एक महीने में 95 और चार दिन में बिहार से आए 81 मामले, आखिर ऐसा क्यों हुआ

देश
ललित राय
Updated Apr 24, 2020 | 19:46 IST

Bihar corona news: 20 अप्रैल से 24 अप्रैल के बीच कोरोना केस के जो 81 मामले सामने आए हैं, वो परेशान करने वाले हैं, आखिर इसके पीछे की वजह क्या है।

एक महीने में 95 और चार दिन में बिहार से आए 81 मामले, आखिर ऐसा क्यों हुआ
बिहार में कोरोना के अब तक कुल 176 केस 

मुख्य बातें

  • बिहार में कोरोना के कुल मामले अब तक 176
  • 22 मार्च को मुंगेर में पहला केस हुआ था दर्ज, 22 मार्च से 20 अप्रैल तक 95 केस दर्ज
  • 20 अप्रैल से 24 अप्रैल तक 81 केस दर्ज

नई दिल्ली। पूरे देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 23 हजार के पार है। लेकिन इसके साथ कुछ सुखद खबरें आती हैं तो इसके साथ परेशान करने वाली खबरें होती हैं। देश के चार बड़े शहरों सूरत, अहमदाबाद, हैदराबाद और चेन्नई की जमीनी हालात की समीक्षा के लिए केंद्रीय टीमें दौरे पर जा रही हैं, तो इसके साथ ही बिहार से जो आंकड़े आए हैं वो परेशान करने वाले हैं। दरअसल उसके पीछे वजह है। 22 मार्च से 20 अप्रैल तक कोरोना के कुल मामले 100 के नीचे थे। लेकिन चार दिनों में आंकड़े में जबरदस्त इजाफा हुआ है। 

कोरोना की बेलगाम रफ्तार 
अगर 22 मार्च से 20 अप्रैल और 20 अप्रैल से लेकर 24 अप्रैल तक के आंकड़ों पर नजर डालें तो पहले करीब एक महीने में 95 केस आए। लेकिन पिछले चार दिन में अकेले 81 केस दर्ज हुए हैं। सवाल यह है कि क्या टेस्टिंग की वजह से यह मामले बढ़ गए या कोई और वजह है। क्या चार दिनों में केस में इजाफे के पीछे टेस्टिंग बड़ा कारण है या लॉकडाइउन को जमीन पर नहीं उतारा जा सका।

बिहार में कोरोना केस पर एक नजर

  • 22 मार्च से 20 अप्रैल तक कोरोना के कुल 96 केस
  • 20 अप्रैल से 24 अप्रैल के बीच कोरोना के कुल 176 मामले।
  • 22 मार्च को मुंगेर से कोरोना का पहला केस आया, हालांकि वो शख्स अब इस दुनिया में नहीं है। 
  • पटना में 20 अप्रैल को कुल 7 मरीज थे लेकिव अब यह संख्या बढ़कर 24 हो चुकी है।
  • नालंदा में 20 अप्रैल तक कुल मामले 11 थे। लेकिन सिर्फ चार दिनों में यह आंकड़ा 31 हो गया
  • मुंगेर में भी 20 अप्रैल को कुल 20 केस थे लेकिन अब यह आंकड़ा 37 का है। 
  • इसी तरह से बक्सर(8), रोहतास(7), भागलपुर का हाल है।

कई सवाल, जवाब का इंतजार
अब सवाल यह है कि आखिर ऐसा क्या हो गया कि कोरोना के केस इतनी तेजी से बढ़ गए। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इन सभी जिलों में केस बढ़ने के कोरोना संक्रमित शख्स के साथ संपर्क है। कोरोना संक्रमित शख्स के संपर्क में आने की वजह से परिवार या उसके आस पड़ोस के लोग संक्रमित हो गए। अगर ऐसा है तो क्या प्रशासन की तरफ से कहीं किसी तरह की चूक हो गई। 

जानकार की राय
इस संबंध में डॉक्टर निखिल वर्मा बताते हैं कि निश्चित तौर पर यह शोध का विषय हो सकता है। एक महीने में जितने केस सामने आए करीब उतने ही केस चार दिन में दर्ज हो गए। वो कहते हैं कि इसके पीछे दो वजह हो सकती है पहली कि टेस्टिंग ज्यादा हो रही हो या जिन इलाकों में केस बढ़े हैं वहां लोगों ने छिपाने की कोशिश की हो। जब मामला गंभीर हो गया होगा तो लोगों को स्वास्थ्य महकमे को जानकारी देने के अलावा और दूसरा विकल्प नहीं बचा होगा। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर