आखिकार सीमा पार कर अपने पतियों के पास आईं 2 पाकिस्तानी दुल्हनें, करना पड़ा इतना लंबा इंतजार

देश
Updated Mar 10, 2021 | 23:53 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

राजस्थान के 2 युवकों की पत्नी 2 साल बाद पाकिस्तान से भारत आ पाई हैं। तनाव के कारण उन्हें वीजा नहीं मिल पाया था। अभी एक और युवक की पत्नी को पाकिस्तान से भारत आना है।

border
प्रतीकात्मक तस्वीर 

नई दिल्ली: भारतीय राजपूत पुरुषों से शादी करने वाली 2 पाकिस्तानी हिंदू दुल्हनें शादी के 2 साल बाद फिर से अपने पतियों से मिल पाई हैं। जब वे राजस्थान के बाड़मेर और जैसलमेर में अपने-अपने ससुराल पहुंची, तो उनका पारंपरिक तरीके से स्वागत किया गया। यह एक खुशी का अवसर था और उत्सव पूरे जोरों पर था।

2019 में छगन कंवर ने महेंद्र सिंह से शादी की थी, जबकि कैलाश बाई ने नेपाल सिंह भाटी के साथ शादी की थी। लेकिन पहले पुलवामा आतंकी हमला और फिर बालाकोट हवाई हमले के कारण वे भारत नहीं आ सकी। दोनों देशों के बीच बने तनाव के कारण पति-पत्नियों को सीमा के दोनों ओर अलग-अलग रहना पड़ा।

पति-पत्नी दोनों खुश

छगन ने कहा, 'शादी को दो साल से अधिक समय होने के बावजूद मैं पाकिस्तान में फंसी रह गई। वीजा नहीं होने के कारण मेरे माता-पिता मेरे भविष्य को लेकर चिंतित थे। अब जब मैं भारत आ गई हूं, तो मुझे लगता है जैसे मैं शादीशुदा हूं। पिछले दो साल बहुत कठिन थे लेकिन अब मैं भारत में आकर बहुत खुश हूं।'
  
महेंद्र ने कहा कि पिछले दो साल हमारे लिए एक बुरे सपने की तरह थे। हम अपनी शादी के बाद तीन महीने पाकिस्तान में रहे लेकिन हमें अपनी पत्नी के लिए वीजा नहीं मिल सका। मैं अकेले ही भारत वापस आया लेकिन भारत में हम अपनी दुल्हन को पाने के लिए हर संभव प्रयास करते रहे। मैं अब बहुत खुश हूं और ऐसा लगता है जैसे मैंने आज ही शादी की है।

दीर्घकालिक वीजा मिला

दोनों दुल्हनों को कराची में भारतीय वाणिज्य दूतावास द्वारा दीर्घकालिक वीजा मिला है। इससे उन्हें 8 मार्च को वाघा जाने और भारत में प्रवेश करने की अनुमति मिली। विदेश मंत्रालय पाकिस्तान के सताए हुए हिंदुओं को राहत देने के लिए दीर्घकालिक वीजा (LTV) प्रदान करता है और उन्हें भारत में आने के लिए सक्षम बनाता है। आखिरकार, पाकिस्तान के ऐसे हिंदुओं को सात साल बाद भारतीय राष्ट्रीयता प्रदान की जाती है। 

भारत सरकार ने की मदद

नेपाल सिंह भाटी के छोटे भाई विक्रम सिंह भाटी भी अपनी पत्नी के बॉर्डर पार करने का इंतजार कर रहे हैं। विक्रम की पत्नी निर्मला बाई को अभी तक वीजा नहीं मिला है, हालांकि उन्होंने पहले ही एक बच्चे को जन्म दे दिया है। कुछ तकनीकी कारणों से निर्मला बाई के पासपोर्ट को ब्लैक लिस्ट में डाल दिया गया है। जैसलमेर जिले के बैया गांव के विक्रम और उनके परिवार ने हाल ही में इस संबंध में केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी से संपर्क किया था। कैलाश चौधरी ने टिप्पणी की, 'इन तीन मामलों को मेरी जानकारी में लाने के बाद हमने कई बार पाकिस्तान उच्चायोग से संपर्क किया। जैसा कि दो दुल्हनें अब भारत में आ गई हैं, मुझे विश्वास है कि तीसरी को भी जल्द ही वीजा मिल सकेगा।'

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर