कमाल अमरोही से अलग होकर धर्मेंद्र के करीब आईं थीं मीना कुमारी, झेला तीन तलाक और हलाला का दर्द

Meena Kumari Death Anniversary: बॉलीवुड की 'ट्रेजिडी क्वीन' मीना कुमारी आज (31 मार्च) के दिन ही इस दुनिया से विदा हो गई थीं। लाखों द‍िलों में अपनी जगह बनाने वाली मीना कुमारी ने ज‍िंदगी में काफी दुख झेले।

Dharmendra and Meena Kumari
Dharmendra and Meena Kumari 

मुख्य बातें

  • बॉलीवुड की 'ट्रेजिडी क्वीन' मीना कुमारी आज (31 मार्च) के दिन ही इस दुनिया से विदा हो गई थीं।
  • मीना कुमारी अपनी खूबसूरती और अदाकारी से लाखों द‍िलों पर राज करती थीं।
  • लाखों द‍िलों में अपनी जगह बनाने वाली मीना कुमारी ने तीन तलाक और हलाला का दर्द झेला था।

Meena Kumari Death Anniversary: बॉलीवुड की 'ट्रेजिडी क्वीन' मीना कुमारी आज (31 मार्च) के दिन ही इस दुनिया से विदा हो गई थीं। मीना कुमारी अपनी खूबसूरती और अदाकारी से लाखों द‍िलों पर राज करती थीं। मीना कुमारी का जन्‍म 1 अगस्‍त 1933 को हुआ था और उन्‍होंने छह साल की उम्र में अभ‍िनय की दुन‍िया में कदम रख द‍िया था। उन्‍होंने 1939 में पहली बार फिल्म निर्देशक विजय भट्ट की फिल्म "लैदरफेस" में बेबी महजबीं का रोल क‍िया था। फ‍िर 1940 में फिल्म 'एक ही भूल' में उन्‍होंने बेबी मीना का रोल क‍िया था। 1946 में आई फिल्म बच्चों का खेल से बेबी मीना 13 साल की उम्र में मीना कुमारी बनीं।

1952 में फ‍िल्‍म बैजू बावरा से मीना कुमारी का कर‍ियर बुलंद‍ियां पर पहुंचा। फिल्म 100 हफ्तों तक परदे पर रही और 1954 में उन्हें इसके लिए पहले फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इसके बाद उन्‍होंने लगातार कई शानदार फ‍िल्‍में दी ज‍िनमें दायरा, दो बीघा जमीन, पर‍िणीता, एक ही रास्‍ता, जहां चांदनी चौक, आजाद, हलाकू, पाकीजा में उनके रोल की खूब चर्चा हुई। फिल्म ‘पाकीजा’ के रिलीज होने के तीन हफ्ते बाद 28 मार्च, 1972 को उन्हें सेंट एलिजाबेथ के नर्सिग होम में भर्ती कराया गया। 31 मार्च 1972 को मीना कुमारी ने सेंट एलिजाबेथ अस्पताल में आख‍िरी सांस ली।

लाखों द‍िलों में अपनी जगह बनाने वाली मीना कुमारी ने ज‍िंदगी में काफी दुख झेले। अपनी खूबसूरती और अदाकारी से लाखों द‍िलों में अपनी जगह बनाने वाली मीना कुमारी ने भी तीन तलाक और हलाला का दर्द झेला था।

शादीशुदा कमाल अमरोही से किया निकाह

मीना कुमारी लाखों द‍िलों पर राज करती थीं। न जाने क‍ितने लोग उनकी एक झलक पाने को बेताब रहते थे। हर एक्‍टर और डायरेक्‍टर उनकी अदाओं का कायल था। हर कोई उनके साथ काम करना और स्‍क्रीन शेयर करना चाहता था लेकिन जिंदगी ने हर कदम उन्‍हें धोखा दिया। 1951 में फिल्म तमाशा के सेट पर मीना कुमारी की मुलाकात उस ज़माने के जाने-माने फिल्म निर्देशक कमाल अमरोही से हुई और ये मुलाकातें प्‍यार में बदल गईं। दोनों ने 1952 में एक दूसरे से निकाह कर लिया। कमाल अमरोही मीना कुमारी से 16 साल बड़े थे। 18 साल की मीना कुमारी ने 34 साल के कमाल अमरोही से गुपचुप तरीके से शादी की थी। वह ना केवल शादीशुदा बल्कि तीन बच्‍चों के पिता भी थे।

कमाल अमरोही को हुआ गलती का अहसास

मीना कुमारी कमाल अमरोही की तीसरी पत्‍नी थीं। 1964 तक दोनों के बीच रिश्‍तों में खटास आई और दोनों अलग हो गए। कमाल अमरोही ने गुस्‍से में आकर मीना कुमारी को तीन बार तलाक बोल दिया था। कुछ वक्‍त बाद जब कमाल अमरोही को गलती का अहसास हुआ तो वह मीना कुमारी को वापस पाना चाहते थे। लेकिन इसके लिए मीना कुमारी को हलाला से गुजरना था।

जीनत अमान के पिता के साथ हुआ हलाला

कमाल अमरोही ने अपने दोस्‍त और जीनत अमान के पिता अमानउल्लाह खान के साथ उनका हलाला करवाया और एक महीने बाद उनका दोबारा मीना कुमारी से निकाह हुआ। मीना कुमारी हलाला के बाद वापस तो कमाल के पास आईं लेकिन वह बुरी तरह टूट गईं। मीना कुमारी ने लिखा भी था- 'धर्म के नाम पर मुझे दूसरे मर्द को सौंपा गया तो मुझमें और वेश्‍या में क्‍या फर्क रह गया।'

धर्मेंद्र के आ गईं करीब

कमाल अमरोही से अलग होकर मीना कुमारी धर्मेंद्र के करीब आईं। धर्मेंद्र उस वक्‍त करियर की शुरुआत कर रहे थे। दोनों करीब आए तो तीन साल तक खूब इश्‍क फरमाया। इस दौरान मीना कुमारी ने धर्मेंद्र को कई फ‍िल्‍में दिलवाईं और जब धर्मेंद्र जम गए तो उन्‍होंने मीना कुमारी से दूरी बना ली। शो सुहाना सफर विद अनू कपूर में भी इस बात का खुलासा किया गया है मीना कुमारी धर्मेंद्र को फ‍िल्‍म में लेने के लिए प्रोड्यूसर्स के सामने शर्त रख देती थीं।

धर्मेंद्र ने मारा था थप्‍पड़

मीडिया रिपोर्ट्स दावा करती हैं कि धर्मेंद्र ने एक बार मीना कुमारी को थप्‍पड़ भी मार दिया था जिससे वह बुरी तरह टूट गई थीं। फ‍िल्‍म फूल और कांटे की सफलता के बाद धर्मेंद्र के तेवर बदल गए। इसके बाद मीना कुमारी एक बार फ‍िर अकेली हो गईं। उन्‍होंने अकेलापन दूर करने को शराब का सहारा ले लिया। अधिक शराब पीने से वह बीमारीग्रस्‍त हो गईं। कहा जाता है कि उनके निधन के पीछे प्‍यार में मिली बेवफाई थी।

इस वजह से छुपाती थी बायां हाथ

कमाल अमरोही ने मीना कुमारी को अपनी अगली फिल्म अनारकली के लिए लीड रोल ऑफर किया। 13 मार्च 1951 को उन्होंने फिल्म का कॉन्ट्रैक्ट साइन किया था और 21 मई 1951 को महाबलेश्वर से मुंबई लौटते हुए मीना कुमारी की कार का एक्सिडेंट हो गया। यह हादसा काफी बड़ा था जिसमें मीना कुमारी के बाएं हाथ पर चोट लगी थी और उनके हाथ की सबसे छोटी उंगली टूट गई थी। जिसके चलते उनकी उंगली की शेप भी पूरी तरह बदल गई थी। मीना कुमारी हमेशा कैमरा के सामने अपना बायां हाथ दुपट्टे या साड़ी के पल्ले से छुपाती थीं। 

Bollywood News in Hindi (बॉलीवुड न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर । साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) केअपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर