शोएब अख्तर ने बाबर आजम को दी नसीहत, बताया कैसे बनेंगे इमरान खान जैसे सफल कप्तान  

शोएब अख्तर(Shoaib Akhtar) ने बताया है कि पाकिस्तान के सीमित ओवरों की टीम के नव नियुक्त कप्तान बाबर आजम(Babar Azam) को इमरान खान(Imran Khan) जैसा सफल कप्तान बनने के लिए करने होंगे कौन से काम।

Babar Azam
Babar Azam 

मुख्य बातें

  • शोएब अख्तर ने बताया बाबर आजम को सफल कप्तान बनने के लिए करने वाले कौन से बदलाव
  • शोएब की सलाह का राशिद लतीफ ने भी किया है समर्थन
  • शोएब ने कहा कि बाबर को अभी बहुत सी चीजें साबित करनी है

लाहौर: पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर अपनी सटीक टिप्पणी के लिए जाने जाने लगे हैं। वो क्रिकेट के किसी भी मसले पर खुलकर अपनी राय रखते हैं। इस वजह से वो लगातार सुर्खियों में भी बने रहते हैं। शोएब ने इस बार बयान सीमित ओवरों की टीम के नए कप्तान बाबर आजम को लेकर दिया है। 

शोएब अख्तर ने बाबर आजम को इमरान खान जैसा सफल कप्तान बनने के लिए नसीहत दी है। इस दौरान उन्हें पाकिस्तान के विकेटकीपर राशिद लतीफ का भी साथ मिला। इन दोनों ने एक सुर में कहा कि बाबर आजम को इमरान खान जैसा सफल कप्तान बनने के लिए अपने व्यक्तित्व में भी उनके जैसा बदलाव करना होगा। 

इमरान से सीखें व्यक्तित्व का पाठ
अख्तर ने इस बारे में कहा,  बाबर आजम, इमरान खान की तरह के कप्तान बनाना चाहते हैं, लेकिन इसका मतलब सिर्फ यह नहीं है कि यह केवल क्रिकेट से जुड़ी बात है बल्कि उन्हें इमरान खान की किताब में से व्यक्तित्व का पाठ भी सीखना चाहिए।

शोएब ने आगे कहा, उन चीजों के बारे में बात मत करो जिनके बारे में हम पिछले 10 साल से बात कर रहे हैं। हमें यह पसंद नहीं है। बाबर को अपने बातचीत के तरीके, अपने व्यक्तित्व, सामने से नेतृत्व करने की क्षमता, फिटनेस आदि चीजों पर काम करना होगा। मुझे लगता है कि उन्हें अभी काफी कुछ साबित करना है।

कप्तान बनने के बाद करना चाहिए था ऐसा
अख्तर की बात का राशिद लतीफ ने भी समर्थन किया। उन्होंने कहा, जब कप्तान प्रेस कॉन्फ्रेंस में बैठा हो तो वह अपने विजन के बारे में बात करता है, लेकिन इस चीज की कमी है। हमारे कप्तान ऐसी चीजों के बारे में बात कर रहे हैं जिनके बारे में हम पहले से ही जानते हैं, जैसे कि भाषा की परेशानियां, विराट कोहली से तुलना।उन्होंने कहा, बाबर को दी गई स्क्रिप्ट से इतर एक मजबूत बयान देना चाहिए था। आपने पहले ही बता दिया की आपकी मानसिकता और दृष्टिकोण सही नहीं है।

अगली खबर