On This Day: नर्वस थे वीरेंद्र सहवाग, सचिन तेंदुलकर ने कहा कुछ ऐसा कि दुनियाभर में बजा वीरू का डंका

Virender Sehwag: 'नजफगढ़ के नवाब' वीरेंद्र सहवाग ने आज ही के दिन अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में डेब्‍यू किया था। वीरू को सचिन तेंदुलकर ने कुछ ऐसा कहा, जिससे उनमें जोश आया और फिर दुनिया में उनकी तूती बोली।

virender sehwag and sachin tendulkar
वीरेंद्र सहवाग और सचिन तेंदुलकर 

मुख्य बातें

  • वीरेंद्र सहवाग ने आज ही के दिन 2001 में टेस्‍ट डेब्‍यू किया था
  • वीरेंद्र सहवाग ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ब्‍लोएमफोंटीन में पहला टेस्‍ट खेला
  • वीरेंद्र सहवाने ने अपने डेब्‍यू टेस्‍ट में शतक जमाया था

नई दिल्‍ली: 'नजफगढ़ के नवाब', 'मुल्‍तान के सुल्‍तान', टेस्‍ट क्रिकेट की परिभाषा बदलने वाला, विस्‍फोटक बल्‍लेबाज, आक्रामक वीरू, गेंदबाजों के लिए बुरा सपना और न जाने किस-किस नाम से टीम इंडिया के पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग को जाना जाता है। मगर इन सभी की शुरूआत किस दिन से हुई थी? ये दिन भारतीय क्रिकेट इतिहास के सबसे खास पलों में से एक है। जी हां, बल्‍लेबाजी को नया रूप देने के लिए पहचाने जाने वाले वीरेंद्र सहवाग ने आज ही के दिन यानी 3 नवंबर 2001 को अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में डेब्‍यू किया था। 

ब्‍लोएमफोंटीन का मैदान था जहां वीरू ने अपने टेस्‍ट करियर का आगाज किया। दक्षिण अफ्रीका के मजबूत तेज गेंदबाजी आक्रमण के सामने भारतीय बल्‍लेबाजी ढहती हुई नजर आ रही थी। तब बारी आई युवा वीरेंद्र सहवाग की। उन्‍हें जिम्‍मेदारी से खेलना था क्‍योंकि भारतीय टीम ने जल्‍दी-जल्‍दी विकेट गंवाए थे। जब सहवाग क्रीज पर उतरे तब टीम इंडिया ने 68 रन पर चार विकेट गंवा दिए थे। युवा वीरेंद्र सहवाग नर्वस थे। ऐसा हर युवा के साथ डेब्‍यू टेस्‍ट में आमतौर पर होता भी है।

सचिन तेंदुलकर के शब्‍दों ने भरा जोश

नर्वस सहवाग को रिसीव करने के लिए सचिन तेंदुलकर बाउंड्री के पास तक आ गए थे। उन्‍होंने सहवाग से बस इतना कहा, 'मुझे पता है कि तुम घबराए हुए हो। तुम दोबारा कभी इतना नहीं घबराओगे। तो इस पल का आनंद उठाओ।' सहवाग ने अपने आदर्श सचिन तेंदुलकर की बात सुनी तो जोश से भर गए। फिर दुनिया ने सहवाग का अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में धमाकेदार शंखनाद देखा। वीरू ने निडर होकर प्रोटियाज गेंदबाजों का सामना किया और 173 गेंदों में 19 चौकों की मदद से 105 रन बना दिए।

सहवाग के लिए खास बात यह थी कि पहले ही टेस्‍ट में उन्‍हें अपने आदर्श सचिन तेंदुलकर के साथ खेलने का मौका मिला। सचिन तेंदुलकर ने बेशक लीडर की भूमिका निभाई और 184 गेंदों में 23 चौके व एक छक्‍के की मदद से 155 रन बनाए। सहवाग ने तेंदुलकर के साथ मिलकर भारत को बुरी स्थिति से उबारते हुए पांचवें विकेट के लिए 220 रन की साझेदारी कर डाली। विश्‍व क्रिकेट ने वीरू का डंका बजते देख लिया था। वीरेंद्र सहवाग डेब्‍यू टेस्‍ट में शतक जमाने वाले 11वें भारतीय बल्‍लेबाज बने थे।

टीम इंडिया मैच नहीं जीत सकी

वीरेंद्र सहवाग का डेब्‍यू क्रिकेट फैंस के लिए स्‍पेशल जरूर बना, लेकिन मैच के नतीजे ने उन्‍हें निराश कर दिया। बता दें कि दक्षिण अफ्रीका के कप्‍तान शॉन पोलक ने टॉस जीतकर भारत को पहले बल्‍लेबाजी के लिए आमंत्रित किया था। भारत की पहली पारी 95.1 ओवर में 379 रन पर ऑलआउट हुई थी। जवाब में दक्षिण अफ्रीका ने 143 ओवर में 563 रन बनाए और पहली पारी के आधार पर 184 रन की बढ़त बनाई। इसके बाद शॉन पोलक (6 विकेट) की कहर बरपाती गेंदों के सामने भारत की दूसरी पारी 69.4 ओवर में 237 रन पर सिमट गई। दक्षिण अफ्रीका को जीत के लिए 54 रन का लक्ष्‍य मिला, जिसे उसने 14.4 ओवर में एक विकेट खोकर हासिल कर लिया था।

मैच का परिणाम भले ही भारत के पक्ष में न रहा हो, लेकिन उस दिन एक ऐसे बल्‍लेबाज की खोज पूरी हुई, जिसने पूरी दुनिया में ढेरो रन बनाकर देश का नाम रोशन किया। वीरेंद्र सहवाग ने 104 टेस्‍ट भारत के लिए खेले, जिसमें 23 शतक और 32 अर्धशतकों की मदद से 8586 रन बनाए। वो टेस्‍ट क्रिकेट में दो तिहरे शतक जमाने वाले एकमात्र भारतीय बल्‍लेबाज हैं। इसके अलावा वीरू ने 251 वनडे में 15 शतक और 38 अर्धशतक की मदद से 8273 रन बनाए।

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर