Kashmir: बारामूला में 124 साल की बुजुर्ग महिला को लगा कोरोना का टीका   

रेहती के बेटे ने अपने राशन कार्ड पर उनकी उम्र 124 साल बताई है। आधिकारिक बयान में राशन कार्ड को ही आधार बनाया गया है। महिला की उम्र पर कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं है।

 124-Year-Old Woman Administered Covid Jab In Jammu & Kashmir: Officials
बारामूला में 124 साल की बुजुर्ग महिला को लगा कोरोना का टीका।   |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • बारामूला जिले में रहने वाली रेहती बेगम को लगा कोरोना का पहला टीका
  • बेगम के लड़के ने राशन कार्ड पर अपनी मां की उम्र 124 साल बताई है
  • हालांकि, अधिकारियों ने रेहती बेगम की उम्र की पुष्टि नहीं की है

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले में 124 साल की बुजुर्ग महिला को कोरोना का टीका लगा है। बुधवार को राज्य में 9000 से ज्यादा लोगों को टीकाकरण हुआ और इनमें बुजुर्ग रेहती बेगम भी शामिल हैं। हालांकि, अधिकारियों ने बेगम की उम्र के बारे में कोई दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराया है। अधिकारियों का कहना है कि बुधवार को 20 जिलों में कु 9,289 लोगों को टीका लगाया गया। इनमें फ्रंटलाइन कर्मचारी एवं स्वास्थ्यकर्मी भी शामिल हैं। अधिकारियों का कहना है कि केंद्रशासित प्रदेश में अब तक 33,58,004 लोगों को कोरोना टीका लगाया जा चुका है। 

रेहती बेगम को लगी टीके की पहली खुराक
अधिकारियों का कहना है उत्तर कश्मीर के बारामूला जिले में 100 साल से ज्यादा उम्र की एक महिला को भी टीका लगा। घर-घर जाकर टीकाकरण अभियान के तहत वगूरा ब्लाक की रहने वाली रेहती बेगम को टीके की पहली खुराक लगाई गई। राज्य सूचना एवं जनसंपर्क विभाग ने बेगम को टीका लगाए जाने की जानकारी अपने एक ट्वीट के जरिए दी। इस ट्वीट में उनकी उम्र 124 साल बताई गई है।

ट्वीट की मानें तो रेहती दुनिया की सबसे उम्रदराज महिला
इस आधिकारिक ट्वीट पर अगर विश्वास करें तो वह दुनिया की जीवित सबसे उम्रदराज महिला हैं। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के मुताबिक अभी जापान की केन टनाका सबसे उम्रदराज महिला हैं। उनकी उम्र 118 साल है। दुनिया की सबसे उम्रदराज महिला होने का रिकॉर्ड फ्रांस की जेने लूसी कॉलमेंट के नाम रह चुका है। कॉलमेंट का जन्म 21 जनवरी 1875 को और उनका निधन 12 साल की उम्र में हुआ। 

बेटे ने राशन कार्ड पर अपनी मां की उम्र 124 साल बताई
रेहती के बेटे ने अपने राशन कार्ड पर उनकी उम्र 124 साल बताई है। आधिकारिक बयान में राशन कार्ड को ही आधार बनाया गया है। महिला की उम्र पर कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं है क्योंकि परिवार या महिला की तरफ से इस बारे में कोई प्रमाण नहीं दिया गया है। टीके लगाने वाली टीम का नेतृत्व करने वाले वगूरा के ब्लॉक विकास अधिकारी अब्दुल राशीद गेन ने कहा कि वह महिला की वास्तविक उम्र को प्रमाणित नहीं कर सकते। 
 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर