Surya Namaskar : वैश्विक सूर्य नमस्कार पर सियासत, महबूबा-उमर को नजर आई सांप्रदायिकता

Surya Namskar : आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में सरकार एक जनवरी से 20 फरवरी तक देश भर के स्कूलों में सूर्य नमस्कार एवं योगासनों का आयोजन कर रही है।

After AIMPLB, Omar Abdullah & Mehbooba Mufti Oppose Surya Namaskar Move
उमर-महबूबा ने स्कूलों में सूर्य नमस्कार का विरोध किया है।  |  तस्वीर साभार: PTI

नई दिल्ली : सरकार ने मकर संक्रांति के मौके पर स्कूलों में वैश्विक सू्य नमस्कार कार्यक्रम का आयोजन किया है लेकिन इस पर राजनीति शुरू हो गई है। जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों महबूबा मुफ्ती और उमर अब्लुल्ला को इसमें सांप्रदायिकता का रंग दिखा है। इन नेताओं ने सूर्य नमस्कार को मुस्लिमों के धार्मिक मामलों में दखलंदाजी बताया है। नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर ने कहा है कि सरकारी बाबुओं को लोगों पर धार्मिक रिवाज नहीं थोपना चाहिए। उन्हें धार्मिक मामलों में दखलंदाजी देने का अधिकार नहीं है। वहीं, पीडीपी मुखिया महबूबा ने इसे शिक्षण संस्थाओं में सूर्य नमस्कार आयोजित करने को कश्मीरियों का अपमान करने वाला बताया है।  

उमर और मेहबूबा ने किया ट्वीट

उमर ने अपने ट्वीट में कहा है कि 'कल कोई मुस्लिम मुख्यमंत्री आदेश जारी कर यदि यह कहे कि सभी को रमजान का उपवास करना है तो गैर-मुस्लिम समुदाय को यह कैसा लगेगा? बाबुओं को धार्मिक प्रथाओं को लोगों पर थोपने से बाज आना चाहिए। उन्हें धार्मिक मामलों में दखल देने का अधिकार नहीं है।'

वहीं, पीडीपी नेता महबूबा ने कहा है कि 'भारत सरकार का उद्देश्य मस्लिम समुदाय का अपमान करना है। स्कूलों के छात्रों एवं स्टॉफ को सूर्य नमस्कार के लिए बाध्य करना सांप्रदायिक सोच को बढ़ाने वाला है।'

AIMPLB ने भी किया विरोध

लोगों में एक स्वस्थ जीवन शैली की शुरुआत के लिए भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने सूर्य नमस्कार कार्यक्रम की शुरुआत की है। आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में सरकार एक जनवरी से 20 फरवरी तक देश भर के स्कूलों में सूर्य नमस्कार एवं योगासन का आयोजन कर रही है। ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने भी सरकार के इस पहल का विरोध किया है। मुस्लिम संगठन ने बयान जारी कर कहा है कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है और एक बहुसंख्यक समाज के रीति रिवाजों को सभी धर्मों पर थोपा नहीं जा सकता। एआईएमपीएलबी ने मुस्लिम छात्रों से सूर्य नमस्कार का बहिष्कार करने के लिए कहा है। 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर