ट्विटर पर सस्पेंड कंगना रनौत का Koo पर स्वागत! ऐप के संस्थापक बोले- 'यह आपका अपना घर, खुलकर बोलिए'

Koo welcomes Kangna: कंगना रनौत का ट्विटर अकाउंट रद्द किए जाने के बाद अब कू के संस्थापक ने अभिनेत्री का स्वागत अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर करते हुए कहा है कि यहां वह जो चाहें कह सकती हैं।

Kangna Ranaut
कंगना रनौत  |  तस्वीर साभार: Instagram

मुख्य बातें

  • बंगाल हिंसा पर किए ट्वीट के बाद रद्द कर दिया गया था कंगना रनौत का ट्विटर अकाउंट
  • स्वदेशी कू ऐप पर आकर अभिनेत्री ने बताया था भाड़े और अपने घर के बीच का अंतर
  • अब Koo के संस्थापक ने किया एक्ट्रेस का स्वागत- 'यहां खुलकर अपनी बात रखिए'

मुंबई: कंगना रनौत अपने ट्विटर अकाउंट को नियमों का उल्लंघन करने के लिए स्थाई रूप से निलंबित किए जाने के बाद सुर्खियों में बनी हुई हैं। अपने ट्विटर निलंबन के बाद, कंगना का अब कू ऐप के संस्थापकों ने स्वागत किया है।  अभिनेत्री फरवरी में इस ऐप पर आई थीं और कू के लिए अपने बायो में, उन्होंने कहा था कि यह एक 'नई जगह' है और इससे परिचित होने में समय लगेगा। इसके साथ ही एक्ट्रेस ने लिखा था, 'मगर भाड़े का घर भाड़े का ही होता है, अपना घर कैसा भी हो अपना ही होता है।'

कू के सह-संस्थापक और सीईओ अप्रमी राधाकृष्ण ने एक बयान जारी किया और फरवरी में कंगना रनौत के पोस्ट की पुष्टि करते हुए उन्होंने कहा कि अभिनेत्री यह बात सही कही थी कि कू घर की तरह हैं और बाकी सब किराए पर हैं।

Kangna on Koo

और कू के एक अन्य सह-संस्थापक, मयंक बिडवाटका ने एक बयान में कहा कि अभिनेत्री गर्व के साथ साइट पर अपनी राय साझा कर सकती है। उन्होंने कहा, 'कंगना जी, यह आपका घर है। आप सभी चीजों के बारे में अपनी राय यहां दे सकती हैं।'

अपने ट्विटर सस्पेंशन के कुछ घंटों बाद, कंगना ने एक बयान जारी किया और कहा था कि उनके पास कई मंच हैं जिनका उपयोग वह अपनी आवाज उठाने के लिए कर सकती हैं। उन्होंने कहा, 'ट्विटर ने केवल मेरी बात को साबित किया है कि वे अमेरिकी हैं और जन्म से एक सफेद व्यक्ति, एक सांवले भूरे रंग के व्यक्ति को गुलाम बनाना अपना हक समझता है, वे आपको बताना चाहते हैं कि क्या सोचना, बोलना या क्या करना है।'

थलाइवी अभिनेत्री ने कहा, 'मेरे पास ऐसे कई मंच हैं जो अपनी आवाज को बढ़ाने के लिए उपयोग कर सकती हूं, जिसमें सिनेमा के रूप में मेरी अपनी कला भी शामिल है, लेकिन मेरा दिल इस देश के लोगों के लिए परेशान है, जो हजारों वर्षों से प्रताड़ित, गुलाम और सेंसर किए गए हैं और अभी भी दुख का कोई अंत नहीं है।'

Bollywood News in Hindi (बॉलीवुड न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर । साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) केअपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर