मिलिंद सोमण के बाद अब अरशद वारसी ने की घोषणा- 'नहीं इस्तेमाल करेंगे चाइनीज सामान'

Arshad Warsi Chinese Products: सोनम वांगचुक का एक वीडियो वायरल हुआ था। इस वीडियो में वह चाइनीज सामान बायकॉट करने की मांग कर रहे हैं। अब अरशद वारसी ने सोशल मीडिया में चीनी सामान इस्तेमाल न करने की घोषणा की है।

Arshad Warsi
Arshad Warsi 

मुख्य बातें

  • भारत-चीन सीमा विवाद के बाद चाइनीज सामान को बायकॉट करने की मांग उठ रही है।
  • रियल लाइफ रैंचो सोनम वांगचुक ने चीनी सामान बायकॉट करने के लिए वीडियो पोस्ट किया था।
  • मिलिंद सोमण के बाद अब अरशद वारसी ने भी चाइनीज सामान को छोड़ने की घोषणा की है।

मुंबई. कोरोना वायरस और भारत- चीन सीमा पर बढ़ते विवाद के बाद चीनी समान को बायकॉट करने की मांग हो रही है। अब अरशद वारसी भी इस मांग का सपोर्ट किया है। अरशद वारसी ने सोशल मीडिया पर इसकी घोषणा की है। 

अरशद वारसी ने ट्वीट कर लिखा- 'मैं पूरे होश में मैं ये कह रहा हूं कि मैं हर एक चाइनीज सामान का इस्तेमाल नहीं करुंगा। हम जो चीजें इस्तेमाल करते हैं उनमें से ज्यादातर चीजें चाइनीज ही होती है।'

अरशद वारसी अपने ट्वीट में आगे लिखते हैं- 'मैं जानता हूं कि इस चीज में थोड़ा वक्त लगेगा लेकिन, मैं जानता हूं कि एक दिन मैं इन चाइनीज सामान से फ्री हो जाऊंगा। आपको भी ये ट्राय करना चाहिए।' 

मिलिंद सोमण ने अनइंस्टॉल किया टिक टॉक
अरशद वारसी से पहले मॉडल और एक्टर मिलिंद सोमण ने भी अपने फोन से टिक टॉक को अनइंस्टॉल कर दिया था। मिलिंद सोमण ने सोशल मीडिया पर एक शिक्षाविद सोनम वांगचुक का वीडियो पोस्ट किया था। 

मिलिंद सोमण ने इसके साथ लिखा- 'मैं अब टिक टॉक में नहीं हूं।' वहीं, काम्या पंजाबी ने ट्वीट कर लिखा- 'मेरे फोन में कभी भी इस तरह का ऐप नहीं रहा। भारतीय रहिए और इंडियन खरीदिए।' वहीं, रणवीर शौरी ने भी इस अपील का समर्थन किया है। 

सोनम वांगचुक ने पोस्ट किया था वीडियो 
सोनम वांगचुक ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट किया था। इस वीडियो में  वह कह रहे हैं कि अगर हम चीनी सामान खरीदना छोड़ दें तो उसकी कमर टूट जाएगी। आर्थिक तौर पर कमजोर होने के बाद वह खुद बातचीत के लिए सामने आएगा।

सोनम अपने वीडियो में आगे लिखते हैं- 'हम हर साल चीन से पांच लाख करोड़ का सामान खरीदते हैं। इसका इस्तेमाल चीन अपनी सैनिक शक्ति को बढ़ाने में खर्च करता है। हमें चीन पर दो तरफा हमला करने की जरूरत है। सीमा में तनाव के दौरान हम लोग ये सोचकर आराम से बैठ जाते हैं कि हमारे सैनिक निपट लेंगे।'

अगली खबर