Palghar Maharashtra: साधुओं की हत्या के बाद अब पालघर में मंदिर में लूट, पुजारी पर किया हमला

Sadhus attacked again in Palghar: महाराष्ट्र के पालघर जिले के बालीवली में एक मंदिर में कथित तौर पर लूटपाट के साथ ही दो पुजारियों पर हमले का मामला सामने आया है।

sadhu
पालघर जिले के बालीवली में एक मंदिर में दो पुजारियों पर हमले का मामला सामने आया है (प्रतीकात्मक फोटो) Photo साभार: iStock Images 

मुख्य बातें

  • पालघर जिले के बालीवली में एक मंदिर में कथित तौर पर लूटपाट की गई
  • इसके साथ ही दो पुजारियों पर हमले का मामला सामने आया है
  • पालघर में 16 अप्रैल को दो साधुओं और उनके चालक की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी

मुंबई: महाराष्ट्र के पालघर जिले के बालीवली में एक मंदिर में कथित तौर पर लूटपाट के साथ ही दो पुजारियों पर हमले का मामला सामने आया है। पालघर में दो साधुओं की पीट-पीटकर हत्या के करीब एक महीने बाद यह घटना हुई है, यह घटना बृहस्पतिवार देर रात हुई। वसई तालुका के तहत आने वाल बालीवली में हथियार से लैस तीन लोग जागृत महादेव मंदिर और आश्रम में घुस आए।

इन तीनों ने मंदिर के मुख्य पुजारी शंकरानंद सरस्वती और उनके सहयोगी पर हमला किया और 6,800 रुपये मूल्य की वस्तुएं लूटकर चले गए, इन तीनों ने मंदिर में भी तोड़-फोड़ की, दोनों ही पुजारियों को हल्की चोटें आई हैं और वे दोनों हमलावरों के कब्जे से भागने में सफल रहे।

विरार पुलिस थाने के प्रभारी ने बताया कि भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। इससे पहले पालघर जिले के गड़चिंचले में 16 अप्रैल को दो साधुओं और उनके चालक की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। 

घटना के सिलसिले में एक आरोपी गिरफ्तार 

सूचना मिलने के बाद, स्थानीय पुलिस हरकत में आई और उसी दिन एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उसके पास से 2,000 रुपये बरामद किए हैं। दो अन्य आरोपी अभी भी फरार हैं और उन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश चल रही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक तीनों आरोपियों के खिलाफ धारा 394 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

पालघर में दो साधुओं, उनके ड्राइवर की पीट-पीटकर कर दी गई थी हत्या

16 अप्रैल को लगभग 200 आदिवासी पुरुषों की भीड़ ने दो साधुओं और उनके चालक को पालघर जिले में चोर होने के संदेह में कथित रूप से मार डाला था। तीनों एक व्यक्ति के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए जा रहे थे, जब उनकी कार को आदिवासियों ने रोक दिया, जिन्होंने तब पुलिस की मौजूदगी में उन्हें बेरहमी से पीटा। इस घटना से राज्य में राजनीतिक भूचाल आ गया। मामले के संबंध में नौ नाबालिगों सहित कम से कम 133 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और कुछ पुलिस अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया था।

नांदेड़ में हुई थी एक साधु की हत्या

एक अन्य घटना में, पिछले हफ्ते, नांदेड़ में अपने आश्रम के अंदर एक 33 वर्षीय साधु की हत्या कर दी गई थी। कथित तौर पर अपराध एक हिस्ट्रीशीटर द्वारा किया गया था। जांच अधिकारियों को हत्या के पीछे लूट का संदेह है क्योंकि आरोपी 70,000 रुपये नकदी और लैपटॉप लेकर भाग गए थे।

अगली खबर