉरशिप को दक्षिण चीन सागर में तैनात किया। यहां पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की नौसेना किसी भी अन्य बल की मौजूदगी पर आपत्ति जताती है और अधिकांश क्षेत्र पर अपना दावा करती है।'

सूत्रों के अनुसार, साउथ चाइना सी में भारतीय नेवी के जंगी जहाज की तत्काल तैनाती चीन पर गहरा प्रभाव पड़ा और उन्होंने भारतीय पक्ष से राजनयिक स्तर की वार्ता के दौरान भारतीय युद्धपोत की उपस्थिति के बारे में शिकायत भी की। यहां अमेरिकी नौसेना ने भी अपने जंगी जहाज तैनात किए हुए थे। इस दौरान भारतीय युद्धपोत लगातार अमेरिकी समकक्षों के साथ संपर्क बनाए हुए थे।

लगभग इसी समय भारतीय नौसेना ने अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के पास मलक्का जलडमरूमध्य में भी अपने अग्रिम जहाजों को तैनात किया था ताकि चीनी नौसेना की किसी भी गतिविधि पर नजर रखा जाए। यहां से चीनी नौसेना हिंद महासागर क्षेत्र में प्रवेश करती है।  

सूत्रों ने कहा कि भारतीय नौसेना पूर्वी या पश्चिमी मोर्चे पर विरोधियों द्वारा किसी भी दुस्साहस पर नजर रखने में पूरी तरह से सक्षम है और मिशन-आधारित तैनाती ने इसे हिंद महासागर क्षेत्र में और इसके आसपास की उभरती स्थितियों को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने में मदद की है।
 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर