Delhi: राशन के लिए लंबी लाइनें लगाने की जरूरत नहीं,मार्च से राशन की डोर स्टेप डिलिवरी

दिल्ली में राशन के लिए राज्य सरकार ने पहल की है और मार्च के महीने से दिल्ली वासियों के लिए डोर स्टेप डिलिवरी शुरू होने वाली है, इससे लोगों को खासी सुविधा हो जाएगी।

DELHI RATION
अब राशन के लिए लोगों को लंबी लाइनें लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी 

नई दिल्ली: दिल्ली में मार्च से राशन की डोर स्टेप डिलिवरी शुरू होने जा रही है। इसके बाद राशन के लिए लोगों को लंबी लाइनें लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इस योजना के तहत सरकार लोगों के घर राशन भेजेगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को दिल्ली सचिवालय में गणतंत्र दिवस से एक दिन पहले झंडारोहण किया। इसके उपरांत दिल्ली की जनता को संबोधित किया। 

सीएम ने कहा, 'कोरोना के मुश्किल हालातों में भी हमने दिल्ली की जनता को मिलने वाली सुविधाएं बंद नहीं होने दीं। हमारे पुलिसकर्मी, सेना के जवान और फायर सर्विस के लोग अपनी जान की बाजी लगाकर हमारी सेवा करते रहे। हम उनके परिवारों को अकेला नहीं छोड़ते, बल्कि उन्हें एक करोड़ रुपए की सम्मान राशि देते हैं।'

उन्होंने यह भी कहा कि, 'साल के अंत तक दिल्ली के हर नागरिक का अपना हेल्थ कार्ड होगा। लोग डॉक्टर से मिलने का समय ऑनलाइन ले सकेंगे। हमने अपने हेल्थ सिस्टम को मजबूत किया। एक दिन में 8.5 हजार कोरोना के केस आने पर भी हमारा हेल्थ सिस्टम ध्वस्त नहीं हुआ, जबकि कई विकसित देशों के हेल्थ सिस्टम ध्वस्त हो गए थे।'

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, 'पूरा विश्व, पूरा देश और हम सब दिल्लीवासी, पिछले एक वर्ष से कोरोना महामारी से जूझ रहे हैं, संघर्ष कर रहे हैं। यही कारण है कि हमने अपना स्वाधीनता दिवस भी और आज गणतंत्र दिवस भी, हम लोग दिल्ली सचिवालय में मना रहे हैं, नहीं तो हम सब लोग छत्रसाल स्टेडियम में बड़े पैमाने पर अपने बच्चों के साथ मनाया करते थे। मैं उम्मीद करता हूं कि इस वर्ष हम सब लोगों को कोरोना की महामारी से छुटकारा मिलेगा।'

"कोरोना काल के दौरान हर महीने सूखा राशन दिया"

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, 'यह बहुत कठिन दौर था, जब लोगों की नौकरियां चली गई, रोजगार चले गए, दुकानें बंद हो गईं, मार्केट बंद हो गए, फैक्ट्रियां बंद हो गईं। यह सरकारों के लिए भी बड़ा मुश्किल दौर था। सरकार का टैक्स आना बंद हो गया। बड़ी चिंता होने लगी कि तनख्वाह कैसे देंगे। लेकिन मुझे बेहद खुशी है कि ऐसे कठिन दौर में हम सब दिल्ली वासियों ने मिलकर स्थिति को संभाला। हमने न केवल अपनी सारी तनख्वाहें दीं, बल्कि ऐसे कठिन दौर के अंदर जब लोगों को रोटी के लाले पड़ रहे थे, लोगों के घर के अंदर चूल्हा जलना मुश्किल हो रहा था, ऐसे समय में दिल्ली सरकार ने दिल्ली की दो करोड़ आबादी में से एक करोड़ लोगों को कोरोना काल के दौरान हर महीने सूखा राशन दिया।'

Delhi News in Hindi (दिल्ली न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर