Chhota Rajan:फिट है छोटा राजन, कोरोना से ठीक होने के बाद वापस पहुंचा तिहाड़ जेल 

राजेंद्र निकल्जे उर्फ छोटा राजन को 26 अप्रैल को एम्स में भर्ती कराया गया था। वह 2015 में इंडोनेशिया से गिरफ्तारी के बाद नई दिल्ली की उच्च सुरक्षा वाली तिहाड़ जेल में बंद है।

Chota Rajan
पहले छोटा राजन की दिल्ली के AIIMS में मौत की खबर आई थी 

नयी दिल्ली: कोविड-19 से पूरी तरह ठीक होने के बाद अंडरवर्ल्ड के कुख्यात गैंगस्टर छोटा राजन (Chhota Rajan) को तिहाड़ जेल (Tihar Jail) वापस भेज दिया गया है।अधिकारियों ने बताया कि छोटा राजन को मंगलवार को एम्स से छुट्टी मिली जिसके बाद उसे दोबारा तिहाड़ जेल भेज दिया गया।छोटा राजन 22 अप्रैल को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था जिसके बाद उसे 24 अप्रैल को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती कराया गया था।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के मुताबिक 61 साल के राजन को मंगलवार को ठीक होने के बाद अस्पताल से दोबारा तिहाड़ जेल पहुंचा दिया गया।

इससे पहले जेल प्रशासन ने उन खबरों को खारिज कर दिया था जिनमें राजन की मौत का दावा किया जा रहा था।

तिहाड़ जेल के महानिदेशक संदीप गोयल ने कहा, '' तिहाड़ जेल के कैदी राजेन्द्र सदाशिव निकालजे की मौत की खबर फर्जी है।''राजन के 2015 में इंडोनेशिया से प्रत्यर्पण के बाद उसे तिहाड़ जेल के उच्च सुरक्षा कारागार में रखा गया है।

'जिंदा है छोटा राजन'; गैंगस्टर की मौत की खबरों को नकारा

इससे पहले अंडरवर्ल्ड गैंगस्टर छोटा राजन की दिल्ली के AIIMS में मौत की खबर आई थी, जिसे बाद में नकार दिया गया। एम्स की तरफ से कहा गया कि अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन अभी भी जिंदा है। वह कोविड 19 के इलाज के लिए AIIMS में भर्ती है। वह कोरोना वायरस से संक्रमित था।

दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद छोटा राजन को कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद अप्रैल के आखिरी सप्ताह में नई दिल्ली का अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती कराया गया था।

राजन जबरन वसूली और हत्या के संबंध में कम से कम 70 मामलों का आरोपी 

26 अप्रैल को तिहाड़ जेल के एक अधिकारी ने सत्र न्यायालय को सूचित किया कि गैंगस्टर को सुनवाई के लिए न्यायाधीश के समक्ष वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से पेश नहीं किया जा सकता क्योंकि वह कोविड-19 से संक्रमित हो गया है। राजन जबरन वसूली और हत्या के संबंध में महाराष्ट्र में कम से कम 70 आपराधिक मामलों का आरोपी है। मुंबई में उसके खिलाफ लंबित सभी आपराधिक मामलों को सीबीआई को हस्तांतरित कर दिया गया था और एक विशेष अदालत का गठन किया गया था। 2018 में राजन को 2011 में पत्रकार ज्योतिर्मय डे की हत्या के मामले में दोषी ठहराया गया और उम्रकैद की सजा सुनाई गई। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर