22 साल पहले फिल्म की शूटिंग के समय सनी देओल- करिश्मा कपूर ने खींची थी ट्रेन की चेन, दर्ज हुआ केस

बॉलीवुड
Updated Sep 19, 2019 | 19:32 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

बॉलीवुड एक्टर सनी देओल और करिश्मा कपूर परेशानी में फंसते नजर आ रहे हैं। 22 साल पहले रिलीज हुई दोनों की फिल्म बजरंग को लेकर रेलवे कोर्ट ने उनके खिलाफ आरोप तय किए हैं।

Karisma Kapoor and Sunny Deol
Karisma Kapoor and Sunny Deol 

मुख्य बातें

  • एक्टर सनी देओल और एक्ट्रेस करिश्मा कपूर की परेशानी बढ़ती नजर आ रही है
  • उनपर आरोप है कि साल 1997 में फिल्म बजरंग की शूटिंग के दौरान उन्होंने ट्रेन की चेन खींची थी जिसके चलते वो 25 मिनट लेट हुई
  • सनी देओल और करिश्मा कपूर के अलावा स्टंटमैन टीनू वर्मा और सतीश शाह भी केस में आरोपी थे

बॉलीवुड एक्टर- पॉलिटिशियन सनी देओल और एक्ट्रेस करिश्मा कपूर की परेशानियां बढ़ती हुईं नजर आ रही हैं। साल 1997 में रिलीज हुई उनकी फिल्म बजरंग को लेकर रेलवे कोर्ट ने उनके खिलाफ आरोप तय किए हैं। दोनों एक्टर्स पर आरोप लगा है कि फिल्म की शूटिंग के दौरान उन्होंने ट्रेन की इमरजेंसी चेन खींची थी जिसके चलते वो करीन 25 मिनट लेट हुई थी। 

सनी देओल और करिश्मा कपूर पर आरोप है कि वो अजमेर के सर्वानंद गांव में नरेना रेलवे स्टेशन पर गए और इस दौरान उन्होंने 2413-ए अपलिंक एक्सप्रेस की चेन खींची, जिसके चलते ट्रेन लेट हुई। अब दोनों एक्टर्स के काउंसिल एस.के जैन ने बताया कि साल 2009 में भी उनके खिलाफ आरोप तय किए गए थे, जिसे साल 2010 में उन्होंने चैलेंज किया था। इसके बाद कोर्ट ने उन्हें बरी कर दिया था लेकिन इस साल 17 सितंबर को एर बार फिर रेलवे कोर्ट ने उनके खिलाफ आरोप तय किए।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by KK (@therealkarismakapoor) on

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Sunny Deol (@iamsunnydeol) on

सनी और करिश्मा के अलावा स्टंटमैन टीनू वर्मा और सतीश शाह भी केस में आरोपी थे लेकिन साल 2010 में उन्होंने अपने खिलाफ दर्ज मामले को चुनौती नहीं दी थी। इस मामले में 24 सितंबर को अगली सुनवाई होगी।

बता दें कि असिस्टेंट स्टेशन मास्टर सीताराम मालाकार ने दोनों एक्टर्स के खिलाफ केस दर्ज करवाया था। उन्होंने दोनों के खिलाफ रेलवे एक्ट की धारा 141 (अनावश्यक रूप से एक ट्रेन में संचार के साधनों के साथ हस्तक्षेप), धारा 145 (नशे में उपद्रव), धारा 146 (रेलवे कर्मचारी के काम में बाधा डालना) और धारा 147 (अनधिकृत प्रवेश करना) के उल्लंघन का आरोप है।

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...