Delhi Crime News: जिगोलो सर्विस-जॉब्स के नाम पर देशभर में ठगी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़, ऐसे चलता था खेल

Delhi Crime News: दिल्‍ली साइबर पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का भंडाफोड़ किया है, जो जिगोलो सर्विस-जॉब्स देने के नाम से युवाओं से ठगी करता था। यह गिरोह युवाओं को अच्‍छी सैलरी का ऑफर देता। जब कोई इनसे संपर्क करता तो उससे जॉब देने के बहाने अलग-अलग मदों में वसूली शुरू की जाती।

Delhi Cyber Police
जिगोलो सर्विस का जॉब्स देने के नाम पर ठगी का भंडाफोड़   |  तस्वीर साभार: Representative Image
मुख्य बातें
  • पति-पत्‍नी मिलकर चलाते थे जिगोलो सर्विस-जॉब्स वेबसाइट
  • जॉब के लिए आवेदन करते ही युवाओं से शुरू हो जाती थी वसूली
  • गिरोह के सदस्‍यों को दिल्‍ली और पटियाला से किया गया गिरफ्तार

Delhi CrimeNews: उत्तरी जिला के साइबर थाना पुलिस को बड़ी उपलब्धि मिली है। पुलिस ने जिगोलो सर्विस-जॉब्स के नाम पर देशभर में ठगी करने वाले एक अंतरराज्जीय गिरोह का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने दिल्ली और पटियाला में छापेमारी कर इस गिरोह से जुड़ी चार महिलाओं समेत कुल छह लोगों को गिरफ्तार किया है। इन आरोपियों की दिल्ली निवासी अमित गांधी, पत्नी माही गांधी, जय कोचर, रांजना, लीशा और पटियाला निवासी हरमन कौर के रूप में पहचान हुई है। जांच के दौरान आरोपियों के पास से पुलिस ने वारदात में इस्तेमाल सिमकार्ड समेत 9 मोबाइल, 9 डेबिट कार्ड और एक महंगी एसयूवी कार बरामद की है। पुलिस के अनुसार इन आरोपियों ने एक फर्जी वेबसाइट बनाई हुई थी। जिसके माध्‍यम से जैसे ही कोई इनसे जॉब के लिए संपर्क करता, ये आरोपी उसे जॉब देने के बहाने अलग-अलग मदों में रुपये वसूल लेते।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि तीस हजारी निवासी मोहम्मद आदिल नामक एक युवक ने गृह मंत्रालय के साइबर क्राइम पोर्टल पर इस गिरोह की शिकायत करते हुए बताया था कि वह गूगल पर अपने लिए जॉब की तलाश कर रहा था। जहां पर उसे जिगोलो सर्विस की यह वेबसाइट दिखाई दी। जो जिगोलो जॉब्स के लिए बढ़िया पैसे देने का दावा कर रहे थे। शिकायतकर्ता ने जब दिए गए मोबाइल नंबर से संपर्क किया तो कॉल उठाने वाली एक युवती ने बताया कि उसे जॉब के लिए पहले रजिस्ट्रेशन करना होगा। जिसके बाद इन ठगों ने होटल, मेडिकल समेत कई तरह के चार्ज बताकर कुल 58,158 रुपये वसूल लिए। शिकायतकर्ता ने शक होने पर जब अपने पैसे वापस मांगे तो उसे ब्‍लॉक कर दिया गया।

पति और पत्‍नी मिलकर चलाते थे यह गिरोह

उत्तरी जिला पुलिस उपायुक्त सागर सिंह कलसी ने बताया कि इस ठगी के संबंध में 25 जुलाई को मामला दर्ज किया गया था। जिसके बाद साइबर थाना प्रभारी पवन तोमर के नेतृत्व में एक टीम ने जांच शुरू की। जांच के दौरान पता चला कि शिकायतकर्ता ने जिन खातों में पैसे भेजे थे, वे कई ई-वॉलेट से होते हुए अलग-अलग बैंक खातों में ट्रांसफर किए गए। इसके अलावा मोबाइल नंबर की सीडीआर से पता चला कि कॉल पश्चिम दिल्ली के अलावा पटियाला पंजाब से भी रिसीव की जा रही है। जिसके बाद पुलिस ने मुख्य आरोपी अमित गांधी को दिल्ली से गिरफ्तार किया। इसने गिरोह के बाकि सदस्‍यों की जानकारी दी। पूछताछ के दौरान पता चला कि अमित व उसकी पत्‍नी माही इस गिरोह की संचालक हैं। बाकि के सदस्‍य कमीशन के बेस पर काम करते थे। इन आरोपियों ने सैकड़ों लोगों के साथ ठगी की बात कबूली है। पुलिस अब इन आरोपियों के बैंक खातों की जांच कर रही है।

Delhi News in Hindi (दिल्ली न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर