Air Pollution Impact: अस्पतालों के बेड भरे हुए हैं, कठिन चुनौती का कर रहे हैं सामना- डॉ नरेश त्रेहन

दिल्ली और एनसीआर में रहने वाले हर एक शख्स की सांस स्मॉग में कैद है। एक तरह से दिल्ली और आसपास के इलाके गैस चैंबर में तब्दील हो चुके हैं और उसकी गवाही अस्पताल हैं। अस्पतालों के बेड्स भरे हैं और लोगों को तरह तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

air pollution, air quality index delhi, air quality index ncr, air pollution in india, stubble burning, fire crackers, air pollution impact
अस्पतालों के बेड भरे हुए हैं, कठिन चुनौती का कर रहे हैं सामना- डॉ नरेश त्रेहन 
मुख्य बातें
  • दिल्ली और एनसीआर के कई इलाकों में वायु की गुणवत्ता में सुधार नहीं
  • लोगों को सांसों और आंख में जलन की शिकायत
  • कोविड से उबरे मरीजों के लिए प्रदूषण ज्यादा खतरनाक

दिवाली के बाद दिल्ली और एनसीआर के आसमां पर धूंध की चादर फैल जाती है और उसका असर हम सब पर पड़ता है। प्रदूषण के मुद्दे पर सरकार अभियान चलाने का दावा करती है, अदालतें भी दखल देती हैं लेकिन नतीजा बदलता नहीं। पीएम 2.5 और पीए 10 का स्तर खतरे से कई गुना बढ़ जाता है। इस समय राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता 'गंभीर' श्रेणी में है, जिसमें पीएम10 412 और पीएम2.5 286 है।रोहतक में आज शाम आसमान में धुंध की चादर छाई रही।

बच्चों के मानसिक विकास पर असर
डॉ नरेश त्रेहन, अध्यक्ष-एमडी, मेदांता, द मेडिसिटी ने कहा कि अस्पताल मरीजों से भरे हुए हैं इसलिए यह हमारे लिए मुश्किल दौर है। हर साल हम इस समस्या का सामना करते हैं लेकिन इसे दूर करने या इसे ठीक करने में विफल रहे हैं।वायु प्रदूषण से सभी पीड़ित होंगे। लोग सिरदर्द, सांस लेने में तकलीफ की शिकायत कर रहे हैं, खासकर अस्थमा और फेफड़ों की समस्या वाले लोग। छोटे बच्चे बहुत कमजोर होते हैं और यह प्रदूषण उनके मस्तिष्क के विकास को प्रभावित कर सकता है।

कोविड और प्रदूषण में तुलना करने की जरूरत नहीं
दिल्ली के पारस अस्पताल के डॉ अरुणेश कहते हैं कि हमें तुलना नहीं करनी चाहिए लेकिन दोनों (COVID और प्रदूषण) समान रूप से खतरनाक हैं। एक प्रकार से प्रदूषण एक बारहमासी घटना है। यह हमारे लिए कोई नई बात नहीं है। कुल लॉकडाउन के कुछ महीनों को छोड़कर दिल्ली का औसत एक्यूआई कभी भी सामान्य नहीं होता है।अधिकांश समय यह प्रदूषण की अवधि के बारे में है जो तीव्र वृद्धि के बजाय मायने रखता है। दिल्ली-एनसीआर में ट्रिगर होने पर हमारे जागने की संभावना अधिक होती है क्योंकि लोगों को लगता है कि अचानक उनकी सांस लेने में तकलीफ बढ़ जाती है।

सच्चाई यह है कि हमारा एक्यूआई कभी भी सामान्य नहीं होता। यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि उस संदर्भ में हमारा पर्यावरण कभी स्वस्थ नहीं होता है। हम हमेशा प्रदूषित हवा में सांस लेते हैं। सर्दी के साथ COVID मदद नहीं करता है, कोहरे के संक्रमण बढ़ सकते हैं क्योंकि हमारे ऊपर ठंडी हवा के साथ वातावरण में बूंदों में वायरस के फंसने का खतरा है।

Delhi News in Hindi (दिल्ली न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर