1933 में किसिंग सीन देने वाली इस एक्ट्रेस को मिला था पहला दादा साहेब फाल्‍के पुरस्‍कार

साल 2019 के दादा साहेब पुरस्‍कार के ल‍िए अमिताभ बच्‍चन के नाम की घोषणा हुई है। यह हिंदी स‍िनेमा का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्‍कार है ज‍िसकी शुरुआत 1969 में हुई थी। अमिताभ से पहले 64 लोगों को यह अवॉर्ड म‍िल चुका है।

Devika Rani and Amitabh Bachchan
Devika Rani and Amitabh Bachchan 

मुख्य बातें

  • 1969 में हुई थी दादा साहेब फाल्‍के पुरस्‍कार की शुरुआत
  • पुरस्‍कार के तहत द‍िए जाते हैं 10 लाख रुपए नगद और स्वर्ण कमल पदक
  • भारतीय सिनेमा जगत की पहली ड्रीम गर्ल को म‍िला था पहला अवॉर्ड

साल 2018 के दादा साहेब पुरस्‍कार के ल‍िए सदी के महानायक अमिताभ बच्‍चन के नाम की घोषणा हुई है। इस घोषणा के साथ ही दुनियाभर में मौजूद अमिताभ के फैंस ने उन्‍हें बधाई और शुभकामनाएं दीं। दादा साहेब फाल्‍के पुरस्‍कार यह हिंदी स‍िनेमा का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्‍कार माना जाता है ज‍िसकी शुरुआत सन 1969 में हुई थी। सिनेमा के पितामह कहे जाने वाले दादा साहब फाल्के के नाम पर यह सर्वोच्च पुरस्कार दिया जाता है। दादा साहेब फाल्‍के पुरस्‍कार के तहत दस लाख रुपए नगद और स्वर्ण कमल पदक व एक शाल प्रदान की जाती है। दादा साहेफ फाल्‍के ने पहली फ‍िल्‍म राजा हरिश्चन्द्र का निर्माण किया था।

पहली बार यह अवॉर्ड पर्दे पर पहला किसिंग देने वाली अभ‍िनेत्री देविका रानी को मिला था। साल 1933 में फ‍िल्‍म कर्मा से देविका रानी ने फिल्मों में डेब्यू किया और इसी फ‍िल्‍म में उन्‍होंने सारी हदें पार कर दीं। उन्‍होंने चार मिनट लंबा किसिंग सीन उस दौर में दिया था जब फ‍िल्‍मों में इस तरह के सीन तक नहीं द‍िखाए जाते थे। देविका रानी को भारतीय सिनेमा जगत की पहली ड्रीम गर्ल कहा जाता है। बेहतरीन अदाकारी के ल‍िए उन्‍हें दादा साहेब फाल्‍के अवॉर्ड से नवाजा गया था।

2018 का दादा साहेब फाल्‍के अवॉर्ड अमिताभ बच्‍चन को दिया जाना है। 2017 में यह अवॉर्ड अभिनेता विनोद खन्‍ना को मिला था। उससे पहले मनोज कुमार, शशि कपूर, गुलजार, प्राण, श्‍याम बेनेगल, देव आनंद, यश चोपड़ा, आशा भोंसले, हृषिकेश मुखर्जी, दिलीप कुमार सहित कई दिग्‍गजों को यह पुरस्‍कार मिल चुका है। 

साल 

विजेता

भाषा 

 2019  अमिताभ बच्चन हिंदी
2017   विनोद खन्ना  हिंदी
2016  कासिनाथुनी विश्वनाथ तेलुगू
2015 मनोज कुमार हिंदी
2014 शशि कपूर हिंदी
2013 गुलज़ार हिंदी
2012 प्राण हिंदी
2011 सौमित्र चटर्जी बंगाली
2010 के बालचंदर तमिल-तेलुगू
2009 डी रामनायडू तेलुगू
2008 वी के मूर्ति हिंदी
2007 मन्ना डे बंगाली-हिंदी
2006 तपन सिन्हा बंगाली-हिंदी
2005 श्याम बेनेगल हिंदी
2004 अदूर गोपालकृष्णन मलयालम
2003 मृणाल सेन बंगाली
2002 देव आनंद हिंदी
2001 यश चोपड़ा हिंदी
2000 आशा भोसले हिंदी-मराठी 
1999 हृषिकेश मुखर्जी हिंदी
1998 बी.आर चोपड़ा हिंदी
1997 कवि प्रदीप हिंदी
1996  शिवाजी गणेशन  तमिल
1995 राजकुमार कन्नड़
1994 दिलीप कुमार हिंदी
1993 मजरूह सुल्तानपुरी हिंदी
1992 भूपेन हजारिका असामी
1991 भालजी पेंढारकर मराठी 
1990 अक्किनेनी नागेश्वर राव तेलुगू
1989 लता मंगेशकर हिंदी-मराठी 
1988 अशोक कुमार हिंदी
1987 राज कपूर हिंदी
1986 नागी रेड्डी तेलुगू
1985 वी. शांताराम हिंदी
1984 सत्यजीत रे हिंदी-मराठी 
1983 दुर्गा खोटे हिंदी
1982 एल. वी. प्रसाद हिंदी-तमिल-तेलुगू
1981 नौशाद हिंदी
1980  पैदी जयराज हिंदी-तेलुगू
1979 सोहराब मोदी हिंदी
1978 रायचंद बोराल हिंदी-बंगाली
1977  नितिन बोस हिंदी-बंगाली
1976  कानन देवी बंगाली
1975 धीरेन्द्र नाथ गांगुली बंगाली
1974 बोम्मिरेड्डी नरसिम्हा रेड्डी तेलुगू
1973  रूबी मायर्स (सुलोचना) हिंदी
1972 पंकज मुलिक हिंदी-बंगाली
1971 पृथ्वीराज कपूर हिंदी
1970 बीरेंद्रनाथ सरकार बंगाली
1969 देविका रानी  हिंदी
अगली खबर