100 Crore Covid-19 Vaccination status: भारत ने लगाया कोविड वैक्‍सीनेशन का करोड़वां शतक, दुनियाभर से लगा बधाइयों का तांता

100 Crore Covid-19 Vaccination : भारत ने कोविड-19 वैक्‍सीनेशन का एक अरब का आंकड़ा पार कर लिया है। गुरुवार को 100वीं डोज लगाई गई, जिसके बाद भारत को दुनियाभर से बधाइयां मिल रही हैं।

100 Crore Covid-19 Vaccination status: भारत ने लगाया कोविड वैक्‍सीनेशन का करोड़वां शतक, दुनियाभर से लगा बधाइयों का तांता
100 Crore Covid-19 Vaccination status: भारत ने लगाया कोविड वैक्‍सीनेशन का करोड़वां शतक, दुनियाभर से लगा बधाइयों का तांता  |  तस्वीर साभार: ANI

100 Crore Covid-19 Vaccination : कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ जंग में टीकाकरण अभियान को गति देते हुए भारत ने 100 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है। चीन के बाद भारत अब दुनिया का दूसरा देश बन गया है, जहां कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए वैक्‍सीन की एक अरब से अधिक डोज लोगों को दी जा चुकी है। इस उपलब्धि पर भारत को दुनियाभर से बधाइयां म‍िल रही हैं। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) ने भारत की तारीफ करते हुए कहा कि मजबूत राजनीतिक नेतृत्व, विभिन्न विभागों के तालमेल एवं स्वास्थ्य एवं फ्रंटलाइन वर्कर्स के प्रयास के चलते ही यह कीर्तिमान संभव हो सका है। दुनिया के कई देशों ने भी भारत की तारीफ करते हुए इस उपलब्धि के लिए उसे बधाई दी है।

इजरायल के प्रधामनंत्री नेफ्ताली बेनेट ने पीएम मोदी को इस सफलता के लिए बधाई देते हुए इन जीवन रक्षक टीकों से पूरी दुनिया को महामारी को हाराने में मदद मिल रही है।

भारत में ब्रिटेन के उच्‍चायुक्‍त एलेक्‍स एलिस ने इस उपलब्धि पर बधाई देते हुए ट्वीट किया,  'वैक्सीन सेंचुरी पर भारत को बधाई। कोविड वैक्‍सीनेशन की 100 करोड़ से अधिक डोज दिया जाना एक बड़ी उपलब्धि है।'

वहीं, मालदीव के राष्‍ट्रपति इब्राहिम मोहम्‍मद सोलिह ने लिखा, 'भारतीय लोगों के नवाचार और एकजुटता को प्रदर्शित करते हुए कोविड -19 टीकों की 1 अरब खुराक देने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी और भारत सरकार को बधाई। मालदीव के कोविड-19 से उबरने और टीकाकरण के प्रयासों का समर्थन करने के लिए भारत को धन्यवाद भी।'

भारत में फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनैन ने ट्विटर पर लिखा, 'इस ऐतिहासिक उपलब्धि पर भारत को बधाई! यह प्रभावशाली उपलब्धि दुनिया को महामारी पर काबू पाने के करीब लाती है। मैं डॉक्टरों, नर्सों और सभी फ्रंटलाइन वर्कर्स के प्रयासों को सलाम करता हूं।'

इससे पहले डब्ल्यूएचओ की दक्षिण-पूर्व एशिया की क्षेत्रीय निदेशक डॉक्टर पूनम खेत्रपाल सिंह ने भारत की उपलब्धि पर कहा था कि जीवन बचाने वाली इन वैक्सीन को बनाने एवं इसे उपलब्ध कराने की प्रतिबद्धता एवं प्रयासों के संदर्भ में भारत की प्रगति को जरूर देखा जाना चाहिए। यह सबकुछ मजबूत राजनीतिक नेतृत्व, विभिन्न विभागों के तालमेल एवं स्वास्थ्य एवं फ्रंटलाइन वर्कर्स के प्रयासों से ही हो पाया है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर