UP 12th Topper 2020: IAS बनने का ख्वाब संजोए 12वीं के टॉपर अनुराग मलिक ने इस तरह लाखों को पछाड़ा

एजुकेशन
ललित राय
Updated Jun 27, 2020 | 14:27 IST

Anurag malik 12th topper UP board result 2020: कहते हैं कि अगर लगन हो तो कुछ भी असंभव नहीं है। बड़ौत के रहने वाले अनुराग मलिक उसकी मिसाल हैं, 12वीं की परीक्षा में उन्होंने सर्वोच्च स्थान हासिल किया।

UP 12th Topper 2020: IAS बनने का ख्वाब संजोए 12वीं के टॉपर अनुराग मलिक ने इस तरह लाखों को पछाड़ा
अनुराग मलिक यूपी बोर्ड के 12वीं के टॉपर 

मुख्य बातें

  • बड़ौत के श्रीराम इंटर कॉलेज के छात्र हैं अनुराग मलिक
  • रोज 15 से 16 घंटे की पढ़ाई से मिली कामयाबी- अनुराग मलिक
  • अनुराग मलिक जिस समय आप जो काम कर रहे हों उसमें 100 फीसद ऊर्जा का करें इस्तेमाल

लखनऊ। यूपी बोर्ड के 10वीं और 12वीं के नतीजे घोषित कर दिए गए हैं। 2020 के नतीजे की खास बात यह है कि 10वीं और 12वीं के टॉपर न केवल एक ही जिले से हैं बल्कि उनका स्कूल भी एक है। 10वीं में जहां रिया जैन को पहले स्थान पर कब्जा जमाने में कामयाब रहीं वहीं 12वीं में बड़ौत के श्रीराम जैन इंटर कॉलेज के अनुराग मलिक 12वीं के टॉपर हैं। 

कुछ इस तरह की पढ़ाई
12वीं में सर्वोच्च स्थान पाने वाले अनुराग मलिक बताते हैं कि वो किस तरह से एक ऐसे सपने को कामयाब बनाने में सफल हुए। वो बतातें हैं कि एक तरफ उनकी कामयाबी में स्कूल के अध्यापकों का हाथ है तो दूसरी तरफ उनके परिवार की तरफ से हर संभव मदद मिली। उन्होंने परीक्षा के लिए एक बेहतर रणनीति बनाई कि कब क्या और कितना पढ़ना है। इसके साथ ही जिस किसी विषय में दिक्कत होती थी उसके लिए स्कूल के अध्यापक लगातार मदद करते रहते थे। उन्हें ऐसा महसूस होता है कि ट्यूशन से सिर्फ मानसिक संतुष्टि होती है, हकीकत में सबकुछ छात्र के ऊपर निर्भर करता है कि वो किस दिशा में अपनी पढ़ाई को ले जाना चाहता है। 



IAS अफसर बनने का है सपना
आमतौर पर जैसे सामान्य तौर पर छात्र 15 से 16 घंटे की पढ़ाई करते हैं ठीक वैसे ही उन्होंने भी पढ़ाई की कभी कभी यह समय और बढ़ जाता था। अनुराग के पिता की बड़ौत में ही इलेक्ट्रिकल की दुकान है, खास बात यह है अनुराग को यह कामयाबी बिना ट्यूशन हासिल हुई और वो आगे आईएएस अफसर बनना चाहते हैं। अनुराग बताते हैं कि उनके सामने सिर्फ एक ही लक्ष्य था कि वो किस तरह से यूपी बोर्ड की परीक्षा में वो अपना बेहतर प्रदर्शन कर सकेंगे। वो हमेशा से मानते रहे हैं कि जिस समय आप के सामने जो चुनौती हो सिर्फ उसके बारे में ही सोचें

अगली खबर