Suresh Raina’s Uncle: क्रिकेटर सुरेश रैना के अंकल का हत्यारा 11 महीने की कवायद के बाद चढ़ा पुलिस के हत्थे

क्राइम
रवि वैश्य
Updated Jul 19, 2021 | 11:02 IST

Suresh Raina’s uncle murder update: पंजाब के पठानकोट में क्रिकेटर सुरेश रैना के फूफा के घर डकैती डालकर उनकी हत्या करने में बांछित अभियुक्त बरेली से गिरफ्तार कर लिया गया।

Mastermind who killed Cricketer Suresh Raina’s uncle in Punjab held in bareilly UP
सुरेश रैना के फूफा का हत्यारा छज्जू उर्फ छैमार बरेली से दबोचा गया 

मुख्य बातें

  • आरोपी गिरफ्तारी से बचने के लिए बरेली के बहेड़ी में अपने गांव में छुपकर रह रहा था
  • एसटीएफ ने इस सूचना को पंजाब पुलिस से शेयर किया
  •  छज्जू उर्फ छैमार नामक व्यक्ति को उसके गांव से गिरफ्तार कर लिया

नई दिल्ली:  भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी सुरेश रैना के फूफा की हत्या (Suresh Raina’s uncle murder) में शामिल एक आरोपी को संडे को उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (STF) और पंजाब पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी गिरफ्तारी से बचने के लिए अपने गांव में छुपकर रह रहा था।

एसटीएफ के अपर पुलिस अधीक्षक सत्य सेन यादव ने बताया कि एसटीएफ की बरेली क्षेत्रीय इकाई को सूचना मिली थी कि पंजाब के पठानकोट में क्रिकेटर सुरेश रैना के फूफा अशोक कुमार के घर में घुसकर डकैती डालने और कुमार की हत्या करने वाले गिरोह का एक सदस्य बरेली जिले के बहेड़ी थाना क्षेत्र स्थित अपने गांव पचपेड़ा में छुप कर रह रहा है।

उन्होंने बताया कि एसटीएफ ने इस सूचना को पंजाब पुलिस से साझा किया और उसकी एक टीम के साथ संयुक्त अभियान में छज्जू उर्फ छैमार नामक व्यक्ति को उसके गांव से गिरफ्तार कर लिया।

उल्लेखनीय है कि क्रिकेटर सुरेश रैना के फूफा अशोक कुमार के पठानकोट के फरियाल गांव में स्थित मकान में 19/20 अगस्त 2020 की रात को घर में घुसे लुटेरों ने छत पर चढ़कर वहां सो रहे लोगों को डंडों से पीटा था। गंभीर रूप से घायल अशोक कुमार की मौके पर ही मौत हो गई थी जबकि उनके बेटे कौशल कुमार ने बाद में अस्पताल में दम तोड़ दिया था।

क्षेत्र में महिलाओं के साथ घूम कर रेकी करते थे

छज्जू उर्फ छैमार ने पूछताछ में एसटीएफ को बताया कि वह और उसके साथी मोहब्बत, शाहरुख, राशिद, आमिर और तीन महिलाओं के साथ शाहपुर कौड़ी पंजाब में रहकर चादर व फूल बेचते थे। उसने एसटीएफ को बताया कि इन लोगों के पास एक टेंपो था जिससे वे क्षेत्र में महिलाओं के साथ घूम कर रेकी करते थे। 

महिलाएं फूल बेचने के बहाने अशोक कुमार के घर में घुस गईं

उसने एसटीएफ को बताया कि महिलाएं वारदात वाले दिन फूल बेचने के बहाने अशोक कुमार के घर में घुस गई और जानकारी इकट्ठा कर ली इसके बाद अपने गिरोह के सदस्यों को सारी जानकारी दे दी। छज्जू ने बताया कि रात में उसके गिरोह के सदस्य वारदात को अंजाम देकर घर में रखा जेवर और नकदी लूट कर भाग गए।

छज्जू ने बताया कि वारदात के बाद वह वहां से भागकर हैदराबाद चला गया और कुछ दिन बाद वहां से लौटकर बरेली स्थित अपने गांव आकर रहने लगा था।

ट्वीट साभार- Kishor Dwivedi_Twitter
 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर