Nikita Tomar murder: जांच में खुलासा, जेल में बंद ममेरे चाचा ने तौसीफ को दिलाई देसी पिस्टल

रिपोर्ट के मुताबिक जांच से जुड़े एक पुलिस अधिकारी ने नाम उजागर न करने की शर्त पर कहा कि पूछताछ में तौसीफ ने पुलिस को बताया है कि उसे संदेह था कि निकिता का संबंध किसी और छात्र के साथ चल रहा है।

Nikita Tomar murder Case: Shooter Touseef got gun from kin’s friend
जांच में खुलासा, जेल में बंद मेमरे चाचा ने तौसीफ को दिलाई देसी पिस्टल। 

मुख्य बातें

  • गत सोमवार को कॉलेज से लौटते समय हुई निकिता तोमर की हत्या
  • आरोपी तौसीफ एवं उसका दोस्त रेहान पुलिस की हिरासत में हैं
  • पुलिस की पूछताछ में हुए अहम खुलासे, एसआईटी कर रही केस की जांच

फरीदाबाद : बीकॉम की छात्रा निकिता तोमर की हत्या मामले में जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, वैसे वैसे इस केस में नए खुलासे हो रहे हैं। रिपोर्टों के मुताबिक आरोपी तौसीफ ने पूछताछ में बताया है कि उसके ममेरे चाचा ने कुछ दिनों पहले उसके लिए देसी पिस्टल की व्यवस्था कराई थी। अपहरण के एक केस में जेल में बंद तौसीफ के ममेरे चाचा ने अपने एक दोस्त से पिस्टल की व्यवस्था करने के लिए कहा था। गत सोमवार को कॉलेज से आते समय तौसीफ ने निकिता को गोली मार दी। बाद में निकिता ने अस्पताल में दम तोड़ दिया।

जेल में बंद हैं तौसीफ के ममेरे चाचा
'हिंदुस्तान टाइम्स' की रिपोर्ट के मुताबिक इस जांच से जुड़े पुलिस सूत्रों का कहना है कि तौसीफ के ममेरे चाचा इस्लामुद्दीन जेल में बंद हैं। वह अपहरण के एक केस में भोंडसी जेल में 10 साल की सजा काट रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि तौसीफ ने अपने इस चाचा के साथ बात की थी और कथित रूप से देसी पिस्टल की व्यवस्था करने के लिए कहा था। इसके बाद इस्लामुद्दीन के जानने वाले व्यक्ति आजरू ने तौसीफ को हथियार उपलब्ध कराया। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि जेल में बंद कैदी अपने परिवारवालों से संपर्क कर सकते हैं।

दर्ज होंगे चश्मदीदों के गवाह
पुलिस का कहना है कि इस मामले में अभी प्रत्यक्षदर्शियों के बयान दर्ज होने हैं। फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह का कहना है, 'मामले की जांच में जुटी एसआईटी ने इस मामले में चार चश्मदीदों की पहचान की है। एसआईटी ने आरोपियों के खिलाफ महत्वपूर्ण तकनीकी एवं अन्य प्रमाण एकत्रित किए हैं जो उन्हें कोर्ट में दाषी साबित करने के लिए काफी हैं। एसआईटी और ज्यादा जानकारी के लिए आरोपी एवं उसके दोस्त के साथ पूछताछ कर रही है।'

'निकिता से नाराज चल रहा था तौसीफ'
रिपोर्ट के मुताबिक जांच से जुड़े एक पुलिस अधिकारी ने नाम उजागर न करने की शर्त पर कहा कि पूछताछ में तौसीफ ने पुलिस को बताया है कि उसे संदेह था कि निकिता का संबंध किसी और छात्र के साथ चल रहा है और इस बारे में उसने बात करने की कोशिश की लेकिन वह उसका फोन नहीं उठा रही थी और उसे वाट्सअप पर भी ब्लॉक कर दिया था। इससे वह नाराज हो गया और निकिता की हत्या करने की साजिश रची।

दोस्तों ने आरोपी की पीछा करने की कोशिश की
पुलिस अधिकारी सिंह का कहना है कि घटना के बाद निकिता के दो दोस्तों ने तौसीफ का पीछा करने की कोशिश की थी लेकिन वे उस तक पहुंच नहीं पाए। यह पूरा घटनाक्रम सीसीटीवी में रिकॉर्ड हुआ है। बता दें कि सोमवार को निकिता की हत्या उस समय हुई जब पेपर देकर कॉलेज से लौट रही थी। तौसीफ अपने दोस्त रेहान के साथ कॉलेज के बाहर निकिता का इंतजार कर रहा था और जब वह वहां पहुंची तो तौसीफ ने जबरन उसे कार में बिठाने की कोशिश की। निकिता ने जब इसका विरोध किया तो तौसीफ ने उसे करीब से गोली मार दी। 

'लव जिहाद' का आरोप
निकिता के परिवार वालों ने तौसीफ पर 'लव जिहाद' का आरोप लगाया है। हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने 'लव जिहाद' मामले की जांच करने का भरोसा दिया है। फरीदाबाद से सांसद एवं मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने बुधवार को पीड़ित परिवार से मुलाकात की और उन्हें मदद का भरोसा दिया।  

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर