Ghaziabad: हीरे-पन्ने और मोती की चोरी करने वाले दपंति हुए गिरफ्तार, कीमती जेवर फेंक देते थे नाले में

Ghaziabad Crime News: एटीएस सोसायटी मामले में एक हैरान कर देने वाला खुलासा है। चोरी के मामले में पुलिस ने एक दंपति को गिरफ्तार किया है, जो बेशकीमती हीरे-पन्ने और मोती की चोरी करता है, हालांकि आरोपियों को यह नहीं पता था कि वह बेशकीमती चीजें है।

Ghaziabad Crime News
कीमती ज्वेलरी चुराने वाले पति-पति हुए गिरफ्तार  |  तस्वीर साभार: Twitter
मुख्य बातें
  • एटीएस सोसायटी मामले में एक हैरान कर देने वाला खुलासा
  • चोरी के मामले में पुलिस ने एक दंपति को किया गिरफ्तार
  • दंपति बेशकीमती हीरे-पन्ने और मोती की करता है चोरी

Ghaziabad Crime News: एटीएस सोसायटी मामले में एक हैरान कर देने वाला खुलासा है। चोरी के मामले में पुलिस ने एक दंपति को गिरफ्तार किया है, जो बेशकीमती हीरे-पन्ने और मोती की चोरी करता है, हालांकि आरोपियों को यह नहीं पता था कि वह बेशकीमती चीजें है। ऐसे में वह गोल्ड की ज्वेलरी पर लगे हीरे-पन्ने और मोती को नाले में फेंक देते थे और सिर्फ गोल्ड सुनार की दुकान पर बेचते थे। 

आरोपियों को पहचान गौतम शाह और उसकी पत्नी बंटी उर्फ पूजा उर्फ अंजली के तौर पर हुई है। पुलिस पूछताछ में बंटी ने कबूल किया है कि वह अब तक 200 चोरी कर चुकी है। इस आरोपी दंपति से गहने खरीदने वाले गुलशन नाम के सुनार को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस को गौतम और बंटी के पास से 30 हजार कैश, वहीं गुलशन से चोरी के गहने बरामद हुए हैं।

आरोपी महिला को नहीं पता थी रत्नी की कीमत

पुलिस ने बताया है कि आरोपी बंटी ने पांच से ज्यादा घरों में हीरे, मोती, मूंगे जड़े अंगूठी, पन्ना, और लॉकेट चुराए, लेकिन उसको यह नहीं पता था कि यह बेहद कीमती रत्न हैं। ऐसे में वह उनको नाले या कूड़े में फेंक देती थी। इन रत्नों की कीमत बंटी को बाद में गुलशन ने बताई थी। मामले की जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक द्वितीय ज्ञानेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि, बीती 28 जुलाई को बंटी एटीएस सोसायटी में रहने वाले विपुल गोयल के घर घरेलू सहायिका बनकर गई थी। वहां उसने पति गौतम की बहन पूनम उर्फ प्रीति शाह के साथ गहने और नकदी की चोरी की। घटना को अंजाम देने के बाद दोनों ऑटो से फरार हो गई थीं। 

पूरा गिरोह करता है चोरी का काम

इसके बाद पुलिस ने प्रीति शाह को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था, लेकिन बंटी की तलाश चल रही थी। ज्ञानेंद्र कुमार सिंह के मुताबिक इनका पूरा गिरोह है। घरेलू सहायिका बन बंटी और प्रीति घरों में चोरी करती हैं। साल 2016 से अब तक इन दोनों ने 200 वारदातों को अंजाम दिया है। वहीं गुलशन इनसे चोरी का माल खरीदकर आगे बेचता है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर