Delhi Coal Crisis: सीएम केजरीवाल की चिट्ठी पर बवाल के बाद दिल्ली का कोटा दोगुना

दिल्ली समाचार
कुंदन सिंह
कुंदन सिंह | Special Correspondent
Updated Oct 11, 2021 | 19:13 IST

Delhi Coal Crisis Update:रेलवे की तरफ से दादरी और झज्जर को 8-8 रेक कोयले की सप्लाई अगले कुछ दिनों तक जारी रहेगी माना जा रहा है कि दशहरे के बाद बिजली की मांग में कमी होगी और उसके बाद पावर प्लांट्स में कोयले का संकट भी कम होगा।

power crisis in Delhi
दिल्ली सरकार के दबाव के बाद दिल्ली का बिजली संकट फिलहाल टल गया है 

दिल्ली सरकार के दबाव के बाद दिल्ली का बिजली संकट फिलहाल टल गया है। रेलवे सूत्रों के मुताबिक़ अब दिल्ली को बिजली देने वाले NTPC के दोनों पावर प्लांट्स तक कोयले की सप्लाई दोगुनी कर दी गई है। दादरी और झज्जर में मौजूद अब इन कोल पावर प्लांट्स को हर रोज़ 8-8 रेक यानि मालगाड़ी कोयला दिया जाएगा। इन प्लांट्स को हर रोज़ 3 से 4 रेक कोयला मिल रहा था जिसकी वजह से कोयले का संकट खड़ा हो गया था और इन प्लांट्स में कोयले का स्टॉक ख़त्म होने की कगार पर था।

बारिश की वजह से कोयले की कम ख़ुदाई और ढुलाई की वजह से देश के कई पावर प्लांट्स में कोयले का स्टॉक काफ़ी कम हो गया है, इससे कई प्लांट्स में बिजली के उत्पादन पर असर पड़ने का भी आशंका जताई जा रही है।

135 बड़े थर्मल पावर प्लांट को सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी अथॉरिटी यानि CEA मॉनिटर करता है

फिलहाल देश के 135 बड़े थर्मल पावर प्लांट को सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी अथॉरिटी यानि CEA मॉनिटर करता है इनमें से क़रीब 120 प्लांट तक मालगाड़ियों से कोयला पहुंचता है, रेलवे को माल सप्लाई के लिए 750 रेक की ज़रूरत है लेकिन उसके पास 100 रेक ज़्यादा हैं। दूसरी तरफ 2 साल पहले मालगाड़ियों की औसर स्पीड 24 किलोमीटर प्रतिघंटे से बढ़कर क़रीब 46 किलोमीटर प्रतिघंटे हो चुकी है।

रेलवे की माल ढुलाई इस दौरान काफी बेहतर हुई

कोविड की वजह से ज़्यादातर लोकल ट्रेनों के बंद होने और DFC के कुछ सेक्शन के शुरू होने से यह संभव हो पाया है, यानि रेलवे की माल ढुलाई इस दौरान काफी बेहतर हुई है लेकिन माना जा रहा है कि पावर हाउसेस की प्लानिंग की कमी से कोयले के स्टॉक की कमी हुई है, हालांकि इस दौरान रेल, कोयला और पावर मिनिस्ट्री के अधिकारी लगातार हालात पर नज़र बनाए हुए हैं। 

रेलवे से हर रोज़ क़रीब 435 रेक कोयले की ढुलाई हो रही है

फिलहाल रेलवे से हर रोज़ क़रीब 435 रेक यानि क़रीब 4000 टन कोयले की ढुलाई हो रही है, माना जा रहा है कि यह 450 रेक तक पहुंचने के बाद पावर हाउसेस में कोयले का संकट ख़त्म हो जाएगा। लेकिन इसके लिए कोयले का उत्पादन भी बढ़ाना होगा साथ ही लोडिंग का काम भी बारिश और सड़कों के टूटने की वजह से प्रभावित हुआ है।

Delhi News in Hindi (दिल्ली न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर