इंग्लैंड से लौटते ही गिर सकती है मिस्बाह-उल-हक पर गाज, छोड़ना पड़ेगा ये पद  

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के इंग्लैंड दौरे पर खराब प्रदर्शन के बाद टीम के मुख्य कोच और चयनकर्ता मिस्बाह उल हक के ऊपर गाज गिरने की संभावना है। पीसीबी ने उन्हें दोहरी जिम्मेदारी से मुक्त करने का फैसला कर लिया है।

Misbah ul haq
मिस्बाह उल हक  |  तस्वीर साभार: Twitter

मुख्य बातें

  • मिस्बाह उल हक को दी जा सकती है दोहरी जिम्मेदारी से मुक्ति
  • पीसीबी की इंग्लैंड दौरे पर मिस्बाह के काम पर थी पैनी नजर
  • टीम के इंग्लैंड से लौटने के बाद पीसीबी कर सकता है बड़ा फैसला, एक पद से हो सकती है मिस्बाह की छुट्टी

कराची: इंग्लैंड दौरे पर संघर्ष कर रही पाकिस्तानी टीम के स्वदेश लौटने के बाद टीम के मुख्य चयनकर्ता और कोच मिस्बाह उल हक के ऊपर गाज गिर सकती है। दोहरी जिम्मेदारी निभा रहे मिस्बाह को मुख्य चयनकर्ता का पद छोड़ने के लिए कहा जा सकता है। पीसीबी के अधिकारी इस काम के लिए नए व्यक्ति की नियुक्ति पर विचार कर रहे हैं।

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के सूत्रों के अनुसार मुख्य चयनकर्ता के रूप में मिसबाह की जगह लेने के लिए एक हाई प्रोफाइल पूर्व तेज गेंदबाज के नाम पर विचार चल रहा है। सूत्र ने पीटीआई को बताया, 'पीसीबी को अब लगता है कि यही सर्वश्रेष्ठ होगा कि मिस्बाह पर बोझ को कम किया जाए और उन्हें मुख्य कोच के काम पर ध्यान लगाने दिया जाए क्योंकि अगले तीन साल में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की कई महत्वपूर्ण प्रतियोगिताएं होनी हैं।'

उन्होंने कहा, 'पीसीबी के सीईओ वसीम खान भी हाल में इंग्लैंड में थे और उन्होंने देखा कि मिस्बाह दोनों जिम्मेदारियों को कैसे निभा रहे हैं। वसीम ने भी इंग्लैंड में मिसबाह से बात की और अब बोर्ड के पास नया चयनकर्ता नियुक्त करने का विकल्प है।'

पहली बार एक व्यक्ति को दी गई दोहरी जिम्मेदारी
सूत्र ने कहा, पिछले साल जब मिस्बाह को शुरुआत में टीम का हेड कोच और चीफ सेलेक्टर नियुक्त किया गया था तो पाकिस्तान के क्रिकेट इतिहास में पहली बार हुआ था कि किसी एक व्यक्ति को दोहरी जिम्मेदारी दी गई। उस वक्त भी ये कयास लगाए गए थे कि पूर्व कप्तान मिस्बाह क्या दोनों भूमिकाओं के साथ न्याय कर पाएंगे?

पूर्व तेज गेंदबाज बन सकता है नया मुख्य चयनकर्ता 
उन्होंने कहा, नया मुख्य चयनकर्ता चुनने के मामले पर विचार किया जा रहा है बोर्ड चयन प्रक्रिया को और जीवंत बनाना चाहता है। पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज को ये जिम्मेदारी दी जा सकती है वो खिलाड़ी खुलकर अपने विचार रखने के लिए जाना जाता है। वो अपने दिनों में स्टार खिलाड़ी रहा है। इंग्लैंड की सीरीज खत्म होने के बाद उस खिलाड़ी के साथ चर्चा करके इस बारे में अंतिम निर्णय किया जाएगा।'

इंग्लैंड दौरे पर दबाव में नजर आए मिस्बाह
पीसीबी सूत्र के अनुसार बोर्ड ने इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के दौरान टीम की चयन प्रक्रिया पर पैनी नजर रखी थी और उसे ऐसा महसूस हुआ कि मिस्बाह दबाव का अच्छी तरह सामना नहीं कर पाए। उन्होंने कहा, सबको लगता है कि तीसरे टेस्ट मैच में तीसरे तेज गेंदबाज को शामिल किया जाना चाहिए था साथ ही एक गेंदबाज को रोटेट किया जाना चाहिए था लेकिन मिस्बाह सोशल मीडिया की वजह से दबाव में आ गए और उन्होंने फवाद आलम को एकादश में बरकरार रखा।'



चयन समिति में किए हैं अहम बदलाव
बोर्ड ने हार ही में चयन समिति में कुछ अन्य पूर्व खिलाड़ियों को शामिल किया है जिसमें पूर्व टेस्ट क्रिकेटर बासित अली, फैजल इकबाल और अब्दुल रज्जाक के नाम शामिल हैं। 

अजहर अली की कप्तानी पर फिलहाल नहीं है खतरा
सूत्र ने ये भी कहा कि फिलहाल अजहर अली की कप्तानी पर कोई खतरा नहीं है। उन्होंने कहा, सीरीज के बाद अजहर को कप्तानी से हटाए जाने के बात हो रही है लेकिन ऐसा नहीं होगा क्योंकि पीसीबी ने उन्हें 12 महीने के लिए टेस्ट टीम का कप्तान नियुक्त किया था। इंग्लैंड की सीरीज के बाद अजहर के पास घरेलू क्रिकेट में खेलने का मौका है जहां वो अपना फॉर्म हासिल करके कप्तानी जारी रख सकते हैं।'

सूत्र ने आगे कहा, इसी तरह बाबर आजम को भी सीमित ओवरों की क्रिकेट का कप्तान 12 महीने के लिए नियुक्त किया है। बाबर आजम का कार्यकाल ज्यादा अहम है क्योंकि पाकिस्तान आगामी टी20 और वनडे विश्व कप की तैयारी में जुटा है। 
(एजेंसी इनपुट के साथ)

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर