Kader Khan Birthday: कब्रिस्तान में जाकर जोर से चिल्लाते थे कादर खान, मरते वक्त तक पूरी नहीं हुई ये इच्छा

Kader Khan Birthday: अमिताभ बच्चन और जितेंद्र जैसे बड़े अभिनेताओं को स्थापित करने वाले जाने माने एक्‍टर, संवाद लेखक कादर खान का आज (22 अक्‍टूबर) जन्‍मदिन है। आइये जानते हैं उनकी जिंदगी के कुछ राज-

Kader Khan
Kader Khan 

मुख्य बातें

  • जाने माने एक्‍टर, संवाद लेखक कादर खान का आज (22 अक्‍टूबर) जन्‍मदिन है।
  • आज ही के दिन साल 1937 में काबुल में उनका जन्‍म हुआ था।
  • कादर खान ने 31 दिसंबर 2018 को कनाडा में आखिरी सांस ली थी।

Kader Khan Birthday: सदी के महानायक अमिताभ बच्चन और जितेंद्र जैसे बड़े अभिनेताओं को स्थापित करने वाले जाने माने एक्‍टर, संवाद लेखक कादर खान का आज (22 अक्‍टूबर) जन्‍मदिन है। आज ही के दिन साल 1937 में अफगानिस्‍तान की राजधानी काबुल में उनका जन्‍म हुआ था। कादर खान ने एक इंटरव्यू में बताया कि उनके जन्म से पहले उनके तीन भाई चल बसे थे। उनका बचपन काफी गरीबी में गुजरा था। इसके बाद उनके माता-पिता अफगानिस्तान छोड़कर भारत आ गए थे।

कादर खान ने 31 दिसंबर 2018 को आखिरी सांस ली और 01 जनवरी 2019 को उनके निधन की खबर भारत आई। निधन के वक्‍त वह अपने बेटे सरफराज के पास कनाडा में थे। कादर खान ने लगभग 300 फिल्मों में काम किया और लगभग 200 फिल्मों को लिए स्क्रीन प्ले लिखा। 1970 से उन्होंने बॉलीवुड के हर बड़े कलाकार के साथ काम किया है। उन्‍हें अमिताभ बच्‍चन को एंग्रीमैन बनाने का श्रेय भी जाता है। कादर खान ने ही शहंशाह जैसी फ‍िल्‍म के डायलॉग लिखे थे। 

नहीं पूरी हुई ये इच्‍छा

कादर खान की एक इच्छा मरते वक्त तक पूरी नहीं हुई। बीबीसी से खास बातचीत में कादर खान ने बताया था- मैं अमिताभ बच्चन, जया प्रदा और अमरीश पुरी को लेकर फिल्म जाहिल बनाना चाहता था। उसका निर्देशन भी मैं खुद करना चाहता था। लेकिन खुदा को शायद कुछ और ही मंजूर था। इसके फौरन बाद फिल्म कुली की शूटिंग के दौरान अमिताभ बच्चन को चोट लग गई और फिर वो महीनों अस्पताल में भर्ती रहे। अमिताभ के अस्पताल से वापस आने के बाद कादर खान अपनी दूसरी फिल्मों में बहुत ज्यादा व्यस्त हो गए।

कब्रिस्तान में चिल्‍लाते थे

कादर खान की मां उन्हें पढ़ने के लिए मस्जिद भेजा करती थीं लेकिन वह मस्जिद से भागकर कब्रिस्तान चले जाते थे। वहां पर वह घंटों चिल्लाते थे। एक रात कादर खान चिल्‍ला कर रहे थे तभी वहां पर से गुजर रहे किसी ने पूछा कब्रिस्तान में क्या कर रहे हो? कादर बोले- मैं दिन में जो भी अच्छा पढ़ता हूं रात में यहां आकर बोलता हूं। ऐसे मैं रियाज करता हूं। वह शख्स अशरफ खान थे जो फिल्मों में काम करते थे। उन्होंने पूछा नाटक में काम करोगे? 

और पड़ी दिलीप कुमार की नजर

अशरफ खान को एक नाटक की लिए ऐसे ही लड़के की तलाश थी। उन्होंने कादर खान को रोल दे दिया। एक नाटक में दिलीप कुमार की नजर कादर खान पर पड़ी थी। दिलीप कुमार ने उन्हें अपनी फिल्म सगीना के लिए साइन कर लिया। राजेश खन्ना ने कादर खान को फिल्म रोटी में बतौर डायलॉग राइटर ब्रेक दिया था। इसके बाद उन्होंने राजेश खन्ना की फिल्म जैसे- महाचोर, छैला बाबू, धर्मकांटा, फिफ्टी-फिफ्टी, मास्टरजी जैसी फिल्मों के लिए डायलॉग लिखे।

1970 और 75 के बीच वह स‍िव‍िल इंजीन‍ियर‍िंग के प्रफेसर थे और इसी के साथ ही नाटकों में भी काम करते थे। अपने करियर में उन्‍होंने तमाम अवॉर्ड जीते। इनमें बेस्‍ट कॉमेड‍ियन और बेस्‍ट डायलॉग राइटर के अवॉर्ड भी शामिल हैं। 2013 में उनको साह‍ित्‍य श‍िरोमणि से भी नवाजा गया। 

कादर खान के 10 मशहूर डायलॉग

  • हम नहीं तीर और तलवार से मरने वाले, कत्‍ल करना है तो तो एक तिरछी नजर काफी है... - हम

  • दीनानाथ चौहान....नाम है मेरा से लेकर मैं जहां खड़ा होता हूं, लाइन वहीं से शुरू होती है.. 
  • तुम्‍हारी उम्र मेरे तर्जुबे से बहुत कम है, तुमने उतनी दीवालियां नहीं देखीं जितनी मैंने तुम जैसे बिकने वालों की बर्बादियां देखी हैं- जैसी करनी वैसी भरनी
  • सुख तो बेवफा तवायफ की तरह है...जो आज इसके पास, कल उसके पास- जैसी करनी वैसी भरनी
  • जिंदगी तो खुदा की रहमत है, जो नहीं समझा उसकी जिंदगी पे लानत- नसीब
  • लानत है, ना पेट में दाना है, ना लोटे में पानी है, ना बंडल में बीडी है, ना माचिस में तीली है- बाप नंबरी बेटा दस नंबरी 
  • मालिक, मुझे मालूम नहीं था कि आप मेरे पीछे खड़े हैं, मैं समझा कोई जानवर अपनी सींग से खटमल्‍लू चला रहा है। - हिम्‍मतवाला
  • अरे क्‍या गजब करते हो सेक्रेटरी साहब? क्‍यों मोहब्‍बत के शीशे को बुढ़ापे के पत्‍थर से तोड़ रहे हो- दूल्‍हे राजा
  • सरकार अगर इस गांव के सर हैं, तो मैं उस सर का सींग हूं। और जो हमारी बात नहीं मानता मैं उसे सींग मार कर सिंगापुर बना देता हूं- हिम्‍मतवाला 
  • बचपन से सर पर अल्लाह का हाथ और अल्लाहरख्खा है अपने साथ, बाजू पर 786 का है बिल्ला, 20 नंबर की बीड़ी पीता हूं और नाम है 'इकबाल'- कुली

Bollywood News in Hindi (बॉलीवुड न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर । साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) केअपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर